Malaria Kya Hai जानिए Malaria Ke Karan, Lakshan, Nidan Aur Gharelu Ilaz?| What Is Malaria In Hindi Know Its Symptoms, Causes, Diagnosis, Prevention, 5 Best Home Remedies and Treatment

Must Read

Dr. Puneet Boora
Dr. Puneet Boorahttp://goodswasthya.com
Dr. Puneet Boora holds a Doctorate in Pharmacy (Pharm D) degree and have at least 1.5 years of writing experience in Health and Medicine related domains. He was a former writer for pharma magazines and articles. His hobbies including cricket, table tennis, and other sports. He is well known for his work in medicine dispensing and medical checkups. He prefers his work more and always tries to learn new therapeutic ways of medication dispensing. डॉ. पुनीत बोरा के पास फार्मेसी में डॉक्टरेट (फार्म डी) की डिग्री है और स्वास्थ्य और चिकित्सा से संबंधित डोमेन में कम से कम 1.5 वर्ष का लेखन अनुभव है। वह फार्मा पत्रिकाओं और आर्टिकल्स के पूर्व लेखक थे। क्रिकेट, टेबल टेनिस और अन्य खेल खेलना उनका शौक है। वह दवा वितरण और चिकित्सा जांच में अपने काम के लिए जाने जाते हैं। वह अपने काम को अधिक पसंद करते हैं और हमेशा दवा वितरण के नए चिकित्सीय तरीके सीखने की कोशिश करते हैं।

Malaria Kya Hai जानिए Malaria Ke Karan, Lakshan, Nidan Aur Gharelu Ilaz?| What Is Malaria In Hindi Know Its Symptoms, Causes, Diagnosis, Prevention, 5 Best Home Remedies and Treatment

क्या आपको पता है, कि मच्छर के कारण इस दुनिया में हर साल लाखों लोग मरते हैं और वह इसलिए मरते हैं, क्योंकि मच्छर बहुत ही जानलेवा बीमारियां फैलाते हैं मच्छर एक ऐसा कीड़ा है जो कि हमेशा गंदगी में ही रहना पसंद करता है और यह गंदी वाले स्थान पर पैदा होकर इंसानों में भी गंदगी फैलाता है, यदि आपके घर के आसपास गंदगी फैली हुई होती हैं, तो वहां पर मलेरिया फैलाने वाले मच्छर पैदा हो जाते हैं और फिर वह आप को नुकसान पहुंचाते हैं इसीलिए आज हम आपके लिए यह पोस्ट लेकर आए हैं, इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको मलेरिया बीमारी के बारे में विस्तार से समझाएंगे।

आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको जानने को मिलेगा की :-

  • Malaria Kya Hota Hai? – What Is Malaria in Hindi
  • Malaria Bukhar Ke  Lakshan? – Malaria Symptoms in Hindi
  • Malaria Bukhar Ke Karan? – Causes of Malaria
  • Malaria Bukhar Kaise Hota Hai? –  How does malaria fever occur?
  • Malaria Se Bachne Ke Upay? – Measures to avoid malaria?
  • Malaria Ke Gharelu Upay? – Home remedies for malaria
  • Bukhar Me Kya Kya Khana Chaiye? – What to eat in Malaria Fever?

यदि आप अच्छे से इन सभी के बारे में जानना चाहते हैं, तो हमारी पोस्ट को आगे तक पढ़ते रहिएगा तो चलिए जानते हैं, Malaria Ke Lakshan

Malaria Causes and Symptoms in Hindi | treatment of malaria in Hindi

Malaria Bukhar Kya Hai – What Is Malaria Fever In Hindi?

