PCOS Disease in Hindi:(Polycystic ovary syndrome) की बीमारी में भी यह तरीके करेंगे प्रेग्नेंट होने में मदद l These methods will also help in getting pregnant in the PCOS (Polycystic ovary syndrome)disease.

Must Read

Dr. Arti Sharma
Dr. Arti Sharmahttp://goodswasthya.com
Dr. Arti Sharma is a certified BAMS doctor with at least 2 years of article writing experience on various medication and therapeutic lines. She is known for her best work in ayurvedic medication knowledge and there uses. Her hobbies including reading books and writing articles. With a good grip in sports, she uses to play for her university cricket team as a captain. Her work for ayurvedic is well known. डॉ आरती शर्मा एक प्रमाणित BAMS डॉक्टर है जिन्हे कम से कम 2 साल का विभिन्न दवाइयों और चिकित्सीय रेखाओं पर लेखन का अनुभव है। वह आयुर्वेदिक दवाओं के ज्ञान और उनके उपयोग में अपने बेहतरीन काम के लिए जानी जाती हैं। उनका शौक किताबें पढ़ना और लिखना है। खेलों में अच्छी पकड़ के साथ, वह एक कप्तान के रूप में अपनी विश्वविद्यालय क्रिकेट टीम के लिए खेल चुकी हैं। आयुर्वेद के क्षेत्र में उनका काम अच्छी तरह से जाना जाता है।
PCOS Disease in Hindi Table Of Content:-

PCOS की बीमारी में भी यह तरीके करेंगे प्रेग्नेंट होने में मदद l

आज के समय में महिलाओं को गर्भवती होने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है l अगर हम कुछ वर्षों पहले की बात करें तो कुछ वर्षों पहले ऐसे किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं थी लेकिन जैसे-जैसे समय बदल रहा है महिलाओं को गर्भधारण के दौरान काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है l आजकल 10 में से 5 महिलाएं सामान्य तौर पर ऐसे हैं जिन्हें प्रेग्नेंट होने के लिए डॉक्टर की सलाह लेनी पड़ रही है या फिर प्रेग्नेंट होने के लिए किसी ट्रीटमेंट की आवश्यकता पड़ रही है l

पहले समय में ऐसा नहीं होता था लेकिन आज के समय में यह केस बढ़ते जा रहे हैं l आज के समय में प्रेगनेंसी ना होने के कारण कई प्रकार के हो सकते हैं l यदि कोई महिला प्रेग्नेंट नहीं हो रही है तो उसके काफी कारण हो सकते हैं l  महिला में कोई समस्या हो या फिर पुरुष में कोई समस्या हो यदि कोई महिला शारीरिक रूप से स्वस्थ नहीं है तो उससे भी गर्भवती होने में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है l

कुछ मामलों में पुरुषों में कमी निकल जाती है कई बार महिलाओं के शरीर में समस्या हो जाती है l यदि समय रहते बीमारी का इलाज न किया जाए तो दोनों के लिए ही काफी समस्या बन सकती हैं l यदि महिला को अन्य कोई बीमारी हो गई है जो प्रेगनेंसी को प्रभावित करते हैं यह भी एक मुख्य कारण हो सकता है l

Pcos Kya Hai

प्राप्त जानकारी के अनुसार आज के समय में सबसे अधिक पीसीओएस नाम से एक समस्या है जो 10 में से 6 महिलाओं को सामान्य रूप से हो रही है l पीसीओएस एक ऐसी खतरनाक बीमारी है जिसके कारण महिला गर्भवती नहीं हो पाती है l यह एक खतरनाक बीमारी है यदि इस बीमारी का इलाज समय पर ना किया जाए तो महिलाएं बांझ हो सकती है l यदि कोई महिला प्रेग्नेंट होना चाहती है परंतु काफी प्रयासों के बाद प्रेगनेंसी नहीं रुक रही है तो इसका कारण यह बीमारी भी हो सकती है   कोई महिला प्रेग्नेंट होना चाहती हैं तो उस महिला को पीसीओएस एंड पीसीओडी बीमारी के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए l

