Dry Eyes Kya Hai? Dry Eyes Full Information in Hindi | ड्राई आई क्या है? | इससे कैसे बचा जा सकता है ? आइए जानते हैं इससे संबंधित जानकारी।

Must Read

Dr. Nick Kumar Jaiswal
Dr. Nick Kumar Jaiswalhttp://goodswasthya.com
He is a professional blog writer for more than 2 years, he holds a degree in Doctorate in Pharmacy(Pharm D) with experience in medicine dispensing and medication ADRs. His interest in medicine makes him excellent in his research project. Now he prefers to write blogs about medications and diseases. His hobbies include football and watching Netflix. He loves reading novels and gain knowledge about more medication ADRs. He is very helpful in nature and you will often find him helping others in the treatment. डॉ जयसवाल 2 से अधिक वर्षों से एक पेशेवर ब्लॉग लेखक है, ये दवा वितरण और दवा एडीआर में अनुभव के साथ एक फार्म डी डिग्री होल्डर है। चिकित्सा में उनकी रुचि उन्हें अपनी शोध परियोजना में उत्कृष्ट बनाती है। अब वह दवाओं और बीमारियों के बारे में ब्लॉग लिखना पसंद करते हैं। उनके शौक में फुटबॉल और नेटफ्लिक्सिंग, उपन्यास पढ़ना और अधिक दवा एडीआर के बारे में ज्ञान प्राप्त करना शामिल है। वह प्रकृति में बहुत मददगार है और अक्सर आप इन्हे दूसरों की इलाज में मदद करते हुए देख पाएंगे ।

Dry Eyes Kya Hai? Dry Eyes Full Information in Hindi | ड्राई आई क्या है? | इससे कैसे बचा जा सकता है ? आइए जानते हैं इससे संबंधित जानकारी।

आपने यह देखा होगा कि अक्सर हमारे शरीर में तरह-तरह की बीमारियां हो जाती हैं l अगर हम बात करें आंखों की तो आंखें हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है l कभी-कभी हम अपनी आंखों का ख्याल नहीं रखते हैं और इसी वजह से आंखों में हमें  कई प्रकार की बीमारियां हो जाती हैं l आंख हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है, इसलिए हमें इसका सबसे ज्यादा ध्यान रखना चाहिए l आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से Dry Eye   Full information in hindi,  Causes Of Dry Eyes  के बारे में बताने वाले हैं l यह बीमारी काफी खतरनाक है l

ड्राई आइज एक ऐसी बीमारी है, जो हमारी आंखों के पानी को सुखाती हैl  आज दुनिया में ड्राई आइज बहुत बड़ी समस्या बन गई हैl  Dry  Eyes    के कारण आंखों की नमी घटने लगती है l आजकल लोग कंप्यूटर, स्मार्टफोन जैसी काफी चीजों का Use करते हैं यह सभी हमारी आंखों को नुकसान पहुंचाती हैl  देर रात जगने की वजह से भी हमारी आंखों में जलन एवं सूजन कैसी समस्या हो जाती है l इसके कारण ड्राई आई  के शिकार हो जाते हैं l

जिनकी आंखों में यह सभी परेशानी रहती है उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है l  कभी-कभी ऐसा होता है, कि जब हम कहीं बाहर जाते हैं या ऐसे स्थान पर जाते हैं जहां पर धूल मिट्टी बहुत ज्यादा होती है तो यह धूल मिट्टी हमारी आंखों की परत पर चिपक जाती है जिस वजह से हमें आंखों में दिक्कत हो जाती है lयदि सही समय पर आंखों का ट्रीटमेंट ना किया जाए, तो यह आपके लिए बहुत बड़ी बीमारी बन सकती हैं l

Dry Eyes Treatments | Dry Eyes या आंखों का सूखापन क्या है? (what is dry Eyes  )

कई बार ऐसा होता है, कि हम कई ऐसे रोगों में दवाई का सेवन करते हैं इस कारण से भी हमें dry eye   से गुजरना पड़ता हैl  आंखें हमारे बॉडी पार्ट का एक नाजुक हिस्सा है, इस कारण से हमें अपनी आंखों का अच्छी तरह देखरेख करनी चाहिएl  कई अन्य कारणों से भी आंखों में ड्राई आई  होने की संभावना होती हैl इस पोस्ट के माध्यम से आइए जानते हैं हम ड्राई आई  के बारे में पूरी जानकारी l

Dry Eyes या आंखों का सूखापन क्या है? (what is dry Eyes  )

Dry Eye या आंखों का सूखापन आहार में पोषक तत्वों की कमी और व्यक्ति की जीवन शैली के कारण यह समस्या हो जाती हैl

इस समस्या के कारण नेत्र का रंग लाल हो जाता है एवं जिस व्यक्ति के साथ ऐसा होता है उसे देखने में कठिनाई होती है l  यह रोग वात ,पित्त एवं रक्त के असंतुलन के कारण होता है l इसमें मुख्यतः वाह एवं रक्त की वृद्धि देखी जाती है l आंखों का सूखापन एक ऐसी बीमारी है, जिसके कारण इसमें आंसू उचित मात्रा में आंखों में नहीं पहुंच पाते और आंखों में नमी कम हो जाने के कारण आंखों की बहुत बड़ी समस्या बन जाती हैl आंखों के सूखे पन में जलन, खुजली, किरकिरा पन जैसी परेशानी महसूस होती है l

