हार्ट अटैक क्या है ? कैसे बचें। जानिए इसके लक्षण , होने के कारण , निदान , इलाज और बचाव | What is Heart Attack ? Know its symptoms, causes, diagnosis, treatment and prevention in Hindi.

Must Read

Dr. Pranav Bhardwaj
Dr. Pranav Bhardwajhttp://www.goodswasthya.com
Pranav Bhardwaj has been in health blogging for the last couple of years with writeups for different magazines and articles. He holds a Doctor of Pharmacy ( PharmD ) degree and having experience in drug administration and control drug delivery system. His hobbies include Reading magazines, Netflixing. Pranav is a very calming person and you will always enjoy his company and is a charm to talk to.

जानिये दिल के दौरे Heart Attack की शुरुआती चेतावनी , कारण और उपचार

जैसा की हम सभी लोग जानते है कि दिल हमारे body का एक सबसे महत्वपूर्ण  हिस्सा है! जिसके  बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है! आजकल बहुत से रोग आम होते जा रहे हैं कुछ तुरंत ही इंसान कि जान ले लेते हैं और कुछ धीरे धीरे मौत के करीब ले जाते है! अगर बात करे तुरंत जान लेने कि तो दो बीमारियों का नाम सबसे ऊपर आता है- हार्ट अटैक जिसे हम दिल का दौरा भी कहते है और दूसरा ब्रेन स्ट्रोक! Heart attack अचानक जरूर होता है लेकिन बिना कोई hint दिए यह भी नहीं आता।

बस जरूरी यह है कि हम अपने body के इन इशारों को समझ पाते हैं या नहीं। जरा-सी चूक भी भारी पड़ सकती है। तो मित्रो आइये जानते है के हार्ट अटैक होने क प्रमुख कारण उपचार एवं बचाव के कारगर तरीके हमारे इस लेख के  जरिये तो पढना जारी रखे!

आज कल के दौर में दिल के दौरे का जोखिम बहुत बढ़ते ही जा रहे है। बच्चों से लेकर बूढ़ों तक, सभी को दिल कि बीमारी से खतरा है। हार्ट अटैक दिल की बिमारियों मैं सबसे  खतरनाक माना जाता हैं, जो पुरे दुनिया में बहुत तेज़ी से बढ़ रही है। अगर इसका सही समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो मृत्यु होने की भी संभावना बढ़ जाती है।  पर घबराये नही इससे बचाव के कई उपाय और दवाए मौजूद है जिनके निरंतर  प्रयोग से आप काफी हद्द तक इस बीमारी से निजात पा सकते है!

एक लोकप्रिय report के अनुसार भारत में हर साल 15 प्रतिशत लोगों की मौत हार्ट अटैक के कारण से हो जाती है। यह आंकडे इस बीमारी की भयंकर स्थिति को दर्शाने के लिए काफी हैं, लेकिन फिर भी यह काफी दुर्भाग्य की बात है कि बहुत सारे लोग इसकी सम्पूर्ण जानकारी से अनजान हैं।

अगर आप भी ऐसे ही लोगों में आते हैं, तो आपको इस लेख को पूरा पढ़ना चाहिए क्योंकि हमने इसमें हार्ट अटैक से जुड़ी आवश्यक जानकारी देने की कोशिश की है।

What is heart attack in Hindi ? – क्या है दिल का दौरा ?

Heart attack (दिल के दौरे) से तात्पर्य दिल में खून की कमी होने पर दिल की मांसपेशियों का खराब होना है।
हालांकिं, हार्ट अटैक का इलाज सही समय पर सही कदम उठाने के साथ संभव है, लेकिन यदि इससे पीड़ित इन्सान को समय रहते अस्पताल न पहुंचाया जाए और प्राथमिक उपचार न मिले तो यह उसकी मौत कि वजह भी बन सकता है। आमतौर पर, यह खून की आपूर्ति Blood clots से दिल की मांसेपिशियों की धमनियों में Blockage के कारण होती है।

हार्ट अटैक के लक्षण क्या हैं ? – What are the Symptoms of Heart Attack in Hindi?

किसी भी अन्य बीमारी की तरह हार्ट अटैक यानि दिल के दौरे के भी कुछ लक्षण होते हैं, जो इसके होने के संकेत होते हैं। यदि किसी आप  को ये 6 संकेत नज़र आते हैं, तो तुरंत सावधान हो जाना चाहिए और आवश्यक कदम उठाना चाहिए-

हार्ट अटैक के प्रमुख लक्षणों में हैं- सीने में दर्द,  पीठ और जबड़े तक जाना,  बांये हाथ में दर्द, घबराहट, सांस लेने में परेशानी, तेज़ ठंडा पसीना आना!

