ADHD क्या है जानिए ADHD के कारण, लक्षण बचाव तथा इलाज ? | What is ADHD? Its Symptoms, Causes, Prevention, Diagnosis and Best Treatments in Hindi.

Must Read

Dr. Arti Sharma
Dr. Arti Sharmahttp://goodswasthya.com
Dr. Arti Sharma is a certified BAMS doctor with at least 2 years of article writing experience on various medication and therapeutic lines. She is known for her best work in ayurvedic medication knowledge and there uses. Her hobbies including reading books and writing articles. With a good grip in sports, she uses to play for her university cricket team as a captain. Her work for ayurvedic is well known. डॉ आरती शर्मा एक प्रमाणित BAMS डॉक्टर है जिन्हे कम से कम 2 साल का विभिन्न दवाइयों और चिकित्सीय रेखाओं पर लेखन का अनुभव है। वह आयुर्वेदिक दवाओं के ज्ञान और उनके उपयोग में अपने बेहतरीन काम के लिए जानी जाती हैं। उनका शौक किताबें पढ़ना और लिखना है। खेलों में अच्छी पकड़ के साथ, वह एक कप्तान के रूप में अपनी विश्वविद्यालय क्रिकेट टीम के लिए खेल चुकी हैं। आयुर्वेद के क्षेत्र में उनका काम अच्छी तरह से जाना जाता है।

ADHD क्या है जानिए ADHD के कारण, लक्षण तथा इलाज ? | What is ADHD in Hindi Its Symptoms, Causes Best Treatments

ऐसी बहुत सी मानसिक बीमारियां होती हैं जो व्यक्ति को काफी हद तक कमजोर बना सकती हैं। खासतौर पर यदि कोई बच्चा बचपन में ही मानसिक बीमारियों का शिकार हो जाए तो वह काफी मुश्किल में पड़ सकता है, क्योंकि इनके कारण बच्चों का मानसिक विकास रुक जाता है, जिसके कारण वह अपनी उम्र के दूसरे बच्चों से काफी पीछे रह जाते हैं। आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से एक ऐसी ही बीमारी के बारे में बताने वाले हैं, जिसका नाम ए डी एच डी है यह एक मानसिक स्वास्थ्य विकार है जो ज्यादातर बच्चों में पाया जाता है।

यह बीमारी किशोरों में भी पाई जाती है परंतु बच्चे इस बीमारी से काफी जल्दी ग्रस्त होते हैं, वैसे तो यह एक सामान्य मानसिक विकार है, परंतु समय रहते ही इसका इलाज जरूरी होता है लड़कियों की तुलना में लड़कों को यह बीमारी होने का खतरा ज्यादा रहता है। यह बीमारी हो जाने पर व्यक्तियों का दिमाग भी कमजोर हो जाता है, जिसके कारण वह बातें बोलने लगते हैं और विचलित हो जाते हैं, क्योंकि वह एक ही कार्य पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते। आज हम ADHD Disease के बारे में आपको विस्तार से बताएंगे कि :-

  • ADHD Kya Hai – What Is ADHD In Hindi ?
  • ADHD के कितने प्रकार हैं – Types Of ADHD In Hindi ?
  • ADHD के लक्षण क्या है – Symptoms Of ADHD In Hindi ?
  • ADHD के क्या कारण है – Causes Of ADHD In Hindi ?
  • ADHD से बचने के तरीके – Prevention Of ADHD In Hindi?
  • ADHD का परीक्षण कैसे होता है – Diagnosis Of ADHD In Hindi?
  • ADHD का इलाज कैसे होता है – Treatment Of ADHD In Hindi?
  • ADHD के घरेलू उपाय – Home Remedies For ADHD In Hindi ?

ADHD Kya Hai – What Is ADHD In Hindi ?

