Delusional Disorder क्या है – जानिए Delusional Disorder के कारण, लक्षण व बचाव ? What is Delusional Disorder? Symptoms, Causes, Diagnosis, and Best Treatments

Must Read

Dr. Puneet Boora
Dr. Puneet Boorahttp://goodswasthya.com
Dr. Puneet Boora holds a Doctorate in Pharmacy (Pharm D) degree and have at least 1.5 years of writing experience in Health and Medicine related domains. He was a former writer for pharma magazines and articles. His hobbies including cricket, table tennis, and other sports. He is well known for his work in medicine dispensing and medical checkups. He prefers his work more and always tries to learn new therapeutic ways of medication dispensing. डॉ. पुनीत बोरा के पास फार्मेसी में डॉक्टरेट (फार्म डी) की डिग्री है और स्वास्थ्य और चिकित्सा से संबंधित डोमेन में कम से कम 1.5 वर्ष का लेखन अनुभव है। वह फार्मा पत्रिकाओं और आर्टिकल्स के पूर्व लेखक थे। क्रिकेट, टेबल टेनिस और अन्य खेल खेलना उनका शौक है। वह दवा वितरण और चिकित्सा जांच में अपने काम के लिए जाने जाते हैं। वह अपने काम को अधिक पसंद करते हैं और हमेशा दवा वितरण के नए चिकित्सीय तरीके सीखने की कोशिश करते हैं।

Delusional Disorder क्या है  – जानिए Delusional Disorder के कारण, लक्षण व बचाव ? What is Delusional Disorder in Hindi its Symptoms Causes and Treatments

मस्तिष्क से संबंधित बहुत ही ऐसी समस्याएं हैं जिनका इलाज शुरुआती लक्षण दिखने पर ही करना होता है, क्योंकि मस्तिष्क से संबंधित बीमारियों में हम किसी भी प्रकार का कोई खतरा नहीं उठा सकते आप सभी ने भ्रम रोग के बारे में तो सुना ही होगा, यह रोग बहुत से लोगों को होता है, इस रोग में व्यक्ति को बार-बार कुछ ना कुछ भ्रम होता रहता है।

व्यक्ति को बहुत सी ऐसी चीजें दिखती हैं जो वास्तव में नहीं होती, परंतु वह व्यक्ति उन्हें महसूस करता है। इस बीमारी के रोगियों के मन में हमेशा एक भ्रम रहता है और वह डरे हुए रहते हैं इस बीमारी के लोगों को दूसरे व्यक्तियों पर चेक करना तथा भरोसा ना करने की भी आदत होती है, जोकि इस बीमारी के अंत तक चलती है। आज हम आपको भ्रम रोग के बारे में विस्तार से बताएंगे की :-

  • Delusional Disorder क्या होता है – What Is Delusional Disorder In Hindi ?
  • Delusional Disorder के क्या लक्षण होते है – Symptoms Of Delusional Disorder In Hindi ?
  • Delusional Disorder के क्या कारण होते हैं – Causes Of Delusional Disorder In Hindi ?
  • Delusional Disorder का परीक्षण कैसे होता है – Diagnosis Of Delusional Disorder In Hindi ?
  • Delusional Disorder से कैसे बचें – Prevention Of Delusional Disorder In Hindi ?
  • Delusional Disorder का इलाज – Treatment Of Delusional Disorder In Hindi ?
delusional disorder symptoms | Delusional Disorder क्या होता है | What Is Delusional Disorder In Hindi?

Delusional Disorder क्या होता है – What Is Delusional Disorder In Hindi ?

