Migraine: माइग्रेन से होने वाले दर्द से परेशान हैं? यदि हां तो अपनाएं यह 10 घरेलू उपाय व उपचार तुरंत मिलेगा आराम | 10 Best Home Remedies and Treatments for Migraine in Hindi

Must Read

Dr. Arti Sharma
Dr. Arti Sharmahttp://goodswasthya.com
Dr. Arti Sharma is a certified BAMS doctor with at least 2 years of article writing experience on various medication and therapeutic lines. She is known for her best work in ayurvedic medication knowledge and there uses. Her hobbies including reading books and writing articles. With a good grip in sports, she uses to play for her university cricket team as a captain. Her work for ayurvedic is well known. डॉ आरती शर्मा एक प्रमाणित BAMS डॉक्टर है जिन्हे कम से कम 2 साल का विभिन्न दवाइयों और चिकित्सीय रेखाओं पर लेखन का अनुभव है। वह आयुर्वेदिक दवाओं के ज्ञान और उनके उपयोग में अपने बेहतरीन काम के लिए जानी जाती हैं। उनका शौक किताबें पढ़ना और लिखना है। खेलों में अच्छी पकड़ के साथ, वह एक कप्तान के रूप में अपनी विश्वविद्यालय क्रिकेट टीम के लिए खेल चुकी हैं। आयुर्वेद के क्षेत्र में उनका काम अच्छी तरह से जाना जाता है।
Migraine Home Remedies in Hindi Table Of Content

Migraine: माइग्रेन से होने वाले दर्द से परेशान हैं? यदि हां तो अपनाएं यह 10 घरेलू उपाय व उपचार तुरंत मिलेगा आराम | 10 Best Home Remedies and Treatments for Migraine in Hindi

माइग्रेन सर दर्द का एक तरह का प्रकार होता है जो मस्तिष्क में तंत्रिका तंत्र के विकार के कारण उत्पन्न होता है। आमतौर पर माइग्रेन आधे सिर में बार-बार होने वाला दर्द होता है जो केवल सिर के आधे हिस्से को ही प्रभावित करता है। इसी वजह से इसे अधकपारी भी कहा जाता है। कई बार यह दर्द इतना बढ़ जाता है कि यह पूरे सिर को प्रभावित करता है।

माइग्रेन की स्थिति होने पर उल्टी प्रकाश मतली तथा ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता बढ़ जाती है। माइग्रेन के आक्रमण की अवधि लगभग 2 घंटे की भी हो सकती है एवं यह 72 घंटे तक भी रह सकता है। वैसे तो माइग्रेन होने का मुख्य एवं सही कारण के बारे में सही-सही पता नहीं लग पाया है परंतु इस माइग्रेन की स्थिति को अनुवांशिक माना जाता है।

वैज्ञानिकों के अध्ययन के मुताबिक माइग्रेन एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर होता है जिससे वैश्विक स्तर पर हर 10 व्यक्ति में सातवां व्यक्ति पीड़ित होता है। भारत मैं लगभग 15 करोड़ से भी अधिक लोग माइग्रेन जैसी बीमारी से पीड़ित है। भारतीय महिलाएं सबसे अधिक इस बीमारी के गिरफ्त में आती है। प्रत्येक 24 फ़ीसदी पुरुषों की तुलना में 76 फ़ीसदी महिलाएं माइग्रेन जैसी बीमारी से ग्रस्त हो जाती है। भारत में 18 से 29 वर्ष के बच्चों के बीच लगभग 35 फीसदी युवा माइग्रेन जैसी बीमारी से पीड़ित है।

मरीजों में कम से कम 30 फ़ीसदी मरीज क्रॉनिक की स्थिति वाले हैं। माइग्रेन से ग्रस्त लोगों में 46 फीसदी में उपवास 70 फ़ीसदी में मानसिक तनाव 52 फ़ीसदी में यात्रा 13 फ़ीसदी में मानसिक धर्म की अनियमितता 10 फिसदी में मौसम का बदलाव 44 फिसदी में नींद की गड़बड़ी दर्द का सबसे विशेष कारण बनते दिखाई देते हैं। इन मरीजों में केवल 34 फ़ीसदी मरीजों को ही दौरे पड़ने के पीछे कोई आने विशेष कारण शामिल होते हैं। लोगों की उम्र बढ़ने के साथ-साथ माइग्रेन का दर्द कम होने लगता है।

माइग्रेन क्या होता है? (What is Migraine?)