ज्यादातर हम जब भी किसी व्यक्ति से पूछते हैं की Malaria Kya Hota Hai तो वह यही जवाब देता है कि मलेरिया बुखार होता है, और यह किसी मच्छर के काटने से फैलता है परंतु हम आपको बता दें कि मलेरिया बुखार की परिभाषा सिर्फ यही नहीं होती यदि हम डॉक्टर की भाषा में बात करें, तो मलेरिया एक प्रोटोजोआ परजीवी के कारण होने वाली बीमारी है, और मादा मच्छर इस परजीवी के वाहक के रूप में काम करते हैं।

क्योंकि प्रोटोजोआ परजीवी वह होते हैं जो किसी दूसरे जीवो पर आश्रित रहते हैं और जब आपके घर के आसपास एक ही स्थान पर बहुत सारा गंदा पानी जमा होता है और उससे गंदे पानी में मादा मच्छर प्रजनन करती है। तो उसके पश्चात प्रोटोजोआ परजीवी को मादा मच्छर ही मनुष्य तक पहुंचाती है जिसके कारण मलेरिया बुखार होता है।

Types Of Malaria Fever – मलेरिया बुखार कितने तरह का होता है?

मलेरिया बुखार भी कहीं तरह का होता है चलिए हम एक-एक करके उन सभी के बारे में जानते हैं:-

Uncomplicated Malaria

इस प्रकार के मलेरिया के 3 लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि आपको एकदम से ही बहुत ज्यादा ठंड लगने लगे और बहुत तेज बुखार भी हो जाए। या फिर आपको बहुत ज्यादा गर्मी लगने लगे और फिर एकदम से बुखार हो जाए। इसके अतिरिक्त यदि आपको पसीने के साथ-साथ बुखार हो रहा है तो यह भी  इसी प्रकार के मलेरिया का लक्षण है।

Sevior Malaria

यह Malaria Bukhar का सबसे गंभीर रूप होता है इस प्रकार के मलेरिया बुखार में परजीवी हमारे शरीर के विभिन्न अंगों में फैल कर उन्हें प्रभावित करने लगते है, इसमें हमारे शरीर के बहुत से अंग भी काम करना बंद कर देते हैं।

मलेरिया के कारण – Causes Of Malaria In Hindi?

वैसे तो हमने आपको बता दिया है कि मलेरिया बीमारी प्रोटोजोआ परजीवी के कारण ही होती है, जिसको Plasmodium भी कहा जाता है, जीव की मुख्य रूप से 5 प्रजातियां होती हैं जो व्यक्तियों को संक्रमित करती हैं और वह इस प्रकार हैं :-

Plasmodium Falciparum

इस परजीवी की प्रजातियां अफ्रीका में पाई जाती हैं।

Plasmodium Vivax

यह परजीवी एशिया अमेरिका और अफ्रीका के बहुत से देशों में पाया जाता है।

Plasmodium Ovale

परजीवी कि यह प्रजाति पश्चिम अफ्रीका और पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में बहुत ज्यादा पाई जाती है।

Plasmodium Malariae

परियों की है प्रजाति दुनिया भर में पाई जाती है।

Plasmodium Knowlesi

परजीवी ओ की यह प्रजाति दक्षिण पूर्व एशिया में बहुत ज्यादा पाई जाती है।

यह भी पढ़े –  डेंगू बुखार क्या है – जानिए डेंगू बुखार के लक्षण, कारण और 7 कारगर घरेलू उपचार 

मलेरिया के लक्षण – Symptoms of Malaria Fever In Hindi?

मलेरिया बुखार के बहुत से लक्षण होते हैं, जिनसे इस बुखार का आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है, और इन लक्षणों के दिखने पर आपको तुरंत ही किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेने के पश्चात अपना चेकअप करा लेना चाहिए :-

