Baby Acne: – छोटे बच्चे के चेहरे पर दाने क्यों होते हैं –  जानिए चेहरे पर दाने होने के लक्षण व इलाज ? | What is Baby Acne its Symptoms causes and Best Treatments in Hindi

Must Read

Dr. Puneet Boora
Dr. Puneet Boorahttp://goodswasthya.com
Dr. Puneet Boora holds a Doctorate in Pharmacy (Pharm D) degree and have at least 1.5 years of writing experience in Health and Medicine related domains. He was a former writer for pharma magazines and articles. His hobbies including cricket, table tennis, and other sports. He is well known for his work in medicine dispensing and medical checkups. He prefers his work more and always tries to learn new therapeutic ways of medication dispensing. डॉ. पुनीत बोरा के पास फार्मेसी में डॉक्टरेट (फार्म डी) की डिग्री है और स्वास्थ्य और चिकित्सा से संबंधित डोमेन में कम से कम 1.5 वर्ष का लेखन अनुभव है। वह फार्मा पत्रिकाओं और आर्टिकल्स के पूर्व लेखक थे। क्रिकेट, टेबल टेनिस और अन्य खेल खेलना उनका शौक है। वह दवा वितरण और चिकित्सा जांच में अपने काम के लिए जाने जाते हैं। वह अपने काम को अधिक पसंद करते हैं और हमेशा दवा वितरण के नए चिकित्सीय तरीके सीखने की कोशिश करते हैं।
Baby Acne in Hindi Table Of Content:

Baby Acne: – छोटे बच्चे के चेहरे पर दाने क्यों होते हैं –  जानिए चेहरे पर दाने होने के लक्षण व इलाज ? | What is Baby Acne its Symptoms causes and Best Treatments in Hindi

छोटे बच्चों तथा नवजात शिशुओं को अक्सर जन्म के पश्चात बहुत सी बीमारियां लग जाती हैं जो कि दिखने में तो बिल्कुल साधारण सी बीमारी होती हैं, लेकिन यह बीमारी बच्चे को काफी परेशान करती हैं जैसे कि बचपन में कुछ बच्चों को त्वचा संबंधित विकार भी आसानी से हो जाते हैं, क्योंकि बच्चों की त्वचा बहुत ही संवेदनशील होती है जिसकी वजह से वह आसानी से किसी भी बैक्टीरिया के संपर्क में आ जाते हैं। आपने अक्सर बहुत से बच्चों को देखा होगा कि बचपन में उनके मुंह पर लाल लाल दाने हो जाते हैं और कुछ परिस्थितियों में तो इन लाल दानों से पानी भी निकलनें लगता हैं।

यह ऐसी बीमारियां होती हैं जिनका समय पर इलाज हो जाए तो अच्छा है अन्यथा यह बीमारियां बच्चे के शरीर की पूरी त्वचा में फैल जाती हैं। अगर आपके बच्चे को भी चेहरे की त्वचा पर लाल-लाल दाने हो रहे हैं तो आप को हमारी पोस्ट अंत तक पढ़नी चाहिए, क्योंकि आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको Baby Acne Causes In Hindi तथा Baby Acne Symptoms In Hindi के बारे में बताएंगे। इसी के साथ-साथ हम आपको Prevention Of Body Acne In Hindi तथा Baby Acne Treatment In Hindi के बारे में भी बताएंगे, ताकि आप अपने बच्चे की वाचा पर लाल दाने हो जाने के पश्चात आसानी से उसकी त्वचा को ठीक कर सकें।

शिशु के चेहरे पर दाने क्या हैं – What Is Baby Acne In Hindi ?