अक्सर जानकारी के अभाव में महिला को काफी क्षति पहुंचती है और कभी मां भी नहीं बन पाते हैं l आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको यह बताएंगे कि किस प्रकार पीसीओएस बीमारी में महिलाओं को प्रेग्नेंट होने में परेशानी का सामना करना पड़ता है और इसी के साथ साथ हम आपको यह भी बताएंगे कि पीसीओएस की समस्या के बाद भी महिलाएं क्या ट्रीटमेंट ले या फिर क्या उपाय करें ताकि वह जल्दी से प्रेग्नेंट हो जाए और उनके प्रेगनेंसी में कोई भी दिक्कतों का सामना ना करना पड़े l

 यदि आप प्रेग्नेंट होना चाहते हैं तो आपके लिए यह पोस्ट काफी जरूरी है l जिन महिलाओं को पीसीओएस की बीमारी है वह किस प्रकार जल्दी प्रेग्नेंट हो सकती है और पीसीओएस की समस्या को किस प्रकार सही कर सकती हैं यह सब हम आपको इसी पोस्ट के माध्यम से बताएंगे l

PCOS

PCOS समस्या के कारण महिलाओं को हो रही है प्रेगनेंसी में परेशानी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज के समय में यह एक सबसे अधिक महिलाओं में होने वाली समस्या हो चुकी है l पीसीओएस की समस्या के कारण महिलाएं अधिकतर प्रेग्नेंट नहीं हो पाती l आइए जानते हैं की पीसीओएस की समस्या से महिलाओं के शरीर में क्या प्रभाव पड़ता है l

आपकी जानकारी के लिए बताते हैं कि पीसीओएस एक ऐसी समस्या है जो महिलाओं में अंडाशय के  सही से कार्य करने के लिए बाधित कर देती है यानी कि महिलाओं में अंडाशय सही तरह से कार्य नहीं कर पाता है l जिस वजह से महिलाओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है l पीसीओएस के कारण जब महिलाओं के शरीर में अंडाशय की कार्य क्षमता प्रभावित होती हैं तो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो पाती है यही कारण है कि महिलाएं काफी कोशिश के बाद भी प्रेग्नेंट नहीं हो रही है l

पीसीओएस के कारण महिलाएं गर्भवती नहीं हो रही हैं क्योंकि गर्भधारण में अंडाशय का महत्वपूर्ण स्थान है l जब अंडाशय ही सही से कार्य नहीं करेगा तो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो पाएंगे l कई बार ऐसा भी होता है कि महिलाओं को बीमारी होती है परंतु फिर भी वह जल्दी प्रेग्नेंट तो हो जाती हैं लेकिन उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है l इस बीमारी के कारण उनका मिसकैरेज हो जाता है l

 आपने अक्सर देखा होगा कि आपके आसपास ऐसी महिलाएं जरूर होंगी जिनका मिसकैरेज हुआ हो l यह मुख्य कारण है जिस वजह से महिलाएं को मिसकैरेज जैसी समस्या देखनी पड़ती है l

पीसीओएस की समस्या के कारण महिलाओं को हो रही है यह विभिन्न प्रकार की बीमारी

पीसीओएस के कारण होता है ब्लड प्रेशर हाई

इस बीमारी के कारण महिलाओं का ब्लड प्रेशर भी काफी प्रभावित होता है l आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं जिनका ब्लड प्रेशर काफी हाई रहता है और वह गर्भवती भी नहीं हो पाती हैं l इसका मुख्य कारण पीसीओएस ही होता है l इसे जल्द से जल्द महिलाओं का इलाज न किया जाए तो महिलाओं को इसके काफी भयंकर परिणाम देखने को मिल सकते हैं l