माइग्रेन क्या होता है? (What is Migraine?)

वैज्ञानिकों के अनुसार लाइफस्टाइल तथा डाइट की वजह से पीत कफ तथा वात की स्थिति में बदलाव होने पर माइग्रेशन अलग-अलग तरह के लक्षणों के साथ इसका प्रमुख कारण बनते हैं। वात के कारण सर में दर्द होने पर न्यूरोलॉजी से संबंधित समस्याएं अधिक बढ़ जाती है। ट्राईगेमिनल नर्व में मस्तिष्क के रसाईयन तथा न्यूरोकेमिकल मैं बदलाव खास तौर पर सेरोटोनिन में असंतुलन की स्थिति उत्पन्न होने से माइग्रेन होता है।

सेरोटोनिन का स्तर अधिक कम हो जाने से न्यूरोपेप्टाइड का स्राव मस्तिष्क के बाहरी हिस्सों तक पहुंचकर माइग्रेन की स्थिति को उत्पन्न करता है। लंबे समय तक दर्द होने पर काफी अधिक समय के बाद सर दर्द की स्थिति से आराम मिलता है। न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का असर केवल दिमाग पर ही नहीं बल्कि कान तथा गर्दन पर भी पड़ता है इसी वजह से ब्रेन का सिटी स्कैन या m.r.i. करवाने पर ही इसके असली वजह का पता चल पाता है।

Stone : जाने पथरी को दूर करने का बेहद शानदार 25 घरेलु उपचार एवं उपाय , ये पथरी की समस्या को आसानी से कर सकते हैं गायब | 25 Best Treatments and Home Remedies For Stone in Hindi

दोस्तों क्या आपको यह जानकारी है कि माइग्रेन मुख्य तौर पर दो प्रकार के होते हैं पहला क्लासिक माइग्रेन तथा दूसरा नॉन क्लासिक माइग्रेन। क्लासिक माइग्रेन मैं कई सारे लक्षण ऐसे होते हैं जिनसे आपको संकेत मिल जाता है कि आपको माइग्रेन का दौरा पढ़ने वाला है या पढ़ चुका है जैसे कि आपके सिर दर्द की शुरुआत से पहले हल्का धुंधला दिखाई पड़ना कुछ लक्षणों में कंधे में जलन तथा जकड़न देखने को मिलती है।

प्लास्टिक माइग्रेन की स्थिति में रक्त वाहिनी हल्की-हल्की सिकुड़ने लगती है ऐसी स्थिति में तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना आवश्यक होता है। उसी प्रकार नॉन क्लासिक माइग्रेन में समय-समय पर सिर में तेज दर्द होता है परंतु अन्य कोई लक्षण दिखाई नहीं पड़ते हैं। ऐसी स्थिति में सिर दर्द की शुरुआत होने पर दर्द निवारक दवा लेना विशेष आवश्यक होता है तथा यह जल्द ही माइग्रेन की स्थिति में आराम दिलाता है।

Home Remedies for Migraine ( माइग्रेन के लिए घरेलू उपाय )

मुख्य तौर पर सभी लोग माइग्रेन की समस्या होने पर इससे निजात पाने के लिए सबसे पहले घरेलू नुस्खों को ही आजमाते हैं। कई घरेलू नुस्खे ऐसे होते हैं जिनके उपयोग से इस दर्द से तुरंत आराम मिल जाता है। यहां पर आज हम पतंजलि के प्रसिद्ध विशेषज्ञों द्वारा पारित किए गए कुछ ऐसे घरेलू उपाय के बारे में बताएंगे जिनके सेवन से माइग्रेन की बीमारी से आसानी से आराम मिल जाएगा।

Benefit of Ice pack to Get Relief from Migraine in Hindi (आइस पैक माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

माइग्रेन के कारण मांस पेशियों मैं सूजन हो जाता है इसलिए इसे रिलैक्स करने के लिए आइस पैक काफी असरदार साबित होता है। एक साफ टॉवल में इसके कुछ टुकड़ों को रख लें तथा उससे गर्दन के पीछे सिर माथे आदि पर 10 से 15 मिनट के लिए सिकाई करें। आइस पर पिपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदों को डालने से इससे बहुत जल्दी असर होने लगता है। जब भी जरूरत पड़े आप इस उपयोग को आजमा सकते हैं।

