Immunity In Children : छोटे बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए माता-पिता को उन्हें क्या खिलाना चाहिए ? | How To boost your child Immunity simple tips in Hindi

Must Read

Dr. Arti Sharma
Dr. Arti Sharmahttp://goodswasthya.com
Dr. Arti Sharma is a certified BAMS doctor with at least 2 years of article writing experience on various medication and therapeutic lines. She is known for her best work in ayurvedic medication knowledge and there uses. Her hobbies including reading books and writing articles. With a good grip in sports, she uses to play for her university cricket team as a captain. Her work for ayurvedic is well known. डॉ आरती शर्मा एक प्रमाणित BAMS डॉक्टर है जिन्हे कम से कम 2 साल का विभिन्न दवाइयों और चिकित्सीय रेखाओं पर लेखन का अनुभव है। वह आयुर्वेदिक दवाओं के ज्ञान और उनके उपयोग में अपने बेहतरीन काम के लिए जानी जाती हैं। उनका शौक किताबें पढ़ना और लिखना है। खेलों में अच्छी पकड़ के साथ, वह एक कप्तान के रूप में अपनी विश्वविद्यालय क्रिकेट टीम के लिए खेल चुकी हैं। आयुर्वेद के क्षेत्र में उनका काम अच्छी तरह से जाना जाता है।

Immunity In Children : छोटे बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए माता-पिता को उन्हें क्या खिलाना चाहिए ?

जब छोटे बच्चों का जन्म होता है तो जन्म के समय उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कमजोर होती है लेकिन जनम के 6 महीने के अंदर-अंदर बच्चों की Immunity मजबूत बन जाती है जिसके पश्चात वह छोटी-मोटी बीमारियों से लड़ने की क्षमता रखते हैं। बहुत से बच्चे हैं ऐसे भी होते हैं जिनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता 2 से 3 साल की उम्र तक भी अच्छे से विकसित नहीं होती क्योंकि उन बच्चों के खाने पीने पर खास ध्यान नहीं दिया जाता। हम आपको बता दें कि ये बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता सिर्फ बेहतर खाने पीने की वजह से ही बढ़ती है। बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए उनके माता-पिता पूरी तरह से जिम्मेदार होते हैं।

Immunity In Children

वैसे तो 2 साल की उम्र तक बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता पूरी तरह से विकसित हो जाती है और उसके पश्चात उनका शरीर आसानी से अनेकों प्रकार के रोगों से लड़ लेता हैं। छोटे बच्चों की इम्युनिटी आप बहुत ही आसान तरीकों से बढ़ा सकते हैं उसके लिए आपको बस कुछ खास बातों का ख्याल रखना होगा जो कि हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको आज बताने वाले हैं।

आज इस पोस्ट के जरिए हम बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के बारे में बात करेंगे की Bacho Ki Immunity Kaise Badhaye तथा How To Improve The Immunity Of Children’S In Hindi इसके अतिरिक्त हम आपको Immunity Boost Foods For Children’S In Hindi तथा Diet Chart For Best Immunity In Children’S In Hindi के बारे में भी बताएंगे ताकि आप उस डाइट चार्ट को फॉलो करके अपने बच्चों की इम्युनिटी को बढ़ा सकें।

जन्म के पश्चात कितने समय तक बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहती हैं – For How Long After Birth the Immunity of Children’S Remains Strong In Hindi ?

जब बच्चों का जन्म होता है तो जन्म के पश्चात 45 से 60 दिनों तक तो बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी मजबूत रहती है क्योंकि जब बच्चे अपनी माता के गर्भ में होते हैं, तो उस समय उनकी माता के द्वारा उन्हें सभी पोषक तत्व की प्राप्ति होती हैं। इसीलिए बच्चों के शरीर में सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं और पोषक तत्वों की मौजूदगी के कारण ही बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता या प्रतिरक्षा प्रणाली बिल्कुल मजबूत रहती हैं।

मगर 60 दिनों के पश्चात धीरे-धीरे बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का स्तर घटने लगता हैं, क्योंकि माता के गर्भ में तो बच्चे को हर एक प्रकार का पोस्टिक आहार मिल रहा था लेकिन जब बच्चे का जन्म होता है तो उसे माता का दूध मिलता है या फिर बहुत से मामलों में बच्चे को माता का दूध भी काफी कम ही मिलता हैं।

