हड्डियों का कैंसर क्या है ? जानिए इसके लक्षण , होने के कारण , निदान , इलाज और बचाव | What is Bone Cancer ? Know its symptoms, causes, diagnosis, treatment and prevention in Hindi.

Must Read

Dr. Yogeshwar Krishan Kant
Dr. Yogeshwar Krishan Kanthttp://www.goodswasthya.com
He is a professional health and medicine blogger having a degree in Doctor of Pharmacy ( PharmD ). Has experience in blogging for health and medicine and its various other aspects. His hobbies include travel, blogging and patient counselling about different type of drug usage.

Bone Cancer Kaise Hota Hai – जानिए Bone Cancer Ke Karan, Lakshan Aur ilaj?

आपने अक्सर हड्डियों से संबंधित बहुत सी बीमारियों के बारे में सुना होगा और देखा भी होगा, ज्यादातर बढ़ती उम्र के साथ-साथ हड्डियों की बीमारियां होना आम बात है जैसे कि जोड़ों में दर्द होना या फिर हड्डियों का कमजोर होना, अक्सर बढ़ती उम्र के साथ-साथ या फिर जरूरी पोषक तत्व ना मिलने के कारण हड्डियां इतनी कमजोर हो जाती है, कि जरा से झटके के कारण भी हड्डी टूट सकती है, हड्डियों के ऐसे ही लोगों में एक और बीमारी आज के समय में निकल कर सामने आ रही है, जो है हड्डी का कैंसर ( Bone Cancer ), आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको हड्डियों के कैंसर के बारे में विस्तार से बताएंगे कि :-

  • Bone Cancer Kya Hota Hai – What Is Bone Cancer In Hindi?
  • Bone Cancer Ke Lakshan – Symptoms Of Bone Cancer In Hindi?
  • Bone Cancer Kyu Hota Hai?
  • Bone Cancer Ke Karan – Causes Of Bone Cancer In Hindi?
  • Bone Cancer Se Bachne Ke Upay – Prevention Of Bone Cancer In Hindi?
  • बोन कैंसर का परीक्षण – Diagnosis Of Bone Cancer In Hindi?
  • Bone Cancer Ka ilaj – Treatment Of Bone Cancer In Hindi?

यदि आप अच्छे से जानना चाहते हैं कि Bone Cancer Kaise Hota Hai और Bone Cancer Kyu Hota Hai तो हमारी इस पोस्ट को आखिर तक पढ़ते रहिएगा।

Bone Cancer Kya Hai – What Is Bone Cancer In Hindi?

  • बोन कैंसर ( Bone Cancer ) की शुरूआत मानव के शरीर (Body) के बोन सेल्स ( Bone Cells ) में होती है। बोन कैंसर ( Bone Cancer ) आमतौर पर कंधे तथा पैर की हड्डियों में होता है, परंतु बोन कैंसर कम उम्र के लोगों में बहुत कम देखने को मिलता है। जब बोन कैंसर काफी ज्यादा बढ़ जाता है तो उस स्थिति में यह काफी ज्यादा खतरनाक साबित होता है, जब बोन कैंसर काफी हद तक  बढ़ जाता है तो यह हमारे शरीर की हड्डियों के साथ-साथ हमारे शरीर के दूसरे अंगों में भी फैलने लगता है।
  • इन परिस्थितियों में हमारे शरीर में कैंसरयुक्त सेल्स ( Carcinogenic Cells ) की ग्रोथ ( Grawth ) को कम करने और उसे समाप्त करने के लिए कीमोथेरेपी ( Chemotherapy ) या रेडिएशन थेरेपी ( Radiation Therapy ) की जरूरत पड़ती है।
  • वैसे तो बोन कैंसर दो भागों में विभाजित किया गया है, प्राथमिक तथा माध्यमिक हड्डियों के कैंसर प्राथमिक हड्डी के कैंसर की शुरुआत हड्डी की कोशिकाओं से होती है, और माध्यमिक हड्डी के कैंसर में है कहीं से भी शुरुआत हो सकती है, और फिर यह धीरे-धीरे शरीर की सारी नदियों में फैल जाता है।

Bone Cancer Ke Prakar – Types Of Bone Cancer In Hindi?