आपने अक्सर देखा होगा कि जब बच्चा छोटा होता हैं, तो खास तौर पर गर्मियों के मौसम में उसके चेहरे पर लाल लाल दाने निकल आते हैं। इस स्थिति को Neonatal Acne या Neonatal Cephalic Pustulosis भी कहा जाता हैं। यह समस्या एक बहुत ही सामान्य समस्या है जो कि नवजात शिशुओं में देखी जाती है। यह समस्या शिशु के जन्म के पश्चात दो हफ्तों में भी शिशु को हो सकती है जिसमें शिशु के माथे पलकों गालों तथा आधी गर्दन पर दाने निकल जाते हैं, लेकिन हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिससे आप आसानी से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

शिशु के चेहरे पर दाने क्या हैं - What Is Baby Acne In Hindi ?

शिशु के चेहरे पर दाने होने के लक्षण – Symptoms Of Baby Acne In Hindi ?

जब आपके शिशु के चेहरे की त्वचा पर दाने विकसित हो रहे होते हैं, तो आपको उस समय बहुत से लक्षण अपने शिष्यों में देखने को मिलते हैं जिससे आप इस बीमारी का अंदाजा लगा सकते हैं जैसे कि :-

  • अगर आपका बच्चा अपने चेहरे पर बार-बार हाथ लगाकर खुजली करने की कोशिश करता हैं तो उस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आपके शिशु के चेहरे पर दाने निकलने वाले हैं।
  • अगर शुरुआत में आपको अपने शिशु के चेहरे पर बिल्कुल छोटे से लाल लाल दाने उभरते हुए दिखाई देते हैं तो वह भी Baby Acne के ही लक्षण हैं।
  • कई बार आपके शिशु के चेहरे पर सफेद रंग के दाने तथा सफेद मुंह वाली फुंसी भी विकसित हो जाती हैं वह भी इसी के ही लक्षण हैं।
  • अगर आपके शिशु के चेहरे की त्वचा धीरे-धीरे लाल हो रही हैं, तो हम आपको बता दें कि त्वचा जब लाल होना शुरू हो जाती हैं, तो वह भी दाने निकलने के ही कारण होती हैं। इसीलिए आपको अपने शिशु की त्वचा लाल दिखाई देने पर तुरंत ही उसका इलाज शुरू करना चाहिए।
  • ऐसा नहीं है की लाल दाने सिर्फ शिशु के चेहरे पर ही निकलते हैं, ऐसा भी हो सकता है कि आपके शिशु की गर्दन के अगले से तथा पिछले हिस्से पर भी लाल दाने निकल जाएं। इसलिए गर्दन पर भी लाल दाने दिखाई देने पर आपको तुरंत ही इलाज करवाना चाहिए, क्योंकि इनमें बहुत ज्यादा खारिश होती है जो कि बच्चा बर्दाश्त नहीं कर पाता।
  • जब शिशु को लाल दाने निकल रहे होते हैं तो उस समय बाकी दिनों की अपेक्षा काफी ज्यादा चिड़चिड़ा रहना शुरू कर देता है और बच्चा चिड़चिड़ा इसलिए होता हैं। क्योंकि उसे दाने निकलने की वजह से काफी खुजली हो रही होती है और जब शिशु को कोई खुजली नहीं करता तो उसके कारण शिशु काफी ज्यादा चिलचिला रहने लगता हैं।
  • खासतौर पर जब आप किसी खुर्दरे कपड़े से अपने बच्चे का चेहरा साफ कर रही होती है तो उस वक्त बच्चा काफी ज्यादा रोता है, बच्चे को खुर्दरे कपड़े से काफी ज्यादा बेचैनी होती है क्योंकि खुरदरा कपड़ा इस्तेमाल करने की वजह से बच्चे को दर्द होता हैं।

शिशु के चेहरे पर दाने होने के कारण – Causes Of Baby Acne In Hindi ?