इसलिए बच्चे को डब्बे वाले दूध के सहारे ही जीवित रखा जाता है। ऐसे में बच्चे के शरीर को सभी पोषक तत्व नहीं मिल पाते जिसकी वजह से उसके शरीर की इम्युनिटी कमजोर पड़ जाती है और इसीलिए बच्चा 2 महीने से लेकर 6 महीने तक की उम्र के बीच आसानी से अनेकों प्रकार की छोटी-मोटी बीमारियों की चपेट में भी आने लगता है। मगर जब बच्चा थोड़ी बहुत खाने की चीजें खाने लगता है तों खाने की चीजों के कारण बच्चे का पाचन तंत्र थोड़ा विकसित होने लगता है और पाचन तंत्र के विकसित होने के कारण बच्चे के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अपने आप ही मजबूत होती चली जाती हैं।

Cradle Cap: नवजात शिशु के सिर पर पपड़ी क्यों जमती हैं – जानिए सिर पर पपड़ी जमने के कारण, बचाव व इलाज ?

क्योंकि जब बच्चे को दूध के साथ साथ ठोस आहार भी खाने के लिए दिया जाता है तो वह ठोस आहार बच्चे के शरीर में धीरे-धीरे पोषक तत्वों की कमियों को पूरा करके बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता पूरी तरह से विकसित कर देता है, लेकिन आपको खाने के उन ठोस आहार के बारे में भी अच्छे से पता होना चाहिए। क्योंकि बहुत सी खाने की चीजें ऐसी हैं जो आप बच्चे को नहीं दे सकते केवल कुछ ही चीजें ऐसी होती है जो बच्चे को खाने में दी जा सकती हैं जिनके बारे में आपको विस्तार से बताएंगे।

बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने के लिए उन्हें क्या खिलाए – Best Food For Strong Immunity In Children’S In Hindi ?

अगर आपका बच्चा 1 साल तक की उम्र का हो गया है तो आप उसे बहुत सी ऐसी खाने की चीजें दे सकते हैं जिससे कि उसके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में काफी बढ़ोतरी होगी और वह भविष्य में होने वाली बीमारियों से भी बचा रहेगा।

1. हरी सब्जियां

आप अपने बच्चों को हरी सब्जियों का सेवन जरूर करवाइए हरी सब्जियां खासतौर पर पत्ता गोभी, फूलगोभी, ब्रोकली पालक आदि हरी सब्जियों में सभी पोषक तत्व जैसे कि विटामिन सी और विटामिन के आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम आदि सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। यह सभी पोषक तत्व बच्चों के शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए काफी हैं।

2. कद्दू

कद्दू की सब्जी को तो हर कोई जानता ही है क्योंकि यह सब्जियों में सबसे प्रसिद्ध सब्जी हैं। कद्दू की सब्जी को अगर वैज्ञानिकों की दृष्टि से देखा जाए तो इसमें एंटी ऑक्सीडेंट, विटामिन ए, विटामिन सी, मैग्नीशियम, मैग्नीज, फोलेट आदि तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए कद्दू को एक संपूर्ण आहार भी कहा जाता है कद्दू में इतनी क्षमता होती है कि यह बच्चों से लेकर बड़ों तक के शरीर में आसानी से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर उन्हें बीमारियों से पूरी तरह बचा सकता हैं।

Immunity In Children

3. खट्टे फल

आपको अपने बच्चों को खट्टे फलों का सेवन भी जरूर करना चाहिए खट्टे फल जैसे कि संतरा, मौसमी, नींबू आदि आपको पता होना चाहिए कि खट्टे फलों में एंटीऑक्सीडेंट गुण तथा विटामिन सी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो कि बच्चों के शरीर के इम्यून सिस्टम ( immune system ) को मजबूत बनाने में बेहद फायदेमंद साबित होता है इसीलिए आपको अपने बच्चों को खट्टे फलों का सेवन जरूर कराना चाहिए। आप अपने बच्चों को मौसमी का जूस या संतरे का जूस भी दिन में एक बार पिला सकती हैं यह भी उनके लिए काफी फायदेमंद रहेगा। इसके अतिरिक्त अगर आपका बच्चा संतरे को थोड़ा-थोड़ा करके खा रहा है तो इस प्रकार भी यह फायदेमंद साबित होगा।