भ्रम रोग ऐसा मनोविकार होता है जिसमें वास्तविक तथा काल्पनिक में बिल्कुल भी अंतर नहीं समझ पाता, इस रोग में व्यक्ति अक्सर काल्पनिक चीजों पर विश्वास करता है, भ्रम बहुत सी मानसिक बीमारियों का भी लक्षण हो सकता है, परंतु Delusional Disorder उसे कहते हैं, जब व्यक्ति को मुख्य रूप से किसी भ्रम की समस्या हो रही हो Delusional Disorder की स्थिति में रोगी 1 महीने या फिर उससे अधिक समय तक एक या एक से अधिक विषय के बारे में काफी ज्यादा भ्रमित रहता है, वैसे तो इस रोग से पीड़ित व्यक्ति अपने सामान्य कार्य करता रहता है ।

परंतु Delusional Disorder के कारण उस व्यक्ति का जीवन बहुत ज्यादा प्रभावित होता है अगर किसी व्यक्ति को यह रोग हो जाता है, तो यह रोग डॉक्टर के द्वारा दी जाने वाली दवाइयों के बिना ठीक नहीं होता। इसके साथ-साथ इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को मस्तिष्क से संबंधित थेरेपी भी दी जाती है, ताकि उसे भ्रम रोग के कारण होने वाली समस्याओं से छुटकारा दिलाया जा सके। क्योंकि Delusional Disorder काफी लंबे समय तक रहने पर व्यक्ति को कानूनी तथा आर्थिक समस्याएं भी हो सकती है, क्योंकि वह अपने भ्रम के कारण मुसीबत में भी फस सकते हैं।

Delusional Disorder के क्या लक्षण होते है – Symptoms Of Delusional Disorder In Hindi ?

Delusional Disorder के बहुत से लक्षण होते हैं जैसे कि :-

  • अगर किसी लड़की को यह रोग हो जाता है, तो वह खुद को शोषण का शिकार समझती है, फिर इसी भ्रम के कारण वह काफी ज्यादा परेशान रहती है और उसको यही भ्रम कुछ हफ्तों से लेकर महीनों तक रह सकता है।
  • इस बीमारी के लक्षण के रूप में व्यक्ति अपने दूसरे दोस्तों की वफादारी पर भी संदेह कर सकता है, वैसे तो हम आपको बता दें कि,  Delusional Disorder का मरीज किसी दूसरे व्यक्ति पर भरोसा नहीं करता , इस बीमारी का रोगी हमेशा बिना मतलब के ही दूसरे व्यक्तियों पर शक करता रहता है।
  • यदि कहीं पर कुछ बात हो रही है और उन छोटी-मोटी घटनाओं से भी डराने वाले मतलब निकालना यह भी Delusional Disorder बीमारी का लक्षण है।
  • इस बीमारी के रोगी किसी भी बात पर तुरंत ही प्रतिक्रिया देते हैं।
  • Delusional Disorder के मरीज बहुत आसानी से उत्तेजित हो जाते हैं और वह मानसिक खतरों से बचते हुए खुद को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • इस बीमारी के रोगियों को प्रेम संबंधों में भी कड़वाहट महसूस हो सकती है और भ्रम के कारण वह दूसरे लोगों से भी बेमतलब ही लड़ सकते हैं।
  • इस बीमारी के रोगी अपने आपको ज्यादातर अकेला रखना ही पसंद करते हैं और वह अकेले रहकर भी कोई काम ढंग से नहीं कर पाते, क्योंकि उन्हें बार-बार एक ही भ्रम होता रहता है।
  • इस बीमारी के रोगी दूसरों के प्रति आक्रामक व्यवहार दर्शाते हैं और हमेशा जो सामने वाला व्यक्ति बोल रहा है तो वह रोगी उसके बिल्कुल विपरीत ही बोलता है।
delusional disorder treatment | Delusional Disorder के क्या लक्षण होते है | Symptoms Of Delusional Disorder In Hindi?

Delusional Disorder के क्या कारण होते हैं – Causes Of Delusional Disorder In Hindi ?