डायबिटीज की समस्या

जैसे ही हमने आपको बताया की महिलाओं को पीसीओएस के कारण तरह-तरह की बीमारियां भी हो जाती हैं उन्हें बीमारियों में से एक डायबिटीज की समस्या भी है l इस बीमारी के कारण महिलाओं को अक्सर डायबिटीज की समस्या भी हो जाती है इसीलिए इस बीमारी का तुरंत इलाज आवश्यक है l आपने अक्सर देखा होगा कि जब महिलाएं कभी मां नहीं बन पाती हैं इसका मुख्य कारण पीसीओएस भी हो सकता है क्योंकि पीसीओएस समस्या महिला के आंतरिक स्वास्थ्य को भी काफी प्रभावित करती है जिस वजह से महिलाएं कभी मां नहीं बन पाती हैं l

प्रीमेच्योर डिलीवरी

पीसीओसी बहुत खतरनाक बीमारी है जिस कारण मिसकैरेज ऐसी समस्या एवं प्रीमेच्योर डिलीवरी जैसी गंभीर समस्या भी हो सकती है l प्रीमेच्योर डिलीवरी के बारे में तो जानते ही हैं प्रीमेच्योर डिलीवरी ऐसी डिलीवरी होती है जिसमें महिलाओं को वक्त से पहले ही बच्चे को जन्म देना पड़ता है l यह प्रक्रिया प्रीमेच्योर डिलीवरी कहती है l आपने अपने आसपास देखा होगा कि कुछ बच्चे 9 महीने से पहले ही हो जाते हैं जो बच्चा वक्त से पहले ही हो जाता है तो इसे प्रीमेच्योर डिलीवरी कहां जाता है l

आज के समय में प्रीमेच्योर डिलीवरी के Case भी काफी के बढ़ते जा रहे हैं l प्रीमेच्योर डिलीवरी के बहुत सारे बुरे प्रभाव भी है अक्सर प्रीमेच्योर डिलीवरी में बच्चे जब पैदा होते हैं तो वह शारीरिक रूप से और मानसिक रूप से परिपक्व नहीं  होते हैं l इन बच्चों का विकास प्रीमेच्योर डिलीवरी के कारण प्रभावित होता है l बच्चे डिलीवरी के कारण अपनी जान भी गंवा देते हैं l

 इसीलिए यदि आपको PCOS की समस्या है और आप गर्भवती भी हो गई है तो आपको अच्छे डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए l यदि आप परामर्श नहीं लेंगे तो हो सकता है कि आपको मिसकैरेज वा प्रीमेच्योर डिलीवरी जैसी समस्या का सामना करना पड़े l हम आशा करते हैं कि आपको अच्छे से समझ आ गया होगा l

इस प्रकार से पीसीओएस की समस्या महिलाओं को करती है प्रभावित

पीसीओएस की समस्या के कारण महिलाएं गर्भवती नहीं हो पाती है और महिलाओं के गर्भवती ना होने के कारण उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है l आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पीसीओएस एक ऐसी समस्या है जिस कारण महिलाओं में अंडाशय काफी प्रभावित होता है l पीसीओएस की समस्या के कारण महिलाओं का अंडाशय ढंग से कार्य नहीं कर पाता है और अच्छे से कार्य न करने के कारण महिलाएं गर्भवती नहीं हो पाती है l

जब अंडाशय सही से कार्य नहीं कर पाएगा तो महिलाओं में अंडा उत्पादन की प्रक्रिया भी नहीं हो पाएगीl  अंडा उत्पादन नहीं होगा तो फर्टिलाइज भी नहीं हो पाएगा यही कारण है कि महिलाओं को ऐसा लगता है कि वह प्रेग्नेंट होने वाली है परंतु वह प्रेग्नेंट नहीं हो पाती है l यदि आप यह सोच रहे हैं कि पीसीओएस की समस्या होने के कारण महिलाएं कभी भी मां नहीं बन सकती तो आप गलत सोच रहे हैं l