यह हार्ट अटैक का प्रमुख लक्षण है, जिसमें व्यक्ति को body के कुछ अंगों जैसे छाती, कंधे इत्यादि में तेज़ दर्द होता है। कुछ समय के बाद यह दर्द body के अन्य हिस्सों में भी शुरू हो जाता है और व्यक्ति को तुरंत मेडिकल हेल्प की अवश्यकता पड़ती है।

  • थकान अनिद्रा:  

अगर किसी इंसान को बिना किसी मतलब का थकान दिखने लगे तो उसे सावधान होने की जरूरत है क्योंकि ऐसी स्तिथि में हार्ट अटैक (Heart Attack) होने की chance बढ़ जाते है! वैसे अधिकतर महिलाओं में ये लक्षण देखने को मिलता है! असामान्य थकान से हमारा तात्पर्य है जैसे कोई छोटा मोटा काम कने में थकावट महसूस होना जैसे चाय बनाना,

अधिक समय बैठ कर कोई कम करना आदि में थक जाना! ये भी हार्ट अटैक (Heart Attack) के लक्षणों में से एक है क्योंकि अनिद्रा हार्ट अटैक (Heart Attack) के खतरे को बढ़ा देती है.  पहली नज़र में बेशक ये सामान्य लग सकती हैं और इसी कारण बहुत सारे व्यक्ति इनका इलाज नहीं कराते हैं, लेकिन उनका ऐसा करना उनके लिए बेहद नुकसानदायक साबित हो सकता है।

  • सांस में कमी : 

जी हां अगर आपको ऐसा लगता हो की आपको सांस लेने में परेशानी हो रही है या फिर आपको काफी समय से ऐसा लगता है कि आपको पर्याप्त oxyzen नहीं मिल रही, जिससे आपको चक्कर आना और सांस की तकलीफ हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

  • पसीने आना 

पसीने आना बेशक बहुत से लोगो को normal लगता होगा पर ये बिलकुल भी normal नही है अगर आपको बेवजह पसीना आता है! अक्सर, दिल के दौरे की शुरूआत पसीने के साथ ही होती है। अत: इसी स्तर पर सही इलाज देना बेहतर तरीका साबित हो सकता है।

  • भूख  लगना 

भूक न लगना भी एक मुख्या लक्षण है आमतौर पर, लोग इसकी सटीक वजह नहीं जान पाते हैं और इसी कारण, वे हार्ट अटैक के शिकार बन जाते हैं। तो अगर आपको काफी समय से भूख नहीं लग रही है तो आपको अपने डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए!

  • हल्का सिरदर्द या चक्कर आना 

हल्का सिर दर्द भी आपको एक normal problem लग सकता है पर हम आपको बता दे के हल्का सिरदर्द होना या चक्कर आना भी हार्ट अटैक का संकेत साबित हो सकता है। अत: समझदारी इसी में है कि कोई भी इन्सान इसे ignore  न करे और इसका इलाज तुरंत कराए।

महिलाओं और पुरुषों में हार्ट अटैक के कौन से अलग लक्षण पाए जाते है ? – What are the different symptoms of Heart Attack found in Man and Women in Hindi ?

-महिलाओं और पुरुषों में हार्ट अटैक के लक्षणों में कुछ भिन्नता हो सकती है। ऊपर जो लक्षण बताए गए हैं, वे तो सभी में देखने को मिलते हैं लेकिन औरतो में कुछ अलग लक्षण भी हार्ट की समस्या की तरफ इशारा करते हैं।

-जैसे, गले में और सीने पर तेज जलन महसूस होना साथ में दर्द होना (हार्ट बर्न), मन खराब होना या उल्टी जैसा महसूस होना (नोजिया), बदहजमी की दिक्कत होना आदि। अगर आपके साथ ये समस्याएं होने लगी हैं तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेने कि आवस्यकता है।.

हार्ट अटैक जैसी समस्या का इलाज या समाधान क्या है ? – What are the Treatments of Heart Attack in Hindi ?