यह एक मानसिक स्वास्थ्य विकार है जो व्यवहार में बहुत ज्यादा सक्रियता पैदा कर सकता है। इससे ग्रस्त लोग किसी एक कार्य पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते यह बीमारी जाता है बच्चों तथा किशोरों को प्रभावित करती है और इस बीमारी के मरीज के व्यवहार में काफी ज्यादा बदलाव आ जाते हैं। यदि बच्चा स्कूल में पढ़ता है, तो वह अच्छे से मन लगाकर नहीं पढ़ पाता और वह गुमसुम सा रहने लगता है।

लड़कियों की तुलना में लड़कों को यह बीमारी होनी आम बात है, परंतु इस बीमारी का इलाज शुरुआती लक्षणों के दिखने पर ही किया जा सकता है खासकर जब बच्चे अपना ध्यान केंद्रित ना कर पा रहे हो, तो इस स्थिति को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और इस बीमारी से ग्रसित वयस्कों को समय प्रबंधन करने और अपना लक्ष्य निर्धारित करने में भी काफी कठिनाई हो सकती है। इसी के कारण उन्हें आगे चलकर अपने जीवन में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि व्यस्को को यदि है बीमारी हो जाती है, तो उनमें आत्म सम्मान की भी कमी हो जाती हैं।

ADHD के लक्षण क्या है - Symptoms Of ADHD In Hindi ?

यह भी पढ़े :- जानिए Diphtheria के लक्षण कारण एवं कारगर घरेलु उपचार

ADHD के कितने प्रकार हैं – Types Of ADHD In Hindi ?

इसके तीन प्रकार होते हैं जैसे कि :-

ध्यानाभाव संबंधित ए डी एच डी ( Predominantly Inattentive ADHD )

यदि आपको इस बीमारी का यह प्रकार है तो आप को संवेदनशील तथा अति सक्रियता के मुकाबले ध्यानाभाव से संबंधित लक्षणों का भी अनुभव हो सकता है। कभी-कभी  तो आप आवेग नियंत्रण या सक्रियता की समस्या का अनुभव भी कर सकते हैं, परंतु ध्याना भाव संबंधित ए डी एच डी के भी बहुत से लक्षण हो सकते हैं जैसे कि :-

  • इस बीमारी के लोग ज्यादातर बातें भूल जाते हैं और आसानी से वह विचलित हो जाते हैं।
  • इस बीमारी के रोगी जल्दी से उठ जाते हैं और उन्हें एक ही कार्य पर ध्यान केंद्रित करने में काफी ज्यादा परेशानी होती हैं।
  • उन्हें अपने विचारों को व्यवस्थित करने तथा नई जानकारी को सीखने में भी काफी ज्यादा कठिनाई होती है। खासतौर पर जब बच्चे स्कूल में जाना शुरू करते हैं तो उनके साथ ऐसा होता है।
  • इस बीमारी के रोगी काफी धीरे धीरे चलते हैं और वह अक्सर अपनी आवश्यक वस्तुओं को भी गुम कर देते हैं। खासतौर इस बीमारी से ग्रसित छोटे बच्चे अपनी आवश्यक वस्तु जैसे कि कॉपी पेंसिल आदि गुम कर देते हैं।

अति-सक्रियता संबंधित ए डी एच डी ( Predominantly Hyperactive-Impulsive ADHD )

इस बीमारी के इस प्रकार में आवेग तथा अति सक्रियता के लक्षण होते हैं। इस प्रकार से ग्रस्त लोग ध्यान अभाव के लक्षण को भी प्रदर्शित करते हैं, परंतु यह इसके मुख्य लक्षण नहीं होते हम आपको अब कुछ लक्षण बताते हैं, जो इस प्रकार से ग्रसित लोगों में पाए जा सकते हैं जैसे कि :-

  • ADHD के इस प्रकार से पीड़ित लोग अकसर काफी ज़्यादा सक्रिय होते हैं और बहुत ज्यादा बेचैनी महसूस करते हैं
  • बीमारी के रोगी यदि निरंतर बैठे रहते हैं तो उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है
  • इस बीमारी के हीरो की अक्सर शांत बैठना पसंद करते हैं और यदि वह किसी भी काम को करते हैं तो वह इसके बाद के परिणामों के बारे में बिल्कुल भी नहीं सोचते

संयोजन ए डी एच डी ( Combination ADHD )