आज के समय में कुछ ऐसे मामले देखने को मिल रही है जिसमें पीसीओएस की बीमारी होते हुए भी महिलाएं प्रेग्नेंट हो रही है l कुछ महिलाएं प्राकृतिक रूप से प्रेग्नेंट हो जाती हैं और कुछ महिलाओं को प्रेग्नेंट होने के लिए डॉक्टर की सलाह एवं ट्रीटमेंट की आवश्यकता पड़ती हैl  ट्रीटमेंट के बाद महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती हैं और स्वस्थ बच्चे को जन्म देती हैं l आइए जानते हैं कि पीसीओएस की समस्या महिलाओं को ही शरीर को किस प्रकार से प्रभावित कर रही है

PCOS

पीसीओएस की समस्या करती है इस प्रकार महिलाओं को प्रभावित

हारमोंस का असंतुलित होना

महिलाओं में इस बीमारी किस कारण अधिकतर हारमोंस की समस्या हो जाती है l हारमोंस की समस्या भी कई प्रकार की होती हैं कुछ महिलाओं में हारमोंस की समस्या सामान्य होते हैं l जिसका प्रेगनेंसी पर प्रभाव नहीं पड़ता है परंतु हारमोंस की समस्या कुछ महिलाओं में काफी अधिक होती है जिस कारण उन्हें बहुत ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ता  है l

जब हमारे शरीर में हारमोंस का बैलेंस नहीं होता है तो हार्मोन इंबैलेंस हमारी पूरी शरीर को भी प्रभावित करते हैं और इसका सबसे अधिक प्रभाव प्रेगनेंसी में देखने को मिलता है l महिलाएं काफी कोशिश करती है परंतु फिर भी वह प्रेग्नेंट नहीं हो पाती है क्योंकि इसका मुख्य कारण हार्मोन बैलेंस ना होना होता है  l इसीलिए यदि आप प्रेग्नेंट होना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए डॉक्टर ही आपकी इस समस्या का समाधान कर सकते हैं l

मासिक धर्म समय पर ना आना

महिलाओं में हो रही समस्या के कारण महिलाओं का मासिक धर्म समय से आना बंद कर देता है l हम सभी जानते हैं कि मासिक धर्म आने की एक प्रक्रिया होती है जिस प्रक्रिया के तहत हर महीने महिलाओं में प्राकृतिक रूप से पीरियड्स होते हैं l लेकिन यदि किसी महिला को पीसीओएस की बीमारी है तो उसकी मासिक धर्म समय से नहीं आएंगे कुछ महिलाएं होती हैं जिन्हें यह समस्या पहले नहीं होती है l

 लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं जिन्हें समस्या काफी लंबे समय से होती है जिनमें लोगों को यह समस्या कुछ समय पहले ही शुरू होती है उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाना चाहिए l क्योंकि जितनी जल्दी हो सके इस बीमारी का इलाज भी हो जाए तो महिलाओं को गर्भधारण में समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है l लेकिन यदि समस्या का उपचार समय पर ना हो तो यह महिलाओं के लिए खतरनाक साबित हो सकती है l

यदि कोई महिला प्रेग्नेंट होना चाहती है तो उसे सबसे पहले उसे नियमित रूप से ना आने वाले मासिक धर्म का ट्रीटमेंट करवाना चाहिए l यदि महिलाओं के मासिक धर्म समय से आ जाएं तो उन्हें प्रेग्नेंट होने में समस्या का सामना नहीं करना होगा लेकिन ऐसी महिलाएं जिनके मासिक धर्म समय पर नहीं आ रहे हैं तो वह महिलाएं प्रेग्नेंट होने में भी ज्यादा समय लगाएंगे l

यदि किसी महिला को पीसीओएस की समस्या तो महिला को प्रेग्नेंट होने में लग सकता है इतना समय

