चेचक या Chickenpox क्या है इसके के लक्षण, कारण और कारगर घरेलू इलाज | What is Chickenpox its symptoms, causes and best Home Remedies

Must Read

Dr. Pranav Bhardwaj
Dr. Pranav Bhardwajhttp://www.goodswasthya.com
Pranav Bhardwaj has been in health blogging for the last couple of years with writeups for different magazines and articles. He holds a Doctor of Pharmacy ( PharmD ) degree and having experience in drug administration and control drug delivery system. His hobbies include Reading magazines, Netflixing. Pranav is a very calming person and you will always enjoy his company and is a charm to talk to.

Chickenpox Kya Hota Hai जानिए Chickenpox Ke Lakshan, Karan और Gharelu Upay?

आपने चिकन पॉक्स के बारे में तो सुना ही होगा चिकन पॉक्स जी से चेचक भी कहते हैं या फिर छोटी माता बड़ी माता के नाम से भी जाना जाता है यह बीमारी अक्सर बचपन में या फिर बड़े होने पर हर एक व्यक्ति को कभी ना कभी जरूर होती है और वैसे देखा जाए तो यह बीमारी कुछ भी नहीं है परंतु इस बीमारी में यदि आप खास बातों का विशेष रूप से ध्यान नहीं रखते तो आपकी जान भी जा सकती है।

इसलिए आज हम यह पोस्ट लेकर आए हैं इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको चिकन पॉक्स से संबंधित सभी जानकारी विस्तार से देंगे ताकि आप चिकन पॉक्स होने पर जगह-जगह भटकते न फिरे जैसे कि कुछ लोग चेचक होने पर ज्यादा लग जाते हैं या फिर पीर फकीरों के पास जाते हैं परंतु आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको इसका सही इलाज बताएंगे आज इस आर्टिकल में आपको चेचक के बारे में जानने को मिलेगा कि:-

  • Chickenpox क्या होता है – What Is Chickenpox In Hindi?
  • Chickenpox के लक्षण – Symptoms Of Chickenpox In Hindi?
  • Chickenpox क्यों होता है – Causes Of Chickenpox In Hindi?
  • Chickenpox के घरेलु उपाय हिंदी में – Home Remedies of Chickenpox In Hindi?
  • Chickenpox से संबंधित कुछ चेतावनीयां –  Some warnings related to Chickenpox In Hindi?

Chickenpox Kya Hai – What Is Chickenpox In Hindi?

चिकन पॉक्स जिसे कि चेचक भी कहा जाता है और यह मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, जैसे छोटी चेचक और बड़ी चेचक जिनको ग्रामीण क्षेत्रों तथा आसपास के इलाकों में छोटी माता और बड़ी माता भी कहा जाता है, इस बीमारी में हमारे शरीर की त्वचा के ऊपर लाल लाल दाने हो जाते हैं और इन दोनों में बहुत ज्यादा दर्द होता है, तथा खुजली भी बहुत होती है और इस बीमारी के कारण रोगी बहुत ज्यादा कमजोर होना शुरू हो जाता है और इसके साथ-साथ रोगी को बुखार भी रहता है।

ज्यादातर लोग तो इस बीमारी के होने पर बहुत ज्यादा परेशान हो जाते हैं। क्योंकि चेचक एक संक्रामक बीमारी होती है, जो कि एक रोगी व्यक्ति से दूसरे स्वस्थ व्यक्ति को हो सकती है और इसीलिए हमें चेचक बीमारी होने पर काफी सावधानियां भी बरतनी पड़ती है, जिसके कारण यह घर के और लोगों को ना हो सके अब आगे हम जानेंगे, कि Chickenpox Kyu Hota Hai

Chickenpox ke lakshan - Chickenpox Symptoms in Hindi

Chickenpox Kyu Hota Hai – Causes Of Chickenpox In Hindi?

चेचक एक विषाणु के कारण फैलने वाली बीमारी है, इस बीमारी के विषाणु हमारी त्वचा की छोटी रक्त वही काम तथा मुंह और गले में अपना असर दिखाते हैं और यह बीमारी केवल मनुष्य में ही होती है, और इस बीमारी के दो तरह के विषाणु होते हैं, जैसे कि :-

  • वायरोला मेजर ( Virola Major )
  • वायरोला माइनर ( Virola Minor )

Virola Major

वायरोला मेजर के विषाणु वायरोला माइनर ( Virola Minor ) की तुलना में काफी ज्यादा खतरनाक होते हैं, और इन विषाणु के कारण व्यक्ति की मृत्यु होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है और यदि किसी व्यक्ति में इस प्रकार के विषाणु फैल जाते हैं, तो उसके चेहरे पर दाग तथा अंधेपन जैसी समस्याएं देखी जा सकती है इसीलिए इस रोग की पहचान समय पर जरूरी है, क्योंकि समय पर इसका इलाज हो जाए तो ही बेहतर रहता है।

Virola Minor

यह विषाणु ज्यादा खतरनाक नहीं होते तथा इनके कारण मृत्यु होने की संभावना भी बहुत कम रहती है, परंतु दिशा में बहुत ज्यादा संक्रामक होते हैं और बहुत ही ज्यादा जल्दी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को फैलते हैं, आज के समय में तो इस महामारी से बचने के लिए टीका लगने लगा है परंतु पुराने समय में तो इस बीमारी के कारण लोगों की मृत्यु ज्यादा होती थी।

chechak ke karan lakshan or upchar

छोटी चेचक बड़ी चेचक ( छोटी माता तथा बड़ी माता ) में अंतर – Difference Between Chickenpox And Small Pox In Hindi?