समस्या का उपाय तो यही है कि अगर आपको हार्ट अटैक के लक्षण दिखाई देते हैं तो किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह ले! अगर वह आपका checkup करने के बाद यह कन्फर्म कर दे के आपके दिल में कोई समस्या नहीं है और यह लक्षण किसी अन्य कारणों से हो रहे है तो आपको घराने कि जरूरत नहीं है यदि आप किसी और समस्या, जैसे गैस या सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस से आप पीड़ित हैं तो उसका इलाज  करवाएं! डरे नहीं, आप अपने मस्तिष्क को समझाए कि वह चिंता न करे, यह एक मामूली गैस या एसिडिटी का दर्द है!

दिल की देखभाल करना हम सभी का फ़र्ज़ है लेकिन यह भी जरूर याद रखें कि डर दिल के लिए बहुत घातक है तो डरना छोड़िए और जीना शुरू कीजिए! नीचे हमने दिल को स्वस्थ रखने के लिए कुछ महतवपूर्ण आयुर्वेदिक उपाय बताये है जिन्हें follow करके आप अपने दिल को स्वस्थ एवं तंदुरुस्त रख सकते है।

हार्ट अटैक से बचने के आयुर्वेदिक उपाय क्या हैं ? – What are the Ayurvedic remedies to avoid heart attack in Hindi?

लहसुन

दिल को हमेशा स्वस्थ और जवां रखने के लिए लहसुन बहुत अच्छा घरेलू उपाय है। लहसुन के विषय में हमने अपने पिछले लेख में बताया है के वह किस प्रकार हमारे Blood Presure  कण्ट्रोल करने में कितना कारगर है! लहसुन में कई गुण होते है जो दिल के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। एक report के अनुसार, अगर आप रोज़ एक लहसुन की कली खाते हैं तो बॉडी में बुरे कोलेस्ट्रॉल अच्छे कोलेस्ट्रॉल में बदल जाता है, वहीं आपका ब्लड प्रेशर भी नॉर्मल बना रहता है। जब ब्लडप्रेशर normal रहेगा तो दिल के दौरे और कोई दिल कि बीमारी होने का खतरा कम हो जाता है!

पीपल कि पत्तिया

पीपल की नई 15 पत्तियों रोज सुबह धोकर और छोटे – छोटे टुकड़ों में काटकर दो गिलास पानी में उबाल  ले ध्यान दे आपको पानी तब तक उबलना है जब तक वह एक गिलास न बचे ! इसे छानकर इसका सेवन करे यह उपाय आपके दिल को निरोगी और शक्तिशाली बना देगा! ऐसा आप हफ्ते में दो चार बार कर सकते है!

वर्कआउट/व्यायाम करें

यदि आप रोजाना व्यायाम करते हैं तो आपको इसके फायदों के बारे में जरूर पता होगा। उनमें से एक है- यह दिल के दौरे के खतरे को कम करता है। अगर आप व्यायाम करते हैं, तो न केवल आपका body  toned रहेगा बल्कि आप अधिक समय तक स्वस्थ भी रहेंगे।

तुलसी

 तुलसी की पांच से छ: पत्तियां और पुदीने की पांच पत्तियां रोज़ाना चबाने से ब्लड का pH लेवल सामान्य रहता है जिससे ब्लॉकेज नहीं बनते और हॉर्ट अटैक से बचाव होता है! यह रोज़ाना लिया जा सकता है! यह उपाय आप रोजाना कर सकते है!

हल्दी करेगा कमाल

जैसा कि आप जानते होंगे अयिर्वेद में हल्दी का महतवपूर्ण योगदान है कई दवाओ और उपचार में इसका प्रयोग किया जाता है हल्दी आपको दिल के रोगों से लड़ने में मदद करती है बस आपको हल्दी की गांठ को चार दिनों तक चुने के पानी में भिगोकर रखना है और फिर इसे निकालकर सुखाना है! इसे एक एक ग्राम की मात्रा में सुबह शाम गुनगुने पानी से लेने से ब्लॉकेज घुल जाते हैं।

हार्ट अटैक से बचाव कैसे करें ? – How to prevent heart attack in Hindi ?

हालांकि, दिल का दौरा heart attack आना किसी भी व्यक्ति के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। लेकिन, इसके विपरीत राहत की बात यह है कि कोई भी व्यक्ति निचे दिए गए उपायों को अपनाकर इससे अपने आपको बचा सकता है-

रेगुलर एक्सराइज़ या योग करना

हार्ट अटैक से बचाव करने में योग और एकसराइज़ करना बेहतर विकल्प माना गया है यह शरीर की मांसपेशियों को तंदरूस्त करने और प्रतिरोधक क्षमता  (इम्युनिटी पावर) को बेहतर करने में मदद  करता है। अगर हमारी मांसपेशिय healthy रहेंगी तो दिल कि बीमारियों के आलावा और भी बहुत सारी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है!