यदि कोई महिला ऐसी है जिसे पीसीओएस की बीमारी है तो उसे प्रेग्नेंट होने में बहुत ज्यादा समय भी लग सकता है और थोड़ी सी ट्रीटमेंट के बाद भी महिलाएं प्रेग्नेंट हो सकती हैं दरअसल यह सब एक महिला के शरीर पर आधारित होता है l प्राप्त जानकारी के अनुसार पीसीओएस का कोई भी समय निर्धारित नहीं है कि इतने समय बाद महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाएंगी l यह महिलाओं की शारीरिक क्षमता पीसीओएस के लेवल को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि महिला को प्रेग्नेंट होने में कितना समय कम से कम लग सकता है l

प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ महिलाएं ऐसी हैं जिनको पीसीओएस की समस्या भी होती है परंतु समस्या के बाद भी गर्भवती होने में उनको ज्यादा समय नहीं लगता है लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी भी होती हैं जिन्हें गर्भवती होने में सालों बीत जाते हैं l यह सब महिलाओं की शारीरिक स्वास्थ्य पर आधारित होता है यदि कोई महिला पीसीओएस की बीमारी से पीड़ित है और वह जल्द से जल्द डॉक्टर के पास अपना ट्रीटमेंट शुरू कर देती है तो ऐसी महिला के लिए ज्यादा चांस होते हैं कि वह महिला जल्दी प्रेग्नेंट हो जाएगी l

 इस तुलना में ऐसी महिला जिसे पीसीएस की समस्या है और वह महिला पीसीओएस के अंतर्गत अपना इलाज काफी लेट शुरू करते हैं तो ऐसे महिला की तबीयत और भी ज्यादा खराब हो सकती है और पीसीओएस बीमारी का लेवल पहले से अधिक बढ़ सकता है l इसीलिए हम आपको यही राय देंगे कि पीसीओएस की समस्या यदि किसी भी महिला को है तो वह जल्द से जल्द नजदीकी डॉक्टर के पास जाकर अपना ट्रीटमेंट शुरू करवाएं ताकि भविष्य में मां बनने में किसी की परेशानी का सामना ना करना पड़े l

आपकी जानकारी के लिए बता दें जिन महिलाओं की उम्र 20 वर्ष से 30 वर्ष तक होती हैं वह जल्दी प्रेग्नेंट हो जाती है परंतु 35 वर्ष की आयु के बाद महिलाओं में प्रेग्नेंट होने की क्षमता कम होती हुई चली जाती है L इसीलिए यदि किसी महिला की उम्र 35 है तो उसे प्रेग्नेंट होने में बहुत समय भी लग सकता है l जल्द से जल्द यदि पीसीओएस के लिए ट्रीटमेंट शुरू कर दिया जाए तो महिला जल्दी स्वस्थ होकर प्रेग्नेंट हो सकती हैं l

image source:- http://www.canva.com

जल्दी से गर्भवती होने के लिए महिलाओं को करने होंगे यह काम

यदि किसी महिला को पीसीओएस की समस्या है तो उसे गर्भवती होने के लिए सबसे पहले तो किसी अच्छे से डॉक्टर के पास जाना चाहिए और डॉक्टर महिलाओं की शारीरिक हालत को देखकर अपना ट्रीटमेंट शुरू कर देगा l उससे पहले महिलाओं को यह करना है कि अच्छे से डॉक्टर के पास जाना है और डॉक्टर की सलाह लेनी है डॉक्टर अपने अनुसार पीसीओएस को ठीक करने के लिए दवाई शुरू कर देगा l

 इसके पश्चात महिलाओं को खुद भी पीसीओएस में जल्दी से गर्भवती होने के लिए प्रयास करना चाहिए क्योंकि जब डॉक्टर के द्वारा महिलाओं को अच्छी दवाइयां एवं ट्रीटमेंट शुरू किया जाएगा और इसी के साथ से जो महिलाएं अपने लिए खुद पीसीओएस को कम करने के लिए प्रयास करेंगे तो वह जल्दी प्रेग्नेंट हो सकती हैं आइए जानते हैं कि महिलाओं को जल्दी गर्भवती होने के लिए क्या-क्या उपाय करने चाहिए l