  • यदि हमें गर्मी के मौसम में बहुत ज्यादा ठंड लग रही है, और ठंड लगने के साथ-साथ हमें बुखार भी हो रहा है तो यह मलेरिया बुखार का ही लक्षण है।
  • यदि हमारे मल में खून आ रहा है, तो यह भी मलेरिया बुखार का ही लक्षण है मल में खून दिखने पर आपको तुरंत ही डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए।
मलेरिया के लक्षण - Symptoms of Malaria Fever In Hindi?
Image Source: https://www.canva.com/
  • यदि आपको सामान्य बुखार है और आप उस बुखार को ठीक करने के लिए डॉक्टर से दवाई ले लेते हैं, और फिर वह बुखार थोड़ी देर के लिए ठीक हो जाता है, फिर उसके पश्चात यदि वह बुखार कुछ ही घंटों के पश्चात आपको फिर से हो जाता है तो इस परिस्थिति में आपको तुरंत ही मलेरिया की जांच करानी चाहिए, क्योंकि यह मलेरिया का मुख्य लक्षण है।
  • यदि आपके जोड़ों में दर्द हो रहा है या फिर हाथ पैरों तथा मांसपेशियों में बहुत ज्यादा दर्द हो रहा हैष जिसके कारण आप उठ भी नहीं पा रहे हैं तो यह भी मलेरिया का इलेक्शन है, क्योंकि मलेरिया बुखार में भी आपके जोड़ों तथा मांसपेशियों में बहुत ही ज्यादा दर्द होता है।
  • यदि हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में कमी आ गई है, तो यह भी मलेरिया बुखार का ही लक्षण है इसको एनीमिया भी कहते हैं।
  • यदि आपको सामान्य बुखार है और सामान्य बुखार के साथ-साथ आपको बहुत ज्यादा पसीना आ रहा हैष और उल्टी भी हो रही है तो यह भी मलेरिया बुखार के लक्षण है, इसलिए आपको तुरंत जांच करवा लेनी चाहिए।

Malaria Se Bachne Ke Upay – Ways To Avoid Malaria?

बहुत से ऐसे तरीके हैं जिनको आप यदि अपनी जीवनशैली में अपना लें, तो आप मलेरिया जैसी बीमारियों से बच सकते हैं। जैसे कि :-

  • आपके घरों के आस-पास यदि गड्ढे हैं या फिर नालिया हैं, तो इन गड्ढों तथा नालियों में आपको पानी बिल्कुल भी जमा नहीं होने देना चाहिए और यदि पानी जमा भी हो जाता है, तो आपको समय-समय पर यहां पर कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव करते रहना चाहिए, जिसके कारण यहां पर मच्छर पनप नहीं पाएंगे, क्योंकि ज्यादातर मादा मच्छर रुके हुए पानी में ही प्रजनन करती है।
  • आपको अपने घरों में भी मच्छरों को मारने के लिए दवाइयों का इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि यदि मच्छर आपके घर के कमरों में दाखिले नहीं हो पाएंगे, तो वह आपको नुकसान भी नहीं पहुंचा पाएंगे।
  • आपको गर्मियों के मौसम में अपने घर के अंदर भी बाल्टी में पानी जमा करके नहीं रखना चाहिए, क्योंकि मादा मच्छर गर्मियों के मौसम में ही प्रजनन करती है और यदि आपके घरों में भी रुका हुआ पानी काफी जमा हो जाता है, तो इसके कारण भी वह वहां पर प्रजनन कर सकती हैं या फिर बहुत से लोगों के घरों की रसोई में भी मादा मच्छर प्रजनन करती हैं, इसलिए आपको अपने घरों में पानी बिल्कुल भी रुकने नहीं देना चाहिए।
  • गर्मियों के मौसम में आपको हमेशा पूरी बाजू की शर्ट तथा लोवर आदि पहन कर रखना चाहिए। जिससे कि आप की बाजू तथा टांगे अच्छे से ढकी हुई रहें क्योंकि यदि आप गर्मियों के मौसम में शाम के वक्त या फिर सुबह के वक्त छोटे कपड़े पहन कर रखते हैं, तो उसके कारण भी मलेरिया बीमारी होने का खतरा काफी बढ़ जाता है इसीलिए जो बुजुर्ग व्यक्ति भी शाम के समय या फिर सुबह के समय पार्क में घूमने जाते हैं, तो वह कपड़े पूरे डालकर जाएं जिसके कारण वह मलेरिया बीमारी से बच सकें।

Malaria Ka Gharelu ilaj – 5 Home Remedies For Malaria In Hindi?