बच्चे के चेहरे पर दाने निकलने के बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे कि :-

  • अगर आपके घर में किसी को त्वचा पर लाल दाने हुए हैं और आप उसी के द्वारा इस्तेमाल किए हुए तो लिए से बच्चे का मुंह साफ करती हैं या फिर बच्चे के हाथ साफ करती हैं, तो इस प्रकार इस बीमारी के बैक्टीरिया आपके बच्चे के चेहरे तक आसानी से पहुंच सकते हैं और फिर यह आसानी से आपके शिशु को प्रभावित कर सकते हैं, क्योंकि बच्चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत ही नाजुक होती है जो इस बीमारी के बैक्टीरिया को बिल्कुल भी नहीं रोक सकती।
  • जब बच्चे के शरीर में हार्मोन बदल रहे होते हैं, तो हार्मोन बदलने के कारण भी बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो सकते हैं। इसीलिए लाल दाने निकलने पर डॉक्टर की सलाह लेना बहुत ही आवश्यक होता हैं।
  • अगर बच्चे की माता कुछ ज्यादा गर्म चीजें खाती है तो उसकी वजह से भी बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो सकते हैं, क्योंकि बच्चे की मां तो गर्म चीज खा लेती है। लेकिन जब बच्चा मां का दूध पीता है तो बच्चा उन गर्म चीजों का अंश बर्दाश्त नहीं कर पाता जिसकी वजह से उसके चेहरे पर लाल दाने हो जाते हैं। इसीलिए बच्चों को लाल दानों से बचाने के लिए माता को भी परहेज करना होगा।
  • अगर आप अपने घर में साफ सफाई नहीं रखती और आपका बच्चा नीचे फर्श पर खेलता हैं तो उसके कारण भी आपके बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो सकते हैं। क्योंकि इस प्रकार की त्वचा संबंधित बीमारियां फैलाने वाले कीटाणु घर के फर्श पर अक्सर इकट्ठा हो जाते हैं और फिर जब बच्चा फर्श पर खेलता हैं तो वह आसानी से इनकी चपेट में आ जाता हैं।
  • कई बार दवाइयों के साइड इफेक्ट से भी बच्चे के चेहरे पर लाल दाने निकल जाते हैं। इसलिए आपको बच्चे को हर एक दवाई उतनी ही देनी चाहिए जितनी कि डॉक्टर कहता हैं। यदि आप अपनी मर्जी से ही ज्यादा खुराक बच्चे को खिलाते हैं तो उसके कारण बच्चे के चेहरे पर लाल दाने निकल सकते हैं।
  • बच्चे के चेहरे पर लाल दाने मच्छरों के काटने से भी निकल सकते हैं। अगर आपके घर में काफी ज्यादा मच्छर पनप रहे हैं या फिर आप किसी पहाड़ी इलाके में रहते हैं, तो वहां पर मच्छर काफी ज्यादा हो जाते हैं और यह मच्छर जब बच्चे को काटते हैं तो फिर बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो जाते हैं।
  • यह बीमारी अनुवांशिक भी हो सकती है अगर आपके बड़े भाई बहन को यह बीमारी बचपन में हुई थी तो हो सकता है कि आपको भी यह बीमारी बचपन में अपने आप ही हो सकती है और अपने आप ठीक हो सकती हैं।
शिशु के चेहरे पर लाल दाने होने से कैसे बचाएं - Prevention Of Baby Acne In Hindi ?
image source:- http://www.canva.com

शिशु के चेहरे पर लाल दाने होने से कैसे बचाएं – Prevention Of Baby Acne In Hindi ?

अगर आप अपने बच्चे को लाल दाने होने से बचाना चाहते हैं, तो आपको बहुत सी बातों का ख्याल रखना पड़ेगा जैसे कि :-

अपने शिशु के चेहरे को साफ रखें

कई बार ऐसा भी होता है कि माताएं अपने शिशु को दो या तीन दिन तक स्नान ही नहीं करवाती या फिर अपने बच्चे का चेहरा भी नहीं धोती। हम आपको बता दें कि बच्चा चाहे कितना भी छोटा क्यों ना हो लेकिन उसकी साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखना पड़ता हैं, अगर आप अपने बच्चे के चेहरे को साफ नहीं करेंगी तो उसके कारण उसे इस प्रकार की बीमारियां बड़ी ही आसानी से हो सकती हैं। इसलिए आपको अपने बच्चे को बिल्कुल साफ सुथरा बनाकर रखना चाहिए, ताकि उसके शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई बैक्टीरिया ना जमा हो।