हड्डी के कैंसर या फिर हड्डी के ट्यूमर के अलग-अलग तरह के कई प्रकार होते हैं, उनके नाम हड्डी के आसपास के उत्तक ओके आधार पर ही रखे जाते हैं, जो कि संक्रमण प्रभावित होते हैं और साथ ही  ट्यूमर भी बनाने वाली कोशिकाओं के नाम पर आधारित होते हैं, चलिए अब हम Type of Bone Cancer के बारे में जान लेते हैं :-

  • Osteosarcoma ( ओस्टियोसार्कोमा )

यह हड्डियों का बिल्कुल सामान्य एवं प्राथमिक हड्डी का कैंसर है यह कैंसर हमारे शरीर की हड्डियों की कोशिकाओं से शुरू होता है, और अक्सर 10 वर्ष से लेकर 30 वर्ष की आयु के बीच के लोगों में यह कैंसर होता है यह कैंसर मध्यम आयु वर्ग के लोगों को बहुत कम होता है, तथा महिलाओं की तुलना में पुरुषों में यह कैंसर अधिक होता है, इस प्रकार के कैंसर से प्रभावित ट्यूमर ज्यादातर हाथ तथा पैरों और एड़ियों में विकसित होते हैं।

  • Chondrosarcoma ( कोंड्रोसारकोमा )

कार्टिलेज कोशिकाओं में जो कैंसर होता है, उसे कोंड्रोसारकोमा कैंसर कहते हैं यह भारत में होने वाला दूसरा हड्डियों का कैंसर है,क्षजो कि ज्यादातर 75 वर्ष की आयु के लोगों को होता है इस प्रकार के कैंसर की संभावना जितनी महिला में होती है उतनी ही पुरुषों में भी होती है, और यह कैंसर ज्यादातर पैर की हड्डियों तथा बाजू की हड्डियों में विकसित होता है।

  • Ewing Sarcoma ( ईविंग सरकोमा )

इस प्रकार का कैंसर ज्यादातर बच्चों को किशोरावस्था के दौरान होता है, और हड्डियों के होने वाले कैंसर में यह दूसरा सबसे सामान्य कैंसर है परंतु गया है बोन कैंसर दूसरे कैंसर के मुताबिक ज्यादा खतरनाक होता है, और यह ज्यादातर पैरों तथा हाथों और लंबी हड्डियों में होता है यह कैंसर बच्चों तथा किशोरावस्था के लोगों में सबसे आम कैंसर होता है, और 30 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को इस प्रकार के कैंसर की संभावनाएं बिल्कुल ना के बराबर होती है।

  • Malignant Fibrous Histiocytoma ( मालिगनेंट फिबोस हिस्टीयोसाइटोमा )

कैंसर का यह प्रकार ज्यादातर हड्डियों की तुलना में नर्म उत्तक में शुरू होता है, जब हडिया इस प्रकार के कैंसर से प्रभावित होती है तो आम तौर पर हमारे पैरों तथा बाजुओं को ही प्रभावित करती हैं इस प्रकार का कैंसर ज्यादातर बुजुर्ग तथा मध्यम आयु के पुरुषों में देखा जाता है, बच्चों में इस प्रकार का कैंसर बिल्कुल भी नहीं होता और यह कैंसिल धीरे-धीरे हमारे शरीर के सभी अंगों में फैल सकता है।

कोरोना काल के दौरान हंसने से कैसे मिलेगा फायदा? जानते हैं पूरी खबर के बारे में l

बोन कैंसर के मुख्य चरण – Stages Of Bone Cancer In Hindi?

बोन कैंसर के मुख्य रूप से चार चरण होते हैं जैसे कि :-

  • Stage – 1

यह कैंसर का प्रारंभिक चरण होता है, इस चरण में कैंसर ज्यादा क्रमांक नहीं होता और यह हड्डी से बाहर भी नहीं होता।

  • Stage – 2

प्रारंभिक चरण के मुताबिक यह चरण थोड़ा तिल होता है, यह एक आक्रामक कैंसर श्रेणी होती है।

  • Stage – 3

इस स्टेज में कैंसर का ट्यूमर एक ही हड्डी में कम से कम 2 स्थानों में मौजूद हो जाते हैं।

  • Stage – 4

यह कैंसर की सबसे लास्ट स्टेज होती है, और इस स्टेज पर आते-आते कैंसर हमारे शरीर के अलग-अलग अंगों में भी फैलने लगता है।

Bone Cancer Ke Lakshan – Symptoms Of Bone Cancer In Hindi?