4. खुबानी

खुबानी का नाम तो आपने सुना ही होगा बच्चों के शरीर को मजबूत बनाने के लिए खुबानी एक बहुत ही फायदेमंद औषधि भी साबित हो सकती है। खुबानी के अंदर सूजन रोधी गुण भी पाए जाते हैं और सूजन रोधी गुणों के साथ-साथ इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण ( antioxidant properties ) भी होते हैं जो बच्चों के इम्यून सिस्टम ( immune system ) को पूरी तरह से मजबूत बनाकर उनके शरीर की बीमारियों से लड़ने में पूरी मदद करते हैं खुमानी में विटामिन सी, पोटेशियम तथा फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं।

5. दलिया

बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए दलिया एक बहुत ही अच्छा आहार हैं। अगर आप अपने बच्चे को रोजाना दलिया खिलाते हैं तो दलिया खाने से आपके बच्चे के शरीर को भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मिलते हैं क्योंकि दलिया आयरन, पोटेशियम, जिंक तथा फाइबर का मुख्य स्त्रोत होता हैं। इसीलिए यह बच्चों के शरीर इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है आप दिन में किसी भी टाइम अपने बच्चों को दलिया का सेवन करवा सकती हैं। आप बिल्कुल पानी की तरह पतला दलिया बनाकर बच्चों को खिलाएगी तो यह उनके लिए अच्छा साबित होगा।

6. हरी मटर

आप अपने बच्चों को हरी मटर का सेवन भी करवा सकते हैं जैसे कि हरी मटर सब्जियों में डालकर या फिर खिचड़ी में डाल कर आप अपने बच्चों को खिला सकते हैं। हम आपको बता दें कि हरी मटर पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसमें विटामिन ए, विटामिन B1, B6 और विटामिन सी ( vitamin C ) पाया जाता हैं।

इसके अतिरिक्त मटर में फेनोलिक एसिड ( phenolic acid ) और पॉलीफेनॉल ( polyphenols ) तथा बहुत से एंटीऑक्सीडेंट ( Antioxidants ) भी मौजूद होते हैं जो कि बच्चे इम्यून सिस्टम को काफी हद तक मजबूत कर सकते हैं और अगर प्रोटीन की बात की जाए तो मटर में लगभग 8 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है जोकि छोटे बच्चों के शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने के लिए भी काफी हैं।

7. गाय का दूध

बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए गाय का दूध काफी फायदेमंद साबित होता हैं, क्योंकि गाय का दूध बच्चों के मानसिक विकास के लिए भी सहायक होता है आपको अपने बच्चों को रोजाना 250 से 300ml गाय का दूध जरूर पिलाना चाहिए। आप इतना दूध बच्चे को दो से तीन बार में भी पिला सकते हैं। अगर बच्चा ठीक इसी तरह रोजाना दूध पीता है, तो उसमें कैल्शियम, विटामिन डी आयरन, मैग्नीशियम आदि सभी पोषक तत्वों की कमियां पूरी हो जाती है और उसका शरीर अंदर से पूरा मजबूत बनता हैं।

हम तो आपको यही कहेंगे कि जब आप अपने बच्चों को दूध पिलाते हैं, तो दूध के एक गिलास में एक चम्मच हल्दी का डालकर उसे अच्छे से मिला लीजिए और फिर वह दूध बच्चे को पिलाईए, क्योंकि हल्दी भी अनेकों प्रकार के औषधीय गुणों से भरपूर होती है जो कि बच्चे के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाती हैं, इसीलिए आप बच्चे को हल्दी वाला दूध भी पिला सकते हैं।

8. सूखे मेवे

आप अपने बच्चों को सूखे मेवे मतलब कि ड्राई फ्रूट का सेवन भी करवा सकते हैं। आपको अपने बच्चों को बादाम, अखरोट, काजू, पिस्ता, मूंगफली आदि का सेवन जरूर करवाना चाहिए। क्योंकि इनमें विटामिन के साथ-साथ खनिज पदार्थ भी भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो कि बच्चों के शरीर की Immunity को बढ़ाने में फायदेमंद होते हैं।