Benefit of Peppermint to Get Relief from Migraine in Hindi (पिपरमिंट माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

10 Best Home Remedies and Treatments for Migraine in Hindi

सूजन को कम करने में पिपरमिंट काफी असरदार होता है। साथ ही साथ पिपरमिंट मन को स्थिर तथा शांत रखने में भी मददगार सिद्ध होता है। आप चाहे तो पिपरमेंट की चाय पी सकते हैं या फिर पिपरमेंट के तेल की कुछ बूंदों को एक चम्मच में शहद के साथ आधे गिलास पानी में अच्छी तरीके से मिलाकर भी इसे आप पी सकते हैं। पिपरमिंट ऑयल से माथे तथा सिर में 20 से 25 मिनट के लिए मालिश करने से सर दर्द मैं आराम मिलता है।

Benefit of Apple Cider Vinegar to Get Relief from Migraine in Hindi (सेब का सिरका माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

एप्पल सिडार विनेगर या फिर हम इसे सेब का सिरका भी कह सकते हैं यह माइग्रेन में राहत दिलाने का कार्य करता है। एक छोटा चम्मच सेब का सिरका तथा एक चम्मच शहद को एक गिलास पानी में डालकर लगभग 30 दिनों तक लगातार पीने से माइग्रेन जैसी बीमारी में राहत मिलती है। जब भी आपको माइग्रेन हो या फिर होने की आशंका दिखे तो दो से तीन चम्मच करके इसका सेवन करें।

ऐसा करने से जहां आप से शरीर को साफ करता है तथा शुगर और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी को भी कंट्रोल करने का कार्य करता है साथ ही साथ यह हड्डियों तथा जोड़ों के दर्द मेरा हाथ दिलाता है एवं वजन को कम करने का भी कार्य करता है। यदि आपके पास सेव का सिरका उपलब्ध नहीं है तो इसके बदले में आप रोजाना एक सेब का सेवन भी कर सकते हैं। इसके साथ ही साथ ग्रीन एप्पल को सूंघना भी काफी फायदेमंद होता है।

Benefit of Lavender Oil to Get Relief from Migraine in Hindi (लैवेंडर का तेल माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

लैवेंडर का तेल माइग्रेन के दर्द तथा सामान सिरदर्द दोनों के लिए काफी फायदेमंद घरेलू इलाज है। लोगों का यह मानना है कि लैवेंडर के तेल की खुशबू माइग्रेन के लिए काफी प्रभावशाली सिद्ध होती है। लैवेंडर के तेल की कुछ बूंदों को गर्म पानी में डालकर सूंघने से माइग्रेन जैसी बीमारी से बेहद आराम मिलता है।

Benefit of Tulsi Oil to Get Relief from Migraine in Hindi (तुलसी का तेल माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

आमतौर पर आप सभी लोग तुलसी के प्राकृतिक गुणों से तो परिचित है ही परंतु आज हम आपको यह बात बताएंगे कि माइग्रेन के दर्द में तुलसी का तेल काफी प्रभावशाली साबित होता है। तुलसी के तेल का इस्तेमाल करने से माइग्रेन के सर दर्द में काफी फायदा होता है। तुलसी का तेल मांसपेशियों को भी आराम पहुंचाने का कार्य करता है जिससे शरीर का तनाव कम होता है तथा सिर दर्द से भी राहत मिलती है।

10 Best Home Remedies and Treatments for Migraine in Hindi
image source :- http://www.canva.com

Chages in Daily Diet to Get Relief from Migraine in Hindi (दैनिक आहार में बदलाव माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

माइग्रेन के दर्द तहसील के साधारण दर्द को कम करने के लिए आपको सबसे पहले अपने दैनिक आहार में कुछ परिवर्तन करने की आवश्यकता है। माइग्रेन से पीड़ित मरीज को किसी साधारण मक्खन की जगह पर पीनट बटर यानी कि मूंगफली से बने हुए मक्खन का उपयोग करना चाहिए। साथ ही साथ एवोकाडो अकेला तथा खट्टे फल आदि के इस्तेमाल से भी माइग्रेन के दर्द को ठीक करने में फायदा मिलता है।