हेल्थी डाइट ले  

ऐसा कहा जाता है कि हमारे diet का हमारे body पर सीधा असर पड़ता है हम जैसी diet लेंगे हमारा शारीर उसी प्रकार रेस्पोंसे करेगा। यह बात हार्ट अटैक दिल के दौरे के संबंध में भी लागू होती है। इसी कारण, यदि कोई आदमी दिल के दौरे से दूर रहना चाहता है तो उसे अपने खान-पान पर पूरा ध्यान देना चाहिए और केवल हेल्थ डाइट ही लेना चाहिए। उसकी डाइट में कम कोलेस्ट्रॉल वाला भोजन, बिना तला हुआ भोजन, हरी सब्जी एवं फल इत्यादि जरूर  होने चाहिए।

स्मोकिंग या शराब का सेवन करना 

अकसर हमने टीवी एंड सिनेमा घरो में विज्ञापन देखा होंगा स्मोकिंग एंड ड्रिंकिंग इस इन्जुरिऔस तो हेल्थ जी हाँ यह बिलकुल सत्य है स्मोकिंग या शराब का सेवन करने वाले लोगों में कैंसर के आलावा दिल के दौरे के पड़ने की संभावना काफी हद तक बढ़ने की संभावना रहती है।

संतुलित वजन को बनाए रखना– 

मोटापा कई बीमारियों का घर है जिन लोगों का वजन अधिक होता है, उन्हें कई सारी बीमारियां जैसे डायबिटीज, रक्तचाप, दिल की बीमारी इत्यादि होने की संभावना रहती हैं। इसी लिए कोशिश करे अपना वज़न संतुलित रखे नियमित व्यायाम करे योग करे और सभी बिमारियों से दूर रहे सुरक्षित रहे!

हार्ट अटैक पे अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – Frequently Asked Questions on Heart Attack.

heart attack कितने समय तक रह सकता है?

Normally, हार्ट अटैक 10-15 मिनट तक देखने को मिलता है, लेकिन यदि इस पर तत्काल काबू न पाए जाए, तो यह इन्सान की मौत का कारण भी बन सकता है।

धूम्रपान और हृदय रोग के बीच क्या सम्बन्ध है?

विश्व भर में हृदय रोग से लगभग 30% मौतें सीधे सिगरेट पीने से संबंधित हैं। धूम्रपान एथेरोस्क्लेरोसिस का एक प्रमुख कारण है।
अन्य बातों के अलावा, धुएं में निकोटीन का कारण बनता है:
• दिल को कम ऑक्सीजन
• उच्च रक्तचाप और हृदय गति
• अधिक रक्त का थक्का बनना
• कोशिकाओं को नुकसान जो कोरोनरी धमनियों और अन्य रक्त वाहिकाओं को लाइन करते हैं।

आहार परिवर्तन कर के क्या मैं अपने हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता हूं?

सही भोजन करना हृदय रोग के जोखिम कारकों को कम करने या समाप्त करने का एक शक्तिशाली तरीका है। एक स्वस्थ आहार कुल और एलडीएल LDL (“खराब”) कोलेस्ट्रॉल, निम्न रक्तचाप, निम्न रक्त शर्करा में कटौती करने में मदद कर सकता है और पाउंड को कम करने में आपकी मदद कर सकता है।

महिलाओं में हृदय रोग कैसे आम है?

हृदय रोग 40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में मृत्यु का प्रमुख कारण है, खासकर रजोनिवृत्ति के बाद। एक बार एक महिला 50 वर्ष की आयु तक पहुंच जाती है, हृदय रोग के लिए जोखिम गंभीर रूप से बढ़ जाता है। युवा महिलाओं में जो जल्दी या सर्जिकल रजोनिवृत्ति से गुजरी हैं, हृदय रोग के लिए जोखिम भी अधिक है
• मधुमेह
• धूम्रपान करना
• उच्च रक्तचाप
• उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल, विशेष रूप से उच्च एलडीएल या “खराब” कोलेस्ट्रॉल
• मोटापा
• व्यायाम की कमी
• दिल की बीमारी का पारिवारिक इतिहास

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This