यदि किसी व्यक्ति को ए डी एच डी का यह प्रकार हो जाता है तो इसका मतलब है क्या आपको इसके लक्षण बिल्कुल सामान्य दिखते हैं इस लक्षण में दोनों ही प्रकार के लक्षण दिखाई दे सकते हैं ए डी एच डी के इस प्रकार से ग्रसित लोग ध्यानाभाव अति सक्रिय व्यवहार के कुछ लक्षण अनुभव कर सकते हैं, परंतु वह विद्यालय, कार्य तथा सामाजिक स्थितियों के काम में भी हस्तक्षेप करते हैं।

ADHD के लक्षण क्या है – Symptoms Of ADHD In Hindi ?

इस बीमारी के लोगों को बहुत से लक्षण दिखाई दे सकते हैं जैसे कि :-

  • इस बीमारी के रोगियों को ध्यान देने में काफी कठिनाई होती है, वह यदि काम करते हैं या फिर पढ़ाई करते हैं, तो किसी एक जगह पर अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते।
  • इस बीमारी के रोगियों को अक्सर दिन में सपने देखने की आदत होती है।
  • इस बीमारी से ग्रसित हो छोटे बच्चों को निर्देशों को मानने में कठिनाइयां होती है और वह दूसरे लोगों को भी अनसुना करते हैं।
  • इस बीमारी से ग्रसित बच्चों को अपनी आवश्यक वस्तुओं को भी गुम करने की आदत होती है, वह अक्सर अपनी पुस्तकें पेंसिल या फिर खिलौनों को खो देते हैं
  • इस बीमारी से ग्रसित छोटे बच्चों का ध्यान काफी आसानी से भटक जाता है और वह बार-बार घबराते हैं।
  • इस बीमारी के बच्चे काफी ज्यादा बात तो नहीं होते हैं और वह दूसरे लोग यदि बात कर रहे हैं तो उनके बीच में अवश्य बोलते हैं।

ADHD के क्या कारण है – Causes Of ADHD In Hindi ?

इस बीमारी के बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे कि :-

  • यह मानसिक भी हो सकती है इसका मतलब यह है, कि यदि आपके परिवार में आपके माता पिता या भाई बहन को यह बीमारी थी तो यहां आपको भी हो सकती है।
  • जब किसी छोटे बच्चे के दिमाग में परिवर्तन हो रहा होता है, तो उसके कारण भी उन्हें ध्यान केंद्रित करने में एक समस्या पैदा हो सकती है।
  • यदि बचपन में छोटे बच्चों को पोस्टिक तत्व का सेवन ना कराया जाए, या फिर उनकी अच्छी परवरिश ना हो तो उसके कारण भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है, इसके अतिरिक्त गर्भावस्था के दौरान खराब पोषण के कारण भी यह समस्या हो सकती है।
  • अगर किसी के मस्तिष्क के सामने वाले हिस्से पर चोट लगती है, तो उसके कारण भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।
  • यदि कोई महिला गर्भावस्था के दौरान शराब पीती है या फिर धूम्रपान करती है तो उसके कारण भी बच्चे को यह समस्या हो सकती है।
  • जिन बच्चों का जन्म समय से पहले हो जाता है उनमें भी समस्या पाई जाती है।
ADHD से बचने के तरीके - Prevention Of ADHD In Hindi ?

ADHD से बचने के तरीके – Prevention Of ADHD In Hindi ?

  • इस बीमारी से अपने छोटे बच्चों को बचाने का सबसे बड़ा तरीका तो यह है कि, जब बच्चा मां के पेट में होता है, तो उस समय मां को शराब, धूम्रपान तथा दवाइयों के अधिक सेवन से बचना चाहिए और खास तौर पर किसी भी विषैले पदार्थों के संपर्क में नहीं आना चाहिए।
  • अपने बच्चों का जन्म से ही ध्यान रखना चाहिए इस प्रकार के कोई भी लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत उसके इलाज के बारे में सोचना चाहिए।
  • यदि आपके आसपास कोई केमिकल की फैक्ट्री है, तो आपको उसके आसपास से गुजरते समय अपना मुंह ढ़कना चाहिए, क्योंकि बहुत से केमिकल के संपर्क में आने पर भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • अगर बच्चे बचपन से ही लगातार मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, और मोबाइल फोन में गेम खेलते हैं कथा टीवी में वीडियो गेम खेलते हैं, तो इसके कारण भी  बच्चों को इस बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।

ADHD के जोखिम कारक क्या है – Risk Factor Of ADHD In Hindi ?