सभी दवाइयों को लेना होगा समय पर

अक्सर ऐसा होता है कि जब महिलाओं की पीसीओएस की समस्या को दूर करने के लिए ट्रीटमेंट शुरू किया जाता है तो महिलाएं अक्सर सही से ट्रीटमेंट नहीं लेती है l यह बात अक्सर देखी गई है कि डॉक्टरों के द्वारा दी जाने वाली महिलाओं को दवाइयां महिलाएं सही समय पर नहीं लेती हैं l

 यदि आप किसी दवा को सही समय पर नहीं लेंगे तो उसका कुछ भी परिणाम नजर नहीं आएगा जो दवा डॉक्टर के द्वारा जिस समय पर खाने के लिए दी जाती हैं महिलाओं को उस समय पर खानी चाहिए l कुछ महिलाएं अपने अनुसार या अपनी सुविधा अनुसार दवाइयों को अगर बदल कर खा लेते हैं जिसके कारण उनकी पीसीओएस की समस्या तो कम नहीं होती है परंतु उसे और ज्यादा परेशानी भी हो सकती है l

 इसीलिए महिलाओं को सबसे पहला काम यह करना चाहिए कि डॉक्टर के द्वारा जिस प्रकार और जिस समय महिलाओं को दवा खाने के लिए दी जा रही है उसी समय वह उसी हिसाब से दवाई का सेवन करें ताकि जल्द से जल्द पीसीओएस के लेवल पर कंट्रोल पाया जा सके और महिलाएं प्रेग्नेंट हो सके l

करना होगा वजन को कम

जैसे हमने आपको बताया कि पीसीओएस समस्या में महिलाओं के गर्भधारण से संबंधित काफी परेशानियां महिलाओं को झेलनी पड़ती हैं कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं जिनका वजन काफी बढ़ जाता है l वजन के बढ़ने से भी महिलाओं को गर्भधारण में समस्या होती हैं l यदि महिलाएं यह चाहते हैं पीसीओएस की समस्या होते हुए भी वह जल्द से जल्द गर्भवती हो जाए तो महिलाओं को अपने वजन पर ध्यान देना होगा l

कुछ महिलाएं ऐसी होती है जिनका वजन काफी बढ़ जाता है और उनको काफी समस्या होती हैं यदि महिलाएं पीसीओएस की बीमारी से पीड़ित है और वह अपनी बड़ी हुई वजन को कम कर लेती हैं तो उनकी समस्या थोड़ी कम हो सकती हैं और वह जल्दी गर्भवती भी हो सकती हैं l इसलिए हमारे द्वारा बताए गए सुझाव पर ऐसी महिलाएं जरूर ध्यान दें जिनका वजन काफी बढ़ा हुआ है l

Gender Prediction In Hindi: गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की जाने इन तरीकों से

खाने-पीने का रखना होगा अच्छे से ध्यान

Pcos से पीड़ित महिलाओं को अपने खाने-पीने का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए यदि खाने-पीने का अच्छे से ध्यान रखा जाए तो महिलाओं को अधिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा l पीसीओएस की समस्या को कम करने के लिए पोस्टिक आहार का होना काफी जरूरी है l यदि महिलाएं रोजाना पोस्टिक आहार का सेवन करेंगे तो महिलाओं में पीसीओएस की समस्या पर नियंत्रण पाया जा सकता है l

हमारा भोजन संतुलित आहार तब कहां जाएगा यदि हमारे भोजन में विटामिन प्रोटीन कैल्शियम आयरन खनिज लवण एवं सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व भरपूर मात्रा में उपस्थित हों l 