हम आपको बता दें की इन दोनों तरह के चेचक में ही हमारे शरीर की त्वचा पर दाने निकलते हैं, में मुख्य अंतर यह होता है की छोटी चेचक में दाने कम निकलते हैं, तथा त्वचा पर निकलने वाले गाने छोटे होते हैं, परंतु बड़ी चेचक अथवा बड़ी माता में आपकी त्वचा पर बड़े-बड़े दाने निकलते हैं जिम में बहुत ज्यादा खुजली भी होती है।

बड़ी चेचक होने पर आपके शरीर पर हुए दानों में से पीप तथा मवाद या फिर पर्स भर जाता है, और यह बीच में से पढ़ते हैं और फिर सूख जाते हैं, परंतु सूखने से पहले यह व्यक्ति को बहुत ज्यादा पीड़ा पहुंचाते हैं।

छोटी माता मैं आपकी त्वचा पर दाने तो होते हैं, परंतु वह फूटते नहीं है और ना ही उनमें पीप जमता है, बल्कि वह छोटे ही होते हैं और छोटे ही सूख जाते हैं और इनमें से पकड़ी भी नहीं उतरती, ज्यादातर छोटी माता बच्चों को कम उम्र में ही होती है।

Chickenpox के लक्षण – Symptoms Of Chickenpox In Hindi?

अब हम आपको चेचक के लक्षण बता देते हैं, जिनकी सहायता से आप चेचक होने पर इसके शुरुआती लक्षणों में ही इसका इलाज शुरू कर देंगे, और फिर आप इस बीमारी से बच पाएंगे, तो चलिए Causes Of Chickenpox जानते हैं :-

चिकन पॉक्स के शुरुआती लक्षणों में आपको बहुत तेज बुखार रहता है, और फिर बुखार के साथ साथ धीरे-धीरे आपके शरीर की त्वचा पर लाल लाल दाने होने लगते हैं और सिर्फ और सिर्फ 4 से 5 दिनों के अंदर अंदर यह दाने पक जाते हैं, और इनमें बहुत ज्यादा खुजली होने लगती है और यदि आप इन दानों में खुजली करते हैं, तो फिर इनसे खून तथा पीप भी निकल सकता है।

चिकन पॉक्स होने पर आपका गला भी बार-बार सूखता है, और आपको अपने गले में ऐठन महसूस होती है।

चेचक होने पर आपके पूरे शरीर में बहुत ज्यादा दर्द होता है और आपको बार-बार उल्टी करने का मन करता है, तथा इसके साथ-साथ सिर दर्द और पेट दर्द भी बहुत ज्यादा रहता है, जिसके कारण आप कुछ दिन तक चलना फिरना भी पसंद नहीं करते।

चेचक के लक्षणों के रूप में आपके गले में भी सूजन हो सकती है, और इसके साथ-साथ आपको बहुत ज्यादा खांसी भी हो सकती है।

चेचक होने पर आपका गला भी बैठ जाता है, और नाक भी बहने लगता है जिसके कारण आपको बहुत ज्यादा ठंड भी लगती है।

यदि चेचक होने पर आपको शुरुआत में बुखार हो रहा है, तो मान लीजिए कि आपके शरीर पर चकत्ते ( Rashes ) दिखाई देने मैं 3 से 4 दिन लग सकते हैं।

चेचक होने पर लाल लाल दाने आपके हाथ पीठ तथा टांगे और चेहरे पर निकलते हैं, हम आपको बता दें कि चेचक होने पर आपकी छाती तथा कोनी पर लाल दाने नहीं निकलते।

यह भी पढ़े लिवर में Hepatitis B क्यों होता है ? जानिए इसके कारण , लक्षण , निदान , इलाज, बचाव और 3 घरेलु टिप्स

Chickenpox के घरेलु उपाय हिंदी में – Home Remedies of Chickenpox In Hindi?