9. बीज

बहुत सी चीजों के बीच भी बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को काफी मजबूर कर देते हैं जैसे कि आप अपने बच्चों को कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज, तिल के बीज तथा अलसी के बीज आदि का सेवन भी करवा सकती हैं, क्योंकि यह भी खनिज पदार्थों तथा विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट्स ( Antioxidants ) से भरपूर होते हैं जो कि बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

10. दही

बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए दही भी बहुत ही फायदेमंद होती है। दही में Healthy Bacteria होते हैं जो बच्चे के पेट को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं और यह बैक्टीरिया प्रोबायोटिक भी होते हैं, जो बच्चों को अनेकों प्रकार की बीमारियों से बचाते हैं और उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूती देते हैं इसीलिए बच्चों को दही का सेवन जरूर करवाएं।

11. कीवी तथा केला

आपको अपने बच्चों को फलों के रूप में कीवी और केला दोनों ही खिलाने चाहिए, क्योंकि कीवी और केला यह दोनों फल ही लगभग सभी पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और यह बच्चों के साथ साथ बड़ी उम्र के व्यक्तियों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी काफी फायदेमंद होते हैं। इसीलिए हफ्ते में दो से तीन बार अपने बच्चों को कीवी का सेवन करवाएं और केले का सेवन तो बच्चों को रोजाना करवाएं।

Immunity in children
image source:- http://www.canva.com

बच्चों के माता-पिता खाने की इन चीजों का रखें ख्याल, नहीं तो हो सकती है बच्चों की इम्यूनिटी कम ?

अगर आप अपने बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता के स्तर को बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको उनके खाने-पीने का थोड़ा सा ख्याल रखना पड़ता हैं।

छोटे बच्चों को कभी भी बाहर की चीजों पर निर्भर नहीं होने देना चाहिए। अगर बच्चों को बाहर किसी से खाने की आदत पड़ जाती है जैसे कि चीप्स, नमकीन । यह खाने की दूसरी चीजें, तो इनके कारण बच्चों के शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमियां हो जाती है जिसकी वजह से उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का स्तर घट जाता हैं।

आपको अपने बच्चों को केमिकल युक्त पीने की चीजें भी नहीं देनी चाहिए जैसे कि कोल्ड ड्रिंक, बाजार का जूस आदि। क्योंकि यह बच्चे के शरीर के लिए बिल्कुल भी फायदेमंद नहीं होते और अगर बच्चा इन्हें तीन चार बार पी लेता है, तो फिर उसे बचपन से ही इनकी आदत भी पड़ सकती हैं।

आपको अपने बच्चों को तला हुआ खाना ज्यादा नहीं खिलाना चाहिए जैसे कि बहुत से घरों में सुबह नाश्ते में आलू के पराठे या कोई दूसरे पराठे बनते हैं। हम आपको बता दें कि बच्चों को अगर आप तला हुआ खाना खिलाते हैं, तो तला हुआ भोजन अधिक खाने से भी बच्चों के शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है।

बच्चों के खाने पीने और सोने का समय हमेशा तय होना चाहिए और उन्हें ओ जाना एक ही समय पर खाना देना चाहिए। इस प्रकार बच्चों का रूटीन बिल्कुल ठीक रहता है और उन्हें बचपन से ही इस रूटीन की आदत पड़ जाती है। अगर सब चीजें समय पर होती है, तो उसके कारण भी बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती हैं।

Conclusion –

बच्चों के शरीर की इम्युनिटी बढ़ाना क्यों आवश्यक होता है और कैसे हम बच्चों के शरीर की इम्युनिटी को बढ़ा सकते हैं इसके बारे में हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताया हैं। इसके अतिरिक्त हमने Bacho Ki Immunity Kaise Badhaye तथा How To Improve The Immunity Of Children’S In Hindi के बारे में जाना हैं।

इसके अलावा इस पोस्ट के माध्यम से हमने Immunity Boost Foods For Children’S In Hindi तथा Diet Chart For Best Immunity In Children’S In Hindi के बारे में भी जाना हैं। अब अगर आपको हमसे How To Increase The Immunity Of Children’S In Hindi के विषय में कोई भी सवाल पूछना हों, तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This