इसलिए महिलाओं को दिन में एक बार ऐसा खाना तो जरूर खाना चाहिए l जिसमें पौष्टिक तत्व भरपूर मात्रा में हो महिलाओं को हरी सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए क्योंकि हरी सब्जियों में आयरन होता है और आयरन हमारे शरीर में खून की कमी को पूरा करता है और इसी के साथ-साथ हमारी बॉडी के लिए काफी के लिए काफी फायदेमंद भी है l

वहीं दूसरी ओर यदि महिलाएं गाजर , लौकी एवं तोरी नियमित रूप से सेवन करती हैं तो यह भी महिलाओं के लिए पीसीओएस में काफी मददगार सिद्ध होगा l कहने का मतलब यही है कि महिलाओं को जितना हो सके उतना हरी सब्जियों का खाने में इस्तेमाल करना है और ऐसे पदार्थों का सेवन नहीं करना है जो उसकी सेहत को खराब करें l

पीसीओएस बीमारी में इस बात का रखें ध्यान

हमने आपको यह बताया कि पीसीओएस बीमारी हो जाने के कारण भी किस प्रकार आप कुछ चीजों का ध्यान रखते हुए अपनी सेहत को अच्छा बना सकते हैं l अब हम आपको यह बताते हैं कि आपको पीसीओएस के दौरान ऐसी कौन सी बात है जिसका ध्यान रखना चाहिए कुछ डॉक्टर के द्वारा पीसीओएस की बीमारी में महिलाओं को कुछ परहेज करने के लिए बताया जाता है परंतु महिलाएं वह परहेज नहीं करती हैं जिस कारण उनकी तबीयत और बिगड़ जाती है l

इसलिए हम आपको यह भी सुझाव देना चाहेंगे यदि आपके डॉक्टर के द्वारा आपको कुछ कार्य करने के लिए मना किया गया है या फिर किसी भी चीज से आपको पीसीओएस बीमारी में करने को मना किया गया है तो आप उस कार्य को ना कीजिएगा l

पीसीओएस एक गंभीर समस्या है जिसके परिणाम महिलाओं के लिए काफी खतरनाक हो सकते हैं l पीसीओएस पहले तो इतनी खतरनाक नहीं लगती है लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है तो यह बीमारी अपना बड़ा रूप धारण कर लेती है l इसलिए महिलाओं को शुरू में ही इस समस्या को समझ जाना चाहिए l

कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं कि डॉक्टर के द्वारा उन्हें पीसीओएस के बारे में बताया भी जाता है परंतु वह नजरअंदाज कर देती है या फिर डॉक्टर के द्वारा बताए गए ट्रीटमेंट को अच्छे से फॉलो नहीं करती हैं l जिस कारण उन्हें गर्भवती होने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है l इसलिए हम आपको यही सुझाव देंगे कि यदि आपको बार-बार गर्भवती होने में परेशानी हो रही है तो आप नजदीकी डॉक्टर से अवश्य मिले यदि आप अपना जल्दी से ट्रीटमेंट करवा लेंगे तो आपको प्रेगनेंसी के दौरान या फिर मां बनने में किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना होगा l

हमने आपको यह भी बताया है कि पीसीओएस के दौरान थोड़ी सी सावधानी यदि आप करेंगे तो इन सावधानियों से भी आपकी सेहत पर काफी अच्छा प्रभाव होगा और पीसीओएस की समस्या होने के कारण समय से गर्भवती हो सकती हैं l हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी अच्छी लगी होगी यदि आपको हमारे द्वारा पीसीओएस के बारे में बताए गए जानकारी अच्छी लगी है तो आप अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर अवश्य कीजिएगा l हो सकता है कि उन्हें यह परेशानी हो और हमारी पोस्ट पढ़ने के बाद उन्हें कुछ मदद मिल सके l जो बातें आपको बताई है बातों का ध्यान अवश्य रखना

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This