अब हम आपको कुछ घरेलू उपाय बताएंगे जो कि चेचक होने के दौरान आप इस्तेमाल कर सकते हैं, ज्यादातर डॉक्टर भी आपको चेचक होने पर दवाइयां ज्यादा नहीं देता वह आपको सिर्फ घरेलू उपाय करने के लिए ही बोलता है क्योंकि यह एक ऐसी बीमारी है जो दवाई से बढ़ेगी उठती है, जिसके कारण आपको यह ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है, इसीलिए चेचक में घरेलू नुस्खे ( Chickenpox Ke Gharelu Nuskhe ) ही सही रहते हैं :

गाजर तथा धनिया

गाजर तथा धनिया की पत्ती यह दोनों ही ठंडे होते हैं, और जब यह दोनों आपस में मिलते हैं तो एंटी ऑक्सीडेंट का काम करते हैं, चिकन पॉक्स के घरेलू नुस्खे के रूप में आप एक कप गाजर के टुकड़े और एक कप धनिए की पत्तियों को पानी में अच्छी तरह उबाल लें और कम से कम 10 से 15 मिनट इन दोनों को पानी में पकने दें उसके पश्चात इस पानी को छानकर पी लीजिए, यदि आप दिन में दो बार यह नुस्खा आजमाते हैं, तो आपको चेचक में काफी ज्यादा आराम मिलेगा और इसके लक्षण भी कम होते दिखाई देंगे।

नीम

नीम की पत्तियां एंटीबैक्टीरियल तथा एंटीबायोटिक की तरह भी इस्तेमाल की जाती है, आप नीम की पत्तियों को पीसकर अपनी त्वचा के लाल-लाल दानों पर लगा सकते हैं, इस प्रकार आपकी त्वचा के दाने बहुत जल्दी सूख जाएंगे पर इसके साथ-साथ आप गर्म पानी में नीम की पत्तियों को अच्छे से उबालकर इस गर्म पानी से स्नान भी कर सकते हैं, इस प्रकार भी चेचक फैलने की संभावनाएं काफी कम हो जाती हैं।

काली मिर्च

काली मिर्च से चेचक में बहुत ज्यादा लाभदायक सिद्ध होती है, यह चेचक के लक्षणों को कुछ ही दिन में कम कर देती है, इसके लिए आपको एक चम्मच प्याज के रस में दो से तीन काली मिर्च पीसकर अच्छे से मिलानी है, और फिर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करना है यदि आप लगातार इसका सेवन करते हैं, तो आपको 3 से 4 दिन में चेचक के लक्षणों में काफी आराम मिलेगा।

हरी मटर

चेचक होने पर आप हरी मटर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, इसके लिए आपको हरी मटर को पानी में अच्छी तरह पकाना है और फिर इस पानी को अपनी त्वचा पर अच्छी तरह लगाना है, इस प्रकार चेचक के कारण हुए आपकी त्वचा पर लाल चकत्ते समाप्त होने लगेंगे।

शहद

शहद हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है, शहद का इस्तेमाल आयुर्वेद के द्वारा भी कई प्रकार की भयानक बीमारियों के इलाज में किया जाता है यदि चेचक होने पर आप प्रभावित भाग पर शुद्ध शहद को लगाएं, और आपको अपनी त्वचा के प्रभावित क्षेत्र में दिन में दो से तीन बार शहद लगाना है, और इस प्रकार आपको चेचक के कारण हुए लाल दानों में बहुत ज्यादा राहत मिलेगी।

chhoti mata ke karan lakshan or upchar
Image source : https://www.canva.com/

Chickenpox होने पर बरतें कुछ सावधानियां – Take Some Precautions When Having Chicken Pox?

  • चेचक की बीमारी होने पर इसके रोगी को तेल मे तला हुआ खाना नहीं खाना चाहिए। क्योंकि तेल मे तला हुआ खाना खाने से रोगी के शरीर पर चेचक का बुरा असर भी दिखाई दे सकता है।
  • चेचक होने पर चेचक के रोगी का बिस्तर तोलिया तथा कपड़े अलग रहने चाहिए, और बिल्कुल साफ सुथरे तो लिया तथा कपड़ों को पहनना चाहिए।
  • चेचक के रोगी के कपड़ों तथा तोलिया दी को प्रतिदिन नीम के पानी तथा डिटॉल के पानी से धोना चाहिए।
  • यदि छोटे बच्चों को चेचक हो जाता है तो छोटे बच्चों के हाथ बांध लेने चाहिए, ताकि वह अपने शरीर की त्वचा पर खुजली ना कर सकें, क्योंकि खुजली करने से उनकी त्वचा पर बुरा असर देखने को मिल सकता है।

Vaccination For Chickenpox In Hindi?

वैसे तो आज के समय में यह रोग बहुत कम होता है, क्योंकि आजकल सरकार के द्वारा चीजों को 3 से 6 महीने की अवस्था में ही चेचक रोग के टीके लगा दिए जाते हैं, जिसके कारण उन्हें कभी भी चेचक रोग नहीं होता।

Chickenpox or Chhoti Mata Conclusion

हम उम्मीद करते हैं चेचक से संबंधित हमारी यह पोस्ट आपको बहुत ही महत्वपूर्ण लगी होगी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको चेचक के लक्षण तथा चेचक के घरेलू उपाय ( Chickenpox Ke Gharelu Upay ) बताए हैं, और इसके साथ-साथ हमने आपको चेचक का घरेलू इलाज भी बताया है। आशा है कि आपको अच्छे से समझ आ गया होगा, कि Chickenpox Kyu Hota Hai  यदि कभी भी आपको चेचक से संबंधित कोई भी प्रश्न हम से पूछना हो, तो आप कमेंट सेक्शन में जरूर पूछें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This