खाने की दवाई देख कर दें

ज्यादातर छोटे बच्चों को लाल दाने निकलने का कारण दवाइयां भी मानी जाती हैं, क्योंकि दवाइयों के साइड इफेक्ट के कारण भी बच्चों के चेहरे की त्वचा काफी हद तक प्रभावित होती हैं। इसीलिए आपको अपने बच्चे को ज्यादातर पीने की दवाइयां ही पिलानी चाहिए और उन दवाइयों की खुराक भी डॉक्टर के कहे अनुसार देनी चाहिए। इसके अतिरिक्त जब आप अपने बच्चे को खाने की दवाई या देती हैं, तो खाने की दवाइयों को अच्छी तरह पीसकर दूध के साथ मिला कर दीजिए और सिर्फ उतनी ही मात्रा दीजिए जितनी आपको डॉक्टर ने कही हैं।

लोशन ना लगाएं

बहुत सी माताएं अपने बच्चे को खूबसूरत दिखाने के लिए उसके चेहरे पर तरह-तरह के लोशन लगा देती हैं या फिर अपनी ही कोई क्रीम लगा देती है जिससे कि बच्चे का चेहरा ज्यादा चमकदार दिखाई देता हैं। हम आपको बता दें कि आपकी त्वचा और बच्चे की त्वचा में जमीन आसमान का फर्क हैं, इसीलिए आपको कभी भी अपनी कोई क्रीम बच्चे के चेहरे पर नहीं लगानी चाहिए। यदि आपको बच्चे के चेहरे पर कोई क्रीम या लोशन लगाना भी है तो आप बेबी लोशन या बेबी क्रीम लेकर आई है और उसे बच्चे के चेहरे पर लगाइए। इस प्रकार आपके बच्चे का चेहरा लाल दानों से संक्रमित नहीं होगा।

चेहरा ना रगड़े

अगर आप अपने बच्चे को लाल दाने होने से बचाना चाहती हैं, तो आपको बिल्कुल मुलायम कपड़े से अपने बच्चे का चेहरा साफ करना चाहिए। अगर आप खुर्दरे कपड़े से बच्चे का चेहरा साफ करती हैं तो आपके बच्चे का चेहरा रगड़ से प्रभावित हो सकता हैं और इसके कारण उसके चेहरे पर दाने व फुंसी पैदा हो सकते हैं, क्योंकि बच्चों की त्वचा काफी ज्यादा संवेदनशील होती हैं।

बच्चे के हाथों को साफ रखें

आपको अपने बच्चे के हाथों को पूरी तरह साफ रखना चाहिए, क्योंकि बच्चा फर्श पर भी थोड़ी देर खेलता है जिसके कारण उसके हाथों पर बैक्टीरिया जम सकते हैं और वही हाथ अगर बच्चा अपने चेहरे पर लगाता हैं, तो उसके कारण उसका चेहरा बैक्टीरिया से प्रभावित हो सकता है और बच्चे के चेहरे पर लाल दाने आ सकते हैं। इसीलिए बच्चे के हाथों को भी थोड़ी थोड़ी देर बाद धोते रहना चाहिए।

बच्चे का तोलिया अलग रखें

यह इस प्रकार की बीमारी होती है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल जाती हैं। इसीलिए आपको अपने बच्चे का तोलिया अलग रखना चाहिए। यदि आप किसी दूसरे व्यक्ति के तोलिए से अपने बच्चे का चेहरा साफ कर देती हैं, तो इस प्रकार बच्चे को संक्रमण हो सकता हैं। इसलिए बच्चे का एक अलग से तोलिया होना आवश्यक है और उसको लिए को रोजाना धोना भी जरूरी हैं।