अब हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताएंगे जिनका इस्तेमाल करके आप मलेरिया बुखार में काफी ज्यादा आराम महसूस करेंगे :-

अदरक (Ginger is good for Malaria)

मलेरिया बुखार में अदरक बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है, यदि अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े करके इसे पानी में उबालकर मलेरिया बुखार का मरीज दिन में दो बार पिए, तो उसे मलेरिया बुखार में काफी ज्यादा फायदा मिलेगा।

तुलसी (Tulsi helps in relieving Malaria Symptoms)

तुलसी में बहुत से आवश्यक गुण पाए जाते हैं जो कि सामान्य बुखार तथा मलेरिया बुखार में भी काफी ज्यादा असरदार साबित होता है। यदि तुलसी की 10 से 15 पतियों को अच्छे से पानी में उबालकर और इसमें आधी चम्मच काली मिर्च पाउडर डालकर इसे अच्छे से उबाला जाए और उसके पश्चात ठंडा होने पर इस पानी को पिया जाए तो आपको मिली जा बुखार में बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा और यह नुस्खा आपको दिन में दो से तीन बार आजमाना है, इस प्रकार आपके अंदर मलेरिया के लक्षण कम होने लगेंगे।

नींबू का रस (Lemon juice is beneficial in Malaria Cases)

नींबू का रस भी मलेरिया बुखार में बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है, यदि आप दिन में दो से तीन बार गर्म पानी करके इसमें नींबू डालकर पिए तो आपको मलेरिया बुखार में काफी ज्यादा आराम मिलेगा।

मेथी के बीज (Fenugreek seeds helps with Malaria Fever)

मेथी के बीज में मलेरिया के रोगियों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होते हैं, इसके लिए आपको रात के समय में एक गिलास पानी में एक चम्मच मेथी के दानों को भिगो कर रख देना है और सुबह खाली पेट इस पानी को पीना है और मेथी के बीज को चबा चबा कर खा लेना है, इस प्रकार आपको मलेरिया बुखार में बहुत ज्यादा आराम मिलेगा और इसके साथ-साथ मलेरिया बुखार ठीक भी होने लगेगा।

Malaria Upchar | Malaria Ka Gharelu ilaj - 5 Home Remedies For Malaria In Hindi

सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar helps in reducing Malaria Symptoms)

मलेरिया बुखार को घरेलू उपाय से सही करने के लिए आप सेब के सिरके का सेवन भी कर सकते हैं, सेब के सिरके का सेवन करने के लिए आपको एक गिलास गर्म पानी करना है, और इसमें दो चम्मच सेब का सिरका डालना है और फिर इसे अच्छे से मिक्स करके आराम आराम से इस पानी को पीना है इस प्रकार आपको अपने शरीर में मलेरिया के लक्षण काम होते दिखाई देंगे, क्योंकि मलेरिया फैलाने वाले परजीवीओं के लिए सेब का सिरका बहुत ज्यादा खतरनाक साबित होता है यह उन परजीवीओं को आसानी से नष्ट कर देता है।

Malaia Bukhar Me Kya Kya Khana Chaiye?

जब किसी भी व्यक्ति को मलेरिया बुखार हो जाता है तो उस समय उस व्यक्ति को साधारण भोजन का सेवन करना चाहिए। मतलब कि ऐसा भोजन जिसमें ज्यादा मसाला ना हो और उस भोजन में तेल की ज्यादा मात्रा ना हो यदि मलेरिया का रोगी साधारण भोजन का सेवन करता है, तो उसे मलेरिया बुखार में काफी ज्यादा आराम मिलता है, इसके साथ-साथ मलेरिया के रोगियों को पोस्टिक आहार का सेवन भी करना चाहिए, जैसे कि हरी सब्जियां तथा डालें और ताजे फलों का सेवन भी करना चाहिए, और जो रोगी धूम्रपान करते हैं उनके लिए मलेरिया बीमारी काफी खतरनाक साबित हो सकती है, इसीलिए मलेरिया के रोगियों को धूम्रपान बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

Malaria Conclusion

हम उम्मीद करते हैं कि आपको मलेरिया से संबंधित हमारी यह पोस्ट बहुत ही पसंद आई होगी, इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको यह बताया है, कि Malaria Kyu Hota Hai तथा Malaria Bukhar Ke  Lakshan और इसके साथ-साथ आपको Malaria Se Bachne Ke Upay भी हमने बताए हैं ,तथा हमारे इस आर्टिकल में आपको Malaria Bukhar Ke Gharelu Upay भी अच्छे से पता लग चुके होंगे यदि अब भी आपको हमसे कोई प्रश्न पूछना हो, तो कमेंट सेक्शन में जरूर पूछें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This