इस रूप का कारण जैविक कारण भी हो सकता है शोधकर्ता इस बात पर अभी खोज कर रहे हैं कि कैसे मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में नुकसान पहुंचने की वजह से भ्रम रोग हो सकता है वैसे तो हमारे दिमाग में कुछ पदार्थों के असंतुलन होने को भ्रम रोग का कारण माना जाता है

इस बीमारी को होने का कारण अनुवांशिक भी हो सकता है, हो सकता है कि आपके परिवार में किसी को यह बीमारी हो, तो फिर यह बीमारी आपको भी हो सकती है, क्योंकि बहुत से किए गए शोध के अनुसार यह पता लगा है, कि यह रोग होने की प्रवृत्ति माता-पिता से ही बच्चों में आती है।

अगर किसी के साथ कोई बहुत ही दर्दनाक घटना घटी है तो उसके कारण भी भ्रम रोग हो सकता है, क्योंकि जीवन में बहुत सी घटनाएं ऐसी होती हैं जो व्यक्ति को अंदर तक तोड़ देती हैं।

अगर कोई व्यक्ति ही नींद की दवाई लेता है और वह नींद की दवाई की ओवरडोज खाता है, तो उसके कारण भी उसे यह बीमारी हो सकती है।

जो व्यक्ति शराब या फिर ड्रग्स का सेवन अधिक करते हैं तो, उन्हें भी यह समस्या हो सकती है। खासतौर पर ज्यादा नशा करने वाले व्यक्तियों को जब नशा करने की वह चीज नहीं मिलती, तो उन्हें इस प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसीलिए व्यक्ति को अपनी नशे की लत पी छोड़नी पड़ती है।

यह भी पढ़े :- ADHD क्या है जानिए ADHD के कारण, लक्षण बचाव तथा इलाज ?

Delusional Disorder का परीक्षण कैसे होता है – Diagnosis Of Delusional Disorder In Hindi ?

यदि किसी भी व्यक्ति को ब्रह्म रोग के लक्षण अनुभव हो रहे हैं तो उसे तुरंत ही डॉक्टर के पास जांच के लिए जाना चाहिए इसके लिए डॉक्टर आपका शारीरिक परीक्षण भी करेंगे जैसे कि :-

  • हम आपको बता दें कि, इस रोग के बारे में पता लगाने के लिए कोई भी परीक्षण उपलब्ध नहीं है, परंतु डॉक्टर एक्स-रे तथा ब्लड टेस्ट के माध्यम से आप के लक्षणों के शारीरिक कारण का पता लगा सकते हैं।
  • अगर परीक्षण के माध्यम से इस रोग के बारे में पता नहीं चल पाता, तो डॉक्टर आपको मनोचिकित्सक ( Psychiatrist ) या फिर मनोविज्ञानी ( Psychologist ) के पास जाने के लिए भी कह सकता है और मनोचिकित्सक तथा मनोवैज्ञानिक इस बीमारी के बारे में तुरंत ही पता लगा सकते हैं, क्योंकि मनोवैज्ञानिक रोगी से बहुत से प्रश्न पूछता है और उन प्रश्नों के आधार पर ही वह आसानी से पता लगा लेता है, कि यह व्यक्ति Delusional Disorder का शिकार है या नहीं है।
  • इस रोग के बारे में पता लगाने के लिए और उनके दोस्तों तथा परिवार के सदस्यों से भी बात की जाती है ताकि भ्रम रोग के बारे में पता लग सके।
  • इसरो के बारे में पता लगाने के लिए दुर्लभ मामलों में डॉक्टर के द्वारा एमआरआई ( MRI ) तथा सीटी स्कैन ( CT scan ) जैसे परीक्षण भी किए जा सकते हैं।

Delusional Disorder की जटिलताएं – Delusional Disorder Risks & Complication In Hindi ?