अब हम आपको Bone Cancer Ke Lakshan बता देते हैं, ताकि इस प्रकार के लक्षण दिखने पर आप तुरंत ही अपना इलाज शुरू करवा सकें, क्योंकि यह इस प्रकार की बीमारी होती हैं, जिनका इलाज शुरुआत में ही हो जाए तो ठीक रहता है अन्यथा यह मृत्यु का कारण बनती है :-

  • जिस हड्डी में बोन कैंसर बन रहा होता है उस हड्डी में बहुत ज्यादा दर्द रहता है और दर्द इस प्रकार होता है, कि वह किसी भी प्रकार की दवाई लेने पर नियंत्रण में नहीं आता और आप मान लीजिए कि पैर की हड्डी में बोन कैंसर बन रहा है तो यदि इस परिस्थिति में हम चलते हैं, तो हमसे बिल्कुल भी नहीं चला जाएगा और हम इस पैर से कुछ भी गतिविधि नहीं कर पाएंगे यहां तक कि आपको बिल्कुल लंगड़ा लंगड़ा कर चलना होगा। इसीलिए इस प्रकार का दर्द महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं।
  • जिस हड्डी में कैंसर पनप रहा होता है, उस हड्डी के ऊपर काफी ज्यादा सूजन आ जाती है, यहां तक की गांठ बनने की संभावना भी हो सकती है।
  • बोन कैंसर पीड़ित हड्डी को बहुत ज्यादा कमजोर बना देता है, जिसके कारण हड्डी में बहुत जल्दी फ्रैक्चर भी हो सकता है ज्यादातर बढ़ती उम्र के लोगों के साथ यह देखा जाता है, कि जब उन्हें बोन कैंसर होता है, तो उनकी हड्डियां छोटे-मोटे झटकों के कारण भी टूटने लगती हैं।
  • यदि हमारे शरीर की रीढ़ की हड्डी में कैंसर हो जाता है, तो कैंसर का ट्यूमर हड्डियों की तंत्रिकाओं को दबा सकता है, जिसके कारण आप का वह हिस्सा आपको सुन महसूस हो सकता है इसीलिए यदि आप की हड्डी सुन रहती है, तो यह भी बोन कैंसर का लक्षण हो सकता है इस मामले में तुरंत जांच कराएं।
  • बोन कैंसर के रोगियों को अपने शरीर का वजन भी घटा हुआ नजर आ सकता है, इसके साथ साथ यदि यह कैंसर काफी पुराना हो गया है तो यह आपके फेफड़ों तक पहुंच जाता है, जिसके कारण आप को सांस लेने में भी तकलीफ हो सकती है इसीलिए हम तो आपको यही कहेंगे, कि जब आपको बोन कैंसर के थोड़े बहुत लक्षण भी अपने शरीर में दिखते हैं तो आपको तुरंत ही जांच करा लेनी चाहिए।

Bone Cancer Ke Karan – Causes Of Bone Cancer In Hindi?

  • अब हम भी है जानेंगे कि Bone Cancer Kaise Hota Hai वैसे तो बोन कैंसर के सही कारणों का बिल्कुल भी पता नहीं चल पाया है, परंतु अभी हाल ही में वैज्ञानिकों के शोध के अनुसार हड्डियों का कैंसर कई तरह के अलग-अलग कारणों से हो सकता है।
  • वैज्ञानिकों का मानना है यदि व्यक्ति के डीएनए में किसी तरह का कोई बदलाव होता है, तो उसके कारण भी सामान्य कोशिकाओं में कैंसर जन्म ले सकता है।
  • वैज्ञानिकों की यह धारणा भी है कि यह रोग अनुवांशिक भी हो सकता है, मतलब कि यदि आपके परिवार में किसी को पहले हड्डी का कैंसर हुआ है, तो फिर यह हैं आपको भी हो सकता है क्योंकि कुछ लोग पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाले भी होते हैं।

Bone Cancer Se Bachne Ke Upay – Prevention Of Bone Cancer In Hindi?