आंखों से बार-बार पानी निकलता रहता है l यह सब ड्राई आई  के लक्षण है और यही ड्राई आई  कहलाता है l

ड्राई आई  होने के कारण – (Causes of dry eyes  )

जब भी शरीर में कोई बीमारी होती है, तो शरीर में बीमारी होने के कुछ ना कुछ मुख्य कारण तो होते ही हैं l उन्हीं कारणों से शरीर में बीमारी हो जाती हैं l कभी-कभी ऐसा होता है, कि हमारा रहन सहन इस तरह से होता है, कि हमारी आंखों में ड्राई आई  हो जाता है l हमारी आंखों में सूखापन या आंखों में नमी की कमी होने के पीछे बहुत सारे कारण दिखाई देते हैं l  

आजकल हम ज्यादा देर तक कंप्यूटर में काम करते रहते हैं l इसकी वजह से भी हमारी आंखों का पानी सूख जाता है और हमें परेशानियां देखने को मिलती हैl

कॉन्टैक्ट लेंस का दीर्घकालिक प्रयोग करने के कारण भी dry eye   हो जाता हैl

ए.  सी. में अधिक देर तक बैठने के कारण कारण भी हमें यह परेशानी देखने को मिलती हैl

कभी-कभी तो हमें प्रदूषण के कारण हमारे आंखों में जाने वाले धूल कण आदि के कारण आंखों से पानी ज्यादा निकलने के कारण यह परेशानी देखने को मिलती है l

कभी-कभी तो जब हम दर्द निवारक उच्च रक्तचाप एवं अवसाद दूर करने वाले दवाओं का सेवन करते हैं, तब भी यह परेशानी देखने को मिलती हैl

विटामिन A की कमी से भी हमें ड्राई आई  Dry Eyes के परेशानी से गुजरना पड़ता हैl

ड्राई आई  एक ऐसा रोग है, जो बुढ़ापे के कारण 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में कई बार आंसुओं का उत्पादन घट जाता हैl

कभी-कभी तो जब हम अपनी कई ऐसे दवाइयों का प्रयोग करते हैं इलाज के लिए प्रयोग की जाने वाली इन दवाइयों के कारण भी हमारी आंखों पर साइड इफेक्ट हो सकते हैं l

कहां जाता हैं की आंसू पानी, सोडियम , क्लोराइड से मिलकर बनते है  जिसमें पानी मुख्य रूप से मौजूद होते हैं l ड्राई आई Dry Eyes में या तो आंख में आंसू कम बनते लगते हैं या फिर उनकी गुणवत्ता अच्छी नहीं होती l  साथ ही आंसू में संक्रमण से बचाव करने वाले एंटीबैक्टीरियल ,पदार्थ जैसी लाइसोसोम ,लेक्टोफेरेन भी मौजूद होते हैं

Dry Eyes kya hai  | ड्राई आई  होने के कारण - (Causes and Symptoms of dry eyes  )

ड्राई आई  के लक्षण – Symptoms of Dry Eyes  

ड्राई आई  में आंखों में अलग-अलग तरह के लक्षण दिखाई देते हैं l आंखों के सूखे पन के अलावा भी बहुत सारे आम लक्षण होते हैंl जैसे कि –

आंखों में सूखापन के साथ यदि व्यक्ति को जलन एवं खुजली होती है, तो जलन एवं खुजली भी ड्राई आई  के लक्षण होते हैंl

ड्राई आई  में आंखों में किरकिरा पन लगता है l ऐसा लगता है कि आंखों में कुछ कचरा चला गया है l आंखों के अंदर कुछ जाने का आभास होता है  l

आंखों से धुंधला दिखाई देना ड्राई आई Dry Eyes  का लक्षण दिखता हैl

जब हमें ड्राई आई  हो जाता है तो आंखों से पानी निकलने के कारण पानी सूख जाता है तो यह परेशानी होती हैl

जब हमारी आंखों का पानी सूख जाता है, तो हम प्रकाश के सामने अपने आंखों को असहनीय पाते हैंl जब ड्राई आई  का मरीज धूप की तरफ देखता है, तो वह देखने में असमर्थ होता है l

जब हमारी आंखों का पानी सूख जाता हैं, तो हमारी आंखें सिकुड़ कर छोटी होने लगती हैl ड्राई आई  के कारण आंखों में थकान व सूजन जैसे लक्षण दिखते हैंl

ड्राई आई  एक ऐसी बीमारी है, जिससे हमारी आंखें धीरे-धीरे काम करना बंद कर देते हैंl