Head Massage to Get Relief from Migraine in Hindi (सिर की मालिश माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

दोस्तों कई लोगों का यह कहना है कि शरीर के तनाव को दूर करने के लिए सर की मालिश करना बहुत कारगर साबित होता है । माइग्रेन से होने वाले दर्द को कम करने के लिए अपने सर के पीछे के हिस्से में हल्का-हल्का मालिश करने से माइग्रेन के दर्द में आराम मिलता है एवं इसके साथ साथ हाथों तथा पैरों की भी मालिश करनी चाहिए ऐसा करने से शरीर में रक्त संचार की क्रिया और अधिक बढ़ती है।

Heatstroke: -यदि में गर्मी लू से बचना चाहते हैं, तो अपनाएं यह 22 बेहद असरदार घरेलू उपाय | Tips and 22 Best home remedies for Heatstroke In Hindi

Ginger to Get Relief from Migraine in Hindi (अदरक माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

माइग्रेन के दौरान होने वाले लक्षण जैसे उल्टी जी मिचलाना आदि से अदरक राहत दिलाने का कार्य करता है। इसके अलावा भी अदरक से दर्द एवं सूजन की समस्या कम होती है। अदरक को अच्छी तरह से छीलकर उसके टुकड़े को गर्म पानी में उबालकर उसे कुछ देर के लिए ठंडा होने के लिए छोड़ दें। ठंडा होने के बाद उस पानी में नींबू की कुछ बूंदे एवं शहद को मिलाकर पीने से काफी लाभकारी होता है।

Coffee to Get Relief from Migraine in Hindi (कॉफी माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

कई लोगों को माइग्रेन का तेज दर्द होने से कॉफी पी लेने पर तुरंत आराम मिल जाता है। कॉफी में कैफ़ीन माइग्रेन मौजूद होता है जो एडिनोसिन के प्रभाव को कम करने का कार्य करता है। ज्यादातर कैफीन युक्त पदार्थ हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं परंतु एक कप कॉफी पीने से स्वास्थ्य को लाभ पहुंचता है।

10 Best Home Remedies and Treatments for Migraine in Hindi

Coriander to Get Relief from Migraine in Hindi (धनिया माइग्रेन से राहत दिलाने में फायदेमंद)

आज के समय में लगभग प्रत्येक घरों में धनिया का इस्तेमाल किया जाता है। धनिया विशेष रूप से खाने में स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ खाने को अच्छी तरह से बचाने का भी कार्य करता है। धनिया स्वादिष्ट खाना बनने वाले मसालों में सबसे बेहतरीन समझा जाता है साथ ही साथ धनिया का प्रयोग प्राचीन काल से सिर दर्द तथा माइग्रेन के दवा के रूप में इलाज के तौर पर किया जाता है। माइग्रेन के तेज सिर दर्द में धनिया के बीजों से बनी चाय पीने से यह दर्द में काफी लाभकारी साबित होता है।

Conclusion

हमें उम्मीद है कि अर्धकपारी ( migraine) क्या होता है एवं इसके लिए कौन-कौन से घरेलू उपाय (Home Remedies for Migraine) हमारे लिए फायदेमंद है। इससे संबंधित जानकारी हमने आज के इस आर्टिकल में आपके लिए उपलब्ध करवाई हैं । Migraine जैसे दर्द से निजात पाने के लिए हमने कई सारे घरेलू उपायों ( Home Remedies) की चर्चा की है जो आपको सिर दर्द से राहत पाने में मदद करेंगे ।

यदि आप भी सिरदर्द से संबंधित विषय के बारे में कुछ अन्य सुझाव को हमारे सामने प्रस्तुत करना चाहते हैं तो उसे नीचे हमारे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें बताना ना भूले । इसके साथ साथ सिरदर्द से संबंधित जानकारी आपको कैसी लगी उसे हमें हमारे कमेंट बॉक्स पर लिख कर जरूर बताएं ताकि हम आपके लिए और भी तरह तरह की जानकारियों से भरे पोस्ट ला सकें। धन्यबाद……

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This