  • अगर किसी व्यक्ति के पूर्वजों को यह बीमारी है तो, उन्हें भी इस बीमारी होने का खतरा काफी बढ़ जाता है, क्योंकि कुछ बीमारी अनुवांशिक होती हैं जो पीढ़ी दर पीढ़ी तक चलती हैं।
  • अगर आप किसी पर्यावरणीय विषैले पदार्थों के संपर्क में आते हैं, जैसे की इमारतों के पेंट या फिर पाइप में पाए जाने वाला लेड आदि तो, इसके कारण भी ADHD बीमारी के होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • अगर कोई महिला गर्भावस्था के दौरान शराब का अधिक सेवन करती है या फिर धूम्रपान करती है, तो इसके कारण भी उसके बच्चे को इस बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान यदि बच्चे को चोट लग जाती है या फिर बच्चा समय से पहले ही जन्म लेता है, तो उसके कारण भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है।

ADHD का परीक्षण कैसे होता है – Diagnosis Of ADHD In Hindi ?

इस बीमारी का परीक्षण करवाने के लिए आपको अपने बच्चे को डॉक्टर के पास लेकर जाना होता है। डॉक्टर आपके बच्चे के पिछले छह महीनों के लक्षणों के बारे में आपसे पूछता है और फिर आपको डॉक्टर को सब बातें बता दी होती है, फिर उसी हिसाब से डॉक्टर सभी स्वास्थ्य समस्याओं की जांच करता है और शारीरिक परीक्षण भी करता है।

यदि डॉक्टर को यह संदेह होता है कि आपके बच्चे को यह बीमारी है, तो फिर डॉक्टर आपको इस बीमारी के विशेषज्ञ के पास भी भेज सकता है। हम आपको बता देंगे कि, इस बीमारी का परीक्षण मनोचिकित्सक ( Psychiatrist ) या फिर न्यूरोलॉजिस्ट ( Neurologist ) के द्वारा ही संभव है, इसलिए आप स्वयं भी परीक्षण के लिए उनके पास जा सकते हैं।

ADHD In Hindi | ADHD का इलाज कैसे होता है - Treatment Of ADHD In Hindi ?
image source :- https://www.canva.com/

ADHD का इलाज कैसे होता है – Treatment Of ADHD In Hindi ?

  • अगर हम इस बीमारी के उपचार के बारे में बात करें तो हम आपको बता दें, कि इससे बीमारी का उपचार करने के लिए डॉक्टर बहुत सी दवाइयां भी आपको दे सकता है। यह दवाइयां अति सक्रिय है तथा आवेगी व्यवहार को नियंत्रित करने तथा ध्यान केंद्रित करने में मदद करती हैं।
  • लेकिन हम आपको बता दें, कि 6 वर्ष की आयु से ज्यादा आयु के बच्चे को यह दवाइयां दी जा सकती हैं।
  • डॉक्टर के द्वारा विशेष रूप से थेरेपी भी की जाएगी और बच्चों को स्कूल में विशेष रूप से शिक्षा दी जाएगी, ताकि उन्हें सीखने में मदद मिल सके और उनके दिमाग की संरचना भी अच्छे से हो सके।

ADHD Conclusion :

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको ADHD Disease In Hindi के बारे में विस्तार से बताया है, कि Causes Of ADHD Disease In Hindi तथा Symptoms Of ADHD Disease In Hindi और इसी के साथ-साथ हमने आपको Treatment Of ADHD Disease In Hindi के बारे में भी विस्तार से बताया है, अभी अगर आपको एडीएसडी से संबंधित कोई प्रश्न पूछना है तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This