भ्रम रोग से व्यक्ति को बहुत सी समस्याएं हो सकती हैं जैसे कि :-

  • इस रोग के कारण व्यक्ति डिप्रेशन में भी जा सकता है और आत्महत्या भी कर सकता है।
  • जो रोगी अपने भ्रम को वास्तविक मानता है, तो उस रोगी का व्यवहार काफी आक्रामक हो सकता है और वह बहुत सी कानूनी समस्याएं भी उत्पन्न कर सकता है, उदाहरण के लिए इस बीमारी का रोगी किसी व्यक्ति की जान तक ले सकता है।
  • इस बीमारी का रोगी काफी ज्यादा अकेला पड़ जाता है। खासकर यदि भ्रम रोग के लक्षण उसके रिश्तो को प्रभावित कर रहे हैं, तो इसके कारण वह काफी अकेला पड़ सकता है।
  • इस रोग के कारण व्यक्ति की नौकरी भी जा सकती है और उसे आगे भविष्य में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि जब किसी व्यक्ति को यह रोग हो जाता है, तो उसके कारण वह कोई भी काम अच्छे से नहीं कर पाता। इसीलिए यह रोग होने के पश्चात वह व्यक्ति अच्छे से नौकरी नहीं कर पाएगा जिस कारण उसकी नौकरी जा सकती हैं।
Delusional Disorder का इलाज | Treatment Of Delusional Disorder In Hindi ? | delusional disorder test
image source :-https://www.canva.com/

Delusional Disorder का इलाज – Treatment Of Delusional Disorder In Hindi?

वैसे तो इस रोग का इलाज आमतौर पर दवाइयों तथा मनोचिकित्सक के द्वारा किया जाता है यह एक ऐसा रोग है जो सिर्फ दवाइयों से ही ठीक नहीं हो पाता ऐसे लोग जिनके लक्षण काफी गंभीर होते हैं और वह अपने आप को या दूसरों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं तो इस स्थिति में व्यक्ति को सामान्य होने तक अस्पताल में भी रखा जा सकता है

  • इस बीमारी का अच्छा इलाज मनोचिकित्सक के द्वारा ही किया जाता है, मनोचिकित्सक के द्वारा कई प्रकार की मनोज चिकित्सा से रोगी के व्यवहार तथा मानसिक समस्याओं को ठीक किया जा सकता है। मनोचिकित्सक के द्वारा रोगी को इस बीमारी के लक्षणों पर नियंत्रित करना सिखाया जाता है। फिर उसके पश्चात व्यक्ति अपने उन विचारों को बदल भी पाता है जिनसे उसे ब्रह्मलोक की समस्या होती है।
  • ब्राह्मणों को ठीक करने के लिए डॉक्टर के द्वारा बहुत सी दवाइयां भी दी जाती हैं, जिनके माध्यम से रोगी को ठीक होने में काफी मदद मिलती है। हमारे शरीर में डोपामाइन ( Dopamine ) तथा सेरोटोनिन ( Serotonin ) नामक न्यूरो ट्रांसमीटर ( Neuro Transmitter ) के कारण ही भ्रम उत्पन्न होता है और यह दवाइयां इन्हें रोकती हैं जिसके पश्चात व्यक्ति को इस बीमारी से छुटकारा मिल जाता है, इसी के साथ साथ डॉक्टर के द्वारा व्यक्ति को एंटीडिप्रेसेंट ( Anti-Depressant ) दवाइयां भी दी जाती हैं, ताकि भ्रम रोग का अच्छा इलाज किया जा सके।

Delusional Disorder Conclusion :-

उम्मीद है कि आपको ब्रह्म रोग से संबंधित हमारी पोस्ट काफी पसंद आई होगी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने Treatment Of Delusional Disorder In Hindi तथा Causes Of Delusional Disorder In Hindi के बारे में बताया है। इसी के साथ साथ हमने आपको Diagnosis Of Delusional Disorder In Hindi के बारे में भी बताया है, अगर अब भी आपको कोई प्रश्न पूछना हो, तो आप कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This