Pfizer BioNtech US FDA Approval – कोविड-19 की वैक्सीन को अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन से मिली मंजूरी।

Must Read

Dr. Puneet Boora
Dr. Puneet Boorahttp://goodswasthya.com
Dr. Puneet Boora holds a Doctorate in Pharmacy (Pharm D) degree and have at least 1.5 years of writing experience in Health and Medicine related domains. He was a former writer for pharma magazines and articles. His hobbies including cricket, table tennis, and other sports. He is well known for his work in medicine dispensing and medical checkups. He prefers his work more and always tries to learn new therapeutic ways of medication dispensing. डॉ. पुनीत बोरा के पास फार्मेसी में डॉक्टरेट (फार्म डी) की डिग्री है और स्वास्थ्य और चिकित्सा से संबंधित डोमेन में कम से कम 1.5 वर्ष का लेखन अनुभव है। वह फार्मा पत्रिकाओं और आर्टिकल्स के पूर्व लेखक थे। क्रिकेट, टेबल टेनिस और अन्य खेल खेलना उनका शौक है। वह दवा वितरण और चिकित्सा जांच में अपने काम के लिए जाने जाते हैं। वह अपने काम को अधिक पसंद करते हैं और हमेशा दवा वितरण के नए चिकित्सीय तरीके सीखने की कोशिश करते हैं।

Pfizer BioNtech US FDA Approval : फ़ाइज़र बायो न टेक के लिए बड़ी खुशखबरी।

देश और दुनिया भर में करीब एक साल से फैल रही कोरोना वायरस महामारी ने अपना खतरनाक और प्रभावशाली रूप दुनिया के सामने दिखाया है। इसकी पहली और दूसरी लहर में लाखों-करोड़ों लोग ना केवल संक्रमित हुए बल्कि कई लोगों ने इस महामारी की वजह से अपनी जान गवाईं थी।

वहीं कोरोना वायरस के नए वेरिएंट्स ने आकर सभी की चिंता और डर को और भी बढ़ा दिया। इसी बीच डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की मदद से कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए कई देशों में अलग-अलग वैक्सीन बनाने की तैयारी शुरू की गई जिसमें अब तक 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन तैयार की जा चुकी है और भारत के साथ कई देशों में लोगों को यह टीका भी लगाया जा चुका है। वहीं 18 वर्ष से कम उम्र के लोगों के लिए कोरोना की दूसरी लहर के बाद वैक्सीन बनाने की तैयारी शुरू की गई थी।

और पढ़ें – ZyCoV-D कोरोना की सुई मुक्त वैक्सीन को मिल गई मंजूरी: 12 वर्ष से ऊपर सभी लोगों का किया जाएगा टीकाकरण

Pfizer BioNtech US FDA Approval पाने वाली पहली कंपनी बानी।

आपको बता दें कि दिग्गज फार्मा कंपनी फाइजर और बायोएनटेक पहली ऐसी जैव या कंपनी है जिसे यूएसएफडीए यानी अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा 18 वर्ष से कम उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन को लोगों के बीच देने की पूरी मंजूरी दे दी गई है।

इस कंपनी ने 18 वर्ष से कम उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन को तैयार किया था जिसके लिए बीते शुक्रवार को वह अपने टीकों के लिए यूएसएफडीए से मंजूरी मांग रही थी जिसे अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट के आधार पर दिसंबर महीने से आपातकालीन इस्तेमाल के लिए इन दोनों कंपनियों को कोरोना वैक्सीन की मंजूरी दे दी है।

और पढ़ें – Covid-19 R- Value: कोविड-19 का R-value हुआ 1 से भी नीचे, कोरोनावायरस मामले में हो रही है गिरावट

क्या कहते है अल्बर्ट बोलरा Pfizer BioNtech के US FDA Approval पर।

अल्बर्ट बोलरा जो कि फाइजर के मुख्य कार्यकारी हैं, उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि उनकी कंपनी अमेरिकी सरकार की मदद से कई लोगों को दिसंबर तक यह वैक्सीन देगी और उसके बाद इसमें प्रगति की उन्हें पूरी उम्मीद है।

फाइजर और बायोएनटेक की दोनों कंपनी ने आपातकालीन इस्तेमाल के लिए 12 वर्ष से 15 वर्ष के लोगों के डेटा को सामने लाकर उसके लिए भी मंजूरी ले ली है। हालांकि यूएसएफडीए द्वारा इन कंपनी को अभी केवल 16 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों के बीच कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए इस वैक्सीन को देने की मंजूरी मिली है। फाइजर और बायोएनटेक की बनाई गई इस वैक्सीन को कॉमिरनाटी के रूप में बाजारों में लाया जाएगा।

US FDA के आयुक्त जेनेट वुडकॉक का बयान।

यूएसएफडीए के कार्यवाहक आयुक्त जेनेट वुडकॉक ने इस वैक्सीन के बारे में बताते हुए कहा कि कोरोना की लड़ाई आगे भी जारी रहेगी जिसके कारण इस वैक्सीन को मंजूरी मिली है। उन्होंने बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ने वाले कई दूसरे टीके को भी वैज्ञानिक मानकों और एफडीए की कठोर नियमों को मानते हुए आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल सकती है।

उन्होंने कहा कि जनता को इस बात का आश्वासन होना जरूरी है कि मंजूरी मिल रहे सभी टीके कोरोना वायरस पर प्रभावशाली हैं और पूरी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इन वैक्सीन का निर्माण किया जाता है और उच्च मानकों के साथ इसकी गुणवत्ता पूरी की जाती है।

हालांकि लाखों लोगों को कोविड-19 के खिलाफ लड़ने वाले टीके पहले ही दिए जा चुके हैं इसलिए फाइजर और बायोएनटेक कंपनी को यूएसएफडीए द्वारा दी गई मंजूरी के बाद लोगों का किसी वैक्सीन पर विश्वास किया जा सकता है। यह वैक्सीन अमेरिका में कोरोना महामारी से लड़ने के लिए एक कदम आगे बढ़ाने में मदद कर सकती है।

आपको बता दें कि फाइजर और बायो एंड टेक कि इस गोविंदा वैक्सीन को 2020 के 11 दिसंबर को 16 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए यूरोपीय संघ के तहत उपलब्ध कराने की बात कही गई थी जबकि 2021 के 10 मई को इस वैक्सीन को 12 से 15 वर्ष के उम्र वाले लोगों के प्रशिक्षण और प्राधिकरण को विस्तार किया गया था। वही एफडीए द्वारा मंजूरी मिली ईयू को आपातकालीन स्थिति स्थितियों के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य चिकित्सा के लिए मैदान किया जा सकेगा जिसकी मदद से किसी बीमारी के उपचार में वह प्रभावी हो सके।

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This