यह जानना भी बहुत जरूरी है कि Bone Cancer Se Kaise Bache क्योंकि यदि से बच पाएंगे तो ही हमारे लिए अच्छा है :-

  • यदि आप हड्डियों के कैंसर से बचना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले हड्डियों की बीमारियों से भी बचना होगा और उसके लिए यह जरूरी है, कि आपको अपनी हड्डियों को कमजोर नहीं होने देना तथा उचित मात्रा में हड्डियों को सभी पोषक तत्व मिलते रहना चाहिए।
  • आपको अपने शरीर की हड्डियों में कैल्शियम की कमी नहीं होने देनी चाहिए। क्योंकि कैल्शियम की कमी से भी बहुत से रोग हो जाते हैं, और अक्सर बढ़ती उम्र में तो कैल्शियम की कमी के कारण ही परेशानियां होती है, इसीलिए आपको कैल्शियम वाली चीजों का सेवन ज्यादा करना चाहिए जैसे कि दूध दूध का सेवन आप सुबह शाम कर सकते हैं।
  • जो लोग ज्यादा शराब पीते हैं या फिर धूम्रपान करते हैं उनमें भी हड्डियों से संबंधित रोग देखे जाते हैं, इसीलिए धूम्रपान का सेवन आपको बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए और जब भी आपको अधिक मात्रा में नहीं पीनी चाहिए।
  • यदि आपको हड्डियों के कैंसर के कुछ भी लक्षण दिख रहे हैं, तो आप इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए, क्योंकि शुरुआत में यदि आप इलाज शुरू कर देते हैं तो हड्डियों के कैंसर से बचा जा सकता है।

बोन कैंसर की जांच कैसे कराएं – Diagnosis Of Bone Cancer In Hindi?

बोन कैंसर की जांच डॉक्टर के द्वारा विभिन्न तरीकों से हो सकती है जैसे कि : –

  • X-Ray के द्वारा हड्डी के कैंसर की जांच की जा सकती है।
  • City-Scan के द्वारा भी हड्डी के कैंसर की जांच की जा सकती है।
  • MRI जांच के द्वारा भी हड्डियों के कैंसर की पुष्टि की जा सकती है।
  • PET-Scan के द्वारा भी कैंसर की पुष्टि की जा सकती है।
  • Biopsy टेस्ट के द्वारा भी हड्डियों की बीमारी का पता लगाया जा सकता है।

Bone Cancer Ka ilaj – Treatment Of Bone Cancer In Hindi?

बोन कैंसर का इलाज बिल्कुल संभव है, परंतु यदि शुरुआती लक्षणों को देखकर शुरू करवा दिया जाए, तो इसके इलाज में काफी ज्यादा आसानी हो जाती है क्योंकि आपको पता ही है, यह धीरे-धीरे शरीर के बाकी अंगों में भी फैलने लगता है इसलिए शुरुआती लक्षणों में इसका इलाज होता है।

  • सर्जरी चिकित्सा ( Surgery Therapy )  के द्वारा भी बोन कैंसर का इलाज किया जा सकता है।
  • विकिरण उपचार ( Radiation Therapy ) के द्वारा भी हड्डियों के कैंसर का इलाज किया जा सकता है।
  • रेडियोथैरेपी ( Radio Therapy ) के द्वारा भी हड्डियों के कैंसर का इलाज किया जाता है।
  • कीमोथेरेपी ( Chemotherapy )के द्वारा भी हड्डियों के कैंसर का इलाज संभव है।

Conclusion –

 उम्मीद करते हैं कि हमारी इस पोस्ट के माध्यम से आपको हड्डियों के कैंसर के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। इस पोस्ट के माध्यम से आपको जानने को मिला है, कि Bone Cancer Kaise Hota Hai तथा Bone Cancer Se Kaise Bache इसके साथ-साथ ही हमने आपको Bone Cancer Ke Lakshan तथा Bone Cancer Ka ilaj भी बताया है, ताकि आप आसानी से हड्डियों के कैंसर से छुटकारा पा सके, यदि यदि आपको हड्डियों के कैंसर से संबंधित कोई प्रश्न पूछना है तो आप कमेंट सेक्शन में कमेंट कर सकते हैं। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This