दानों को ना दबाएं

अगर आपके बच्चे के चेहरे पर लाल दाने निकले हुए हैं, तो आपको उन लाल दानों को बिल्कुल भी नहीं दबाना चाहिए। बहुत सी माताएं बच्चे के चेहरे के लाल दानों को दबाने की कोशिश करती हैं जिसकी वजह से उनमें से पानी निकल कर बाकी की गाल पर भी लगता है और इस वजह से संक्रमण पूरे मुंह की त्वचा पर फैल जाता हैं। इसलिए आप अपने बच्चे के चेहरे पर होने वाले दानों को ना दबाएं।

बच्चे की माता खाने का ख्याल रखें

बच्चे की माता को अपने खाने-पीने का ख्याल रखना चाहिए, क्योंकि जो महिलाएं अपने छोटे बच्चों को स्तनपान कराती हैं उन्हें ज्यादा तली हुई चीजें या फिर ज्यादा गर्म चीजें खाने की सलाह बिल्कुल भी नहीं दी जाती, क्योंकि उनका शरीर तो इन चीजों को बर्दाश्त कर भी सकता हैं, लेकिन जब वह वह अपने बच्चे को दूध पिलाएंगे तो उनका बच्चा इन चीजों के कारण बीमार पड़ सकता है और इन्हीं चीजों के कारण बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो सकते हैं, इसीलिए इस चीज का पूरी तरह ख्याल रखें।

शिशु के चेहरे के दानों का परीक्षण – Diagnosis Of Baby Acne In Hindi ?

अगर आपके बच्चे के चेहरे पर दाने हो जाते हैं , तो पहले तो डॉक्टर 5 या 6 दिन की दवाई देकर देखता हैं। अगर बच्चे के चेहरे के दाने थोड़े ठीक होने लगते हैं तो फिर तो अच्छी बात है नहीं तो डॉक्टर बच्चे के अलग-अलग तरह के कई टेस्ट भी कर सकता है जैसे कि :-

  • इन लाल दानों के बारे में अच्छी तरह से जानने के लिए डॉक्टर आपके खून की जांच भी कर सकता हैं, क्योंकि खून की जांच के माध्यम से भी आसानी से दाने निकलने के कारण का पता लगाया जा सकता हैं, क्योंकि कई बार ऐसा भी होता है कि बीमारी कोई और ही होती है और हम उसे कुछ और ही सोच रहे होते हैं इसीलिए ब्लड टेस्ट के माध्यम से जांच भी की जाती हैं।
  • इन लाल दानों का सही से इलाज करने के लिए डॉक्टर इन दिनों के अंदर से निकलने वाले पानी की जांच भी कर सकता हैं। क्योंकि उस के माध्यम से भी पता लगाया जा सकता है कि यह बीमारी बच्चे को किस बैक्टीरिया की वजह से हो रही है और यह बैक्टीरिया किस प्रकार बच्चे को प्रभावित कर सकता है।
शिशु के चेहरे के दानों का इलाज - Treatment Of Baby Acne In Hindi ?

शिशु के चेहरे के दानों का इलाज – Treatment Of Baby Acne In Hindi ?

  • जब डॉक्टर बच्चे के चेहरे पर दाने होने का सही कारण पता लगा लेता हैं तो इसके पश्चात डॉक्टर के द्वारा बच्चे को चेहरे पर लगाने का lotion भी दिया जा सकता है। इस लोशन के माध्यम से बच्चे के चेहरे पर उपस्थित लाल दाने सूखने लगेंगे और वह धीरे-धीरे पूरी तरह से सूख जाएंगे और फिर उसके पश्चात डॉक्टर कोई ऐसी Cream बच्चे के चेहरे पर लगाने के लिए देगा जिससे कि उसके चेहरे के दाग अच्छी तरह मिट जाएं।  फिर उसका चेहरा पहले की तरह साफ हो जाएगा, क्योंकि कई मामलों में यह लाल दाने अपने निशान भी छोड़ देते हैं जिन्हें साफ करने के लिए बच्चे के चेहरे पर कोई दूसरी क्रीम भी लगानी पड़ती हैं।
  • बच्चे की त्वचा बहुत ही ज्यादा संवेदनशील होती है इसीलिए हम इलाज के तौर पर अपनी मर्जी से ही बच्चे के चेहरे पर कोई भी नुस्खा नहीं आजमा सकते, क्योंकि कई प्रकार के नुस्खे बच्चे की त्वचा को ठीक करने की बजाय उसे और भी ज्यादा नुकसान पहुंचा देते हैं।