यह भी पढ़े :- Filaria या हांथीपाँव क्या है इसके कारण लक्षण और इलाज

ड्राई आई  के लिए कुछ उपाय – How to prevent Dry Eyes

हमारी आंखें प्रकृति का एक सर्वोत्तम उपहार है l अतः आंखों की देखभाल हमें अच्छी तरह करनी चाहिएl  आंखों को बचाने के लिए अधिक देर तक कंप्यूटर के सामने नहीं बैठना चाहिए l अधिक देर तक कंप्यूटर के सामने बैठने से हमारी आंखों पर प्रभाव पड़ता है l स्मार्टफोन का भी अधिक प्रयोग नहीं करना चाहिए  और अधिक टीवी देखने से भी बचना चाहिए l साथ ही आंखों में सीधी हवा नहीं लेना चाहिए l प्रदूषण एवं धूल के कारण आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है और हमारी आंखों में नमी खत्म होने लगती है l

प्रदूषण एवं धूप में आंखों पर चश्मा लगाना चाहिए और खाने में सभी पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिएl  विटामिन A जो कि आंखों के लिए बहुत जरूरी है इसीलिए हमें ऐसे फलों एवं सब्जियों का उपयोग करना चाहिए, जिसमें विटामिन A की मात्रा भरपूर हो l

यदि कंप्यूटर में अधिक देर तक काम करना भी पड़े, तो भी समय के अंतराल में आंखों को कुछ देर के लिए बंद करके आराम कर लेना चाहिए l

आंखों में गुलाब जल डालें और ठंडे पानी से आंखों को धोना चाहिएl  कई बार तो हमारे जीवन शैली एवं आहार में भी बदलाव लाने से भी ड्राई आई Dry Eyes  होने से रोका जा सकता हैl

ताजा फल,सब्जियां,साबुत अनाज और जिसमें ओमेगा 6 फैटी एसिड होते हैं यह सब कुछ हमारी आंखों के लिए बहुत लाभदायक है l

शोध के अनुसार फैटी एसिड्स, विटामिन बी- 6, vitamin सी और विटामिन D का सेवन करने से 10 दिनों के भीतर आशु उत्पादन में बढ़ोतरी होती हैl  Vitamin D  मुख्यतः नट्स, अखरोट में पाया जाता हैl

व्यायाम और स्वस्थ जीवन शैली ना होने के कारण और कुछ तत्व जैसे धूम्रपान, अल्कोहल का सेवन या अत्यधिक तनाव से के कारण भी हमारी आंखों में परेशानी होती है और हमें ड्राई आई  की समस्या का सामना करना पड़ता है l

शुष्क आंख वाले रोगियों में पोटेशियम बहुत कम होता हैl इसलिए गेहूं के बीज बादाम , अंजीर ,और एवोकाडो ,शामिल करना चाहिएl

 ड्राई आई  से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे – (Home remedies to treat Dry Eyes)

 गुलाब जल-  (Rose Water)

गुलाब जल आंखों को नम रखने में मदद करता है(Rose water help to moisturize Eyes) l जब हम गुलाब जल का इस्तेमाल करते हैं, तो गुलाब जल हमारी आंखों को ठंडक पहुंचाता है और आंखों में नमी बनाए रखता हैl दिन में 3 – 4 बार आंखों में गुलाब जल डालना चाहिएl

एलोवेरा जेल (Aloe Vera gel help to get relief from dry Eyes)

आपने एलोवेरा का बहुत नाम सुना होगा और यह भी सुना होगा, कि एलोवेरा को औषधि की तरह इस्तेमाल किया जाता हैl लेकिन क्या आप जानते हैं, कि एलोवेरा के औषधीय गुण क्या-क्या होता है l आपको पता है, कि किस -किस रोग में एलोवेरा के इस्तेमाल से लाभ मिलता हैl आयुर्वेदिक ग्रंथों में एलोवेरा के फायदे के बारे में कई सारी अच्छी बातें बताई गई हैं l एलोवेरा से लाभ लेकर आप अपने परिवार और अपना देखभाल कर सकते हैंl एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कर हम अपनी आंखों को सुरक्षित रख सकते हैंl

ड्राई आई  से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे |  (Home remedies to treat Dry Eyes) | chronic dry eye | how to cure dry eyes permanently
image sources :- https://www.canva.com/

आंवले का रस  (Honey and Amal juice help to get rid from  Dry  Eyes)

एक चम्मच शहद में आंवले का रस मिलाएं और इसका इस्तेमाल करें l इस मिश्रण को पीने से नेत्रों का सूखापन दूर होता है तथा आंखों को अन्य संक्रामक रोगों से भी बचाता हैl

खीरे का सेवन- (slice  of  cucumber  Help to moisturize Eyes)

खीरे के दो छोटे टुकड़ों को आंखों पर 10 से 15 मिनट के लिए रखना चाहिएl इससे हमारी आंखों को ठंडक मिलती है और हमारी आंखों को आराम देती है l

Dry Eye Conclusion

Dry Eye एक ऐसी बीमारी है यदि इसका समय पर इलाज न किया गया तो यह बहुत बड़ी समस्या बन सकती हैं l इसलिए इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपकोDry eyes  Full Information In Hindi दे दी है l इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको  Home Remedies For Dry Eyes   In Hindi भी बताई है l यदि आप हमारे बताए अनुसार Home Remedies को अपनाते हो तो आपको ड्राई आई  से छुटकारा मिल सकता है I

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This