Third Wave:- कोविड-19 के तीसरे लहर में नहीं होगी आक्सीजन की कमी, एम्स-रायपुर ने किया पीएसए ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना

बच्चे के चेहरे के लाल दानों को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार – Home Remedies For Baby Acne In Hindi ?

अब हम आपको बच्चे के चेहरे के लाल दानों को ठीक करने के लिए कुछ घरेलू उपचार बताएं हैं जो कि आपके बच्चे के चेहरे को बिल्कुल पहले के जैसा बना सकते हैं, लेकिन इन घरेलू उपचार के माध्यम से बच्चे का चेहरा ठीक करने में थोड़ा समय तो लगेगा लेकिन इस प्रकार आपके बच्चे का चेहरा प्राकृतिक रूप से ठीक होता है।

चेहरा साफ कीजिए

बच्चे के चेहरे पर दाने होने पर आपको अपने बच्चे का चेहरा सुबह और शाम थोड़े गुनगुने पानी से दो ना चाहिए और फिर मुलायम से कपड़े की सहायता से धीरे-धीरे बच्चे का पूरा चेहरा साफ कर देना चाहिए।

बच्चे को गर्मी से बचाइए

गर्मियों के मौसम में आपको अपने बच्चे को घर में ही रखना चाहिए, क्योंकि गर्मी के मौसम में इस प्रकार की समस्याएं ज्यादा देखी जाती हैं। इसीलिए गर्मी के मौसम में आप अपने घर के अंदर ऐसी या कूलर चला कर बच्चे को बिठा सकते हैं इस प्रकार बच्चे को ठंडक मिलेगी।

नारियल का तेल

जब आपके बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो जाते हैं तो लाल दानों को सही करने का सबसे अच्छा घरेलू इलाज नारियल का तेल है नारियल का तेल बच्चों की त्वचा के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है इसीलिए बच्चे की त्वचा पर लाल दाने होने पर आपको एक रुई की सहायता से अपने बच्चे के चेहरे पर अच्छी तरह से नारियल का तेल रात को सोते समय लगा देना चाहिए। आपको नारियल का तेल सुबह तक अपने बच्चे के चेहरे पर लगे रहने देना हैं। इस प्रकार आपके बच्चे के चेहरे के लाल दाने सिर्फ 8 से 10 दिन में ही ठीक होने लगेंगे।

जैतून का तेल

आप अपने बच्चे के चेहरे की त्वचा के लाल दानों को ठीक करने के लिए जैतून के तेल का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। जैतून का तेल भी बच्चे की त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होता है और खास तौर पर लाल दानों को सुखाने के लिए जैतून का तेल एक बहुत ही अच्छी औषधि है।

गुलाब जल

बच्चे के चेहरे के दानों को ठंडक पहुंचाने के लिए आप रुई की सहायता से उन पर दिन में दो से तीन बार गुलाब जल भी लगा सकती हैं, क्योंकि गुलाब जल दानों को ठंडक प्रदान करता है जिसकी वजह से बच्चे को राहत मिलती है।

नीम का तेल

आप अपने बच्चे के चेहरे पर नीम का तेल भी लगा सकती हैं, क्योंकि नीम का तेल भी antiseptic तथा Antioxidants गुणों से भरपूर होता हैं, जो कि बच्चे के चेहरे को बिल्कुल ठीक कर देता है।

Conclusion –

बच्चे के चेहरे पर लाल दाने हो जाने के पश्चात बच्चे का चेहरा किस प्रकार से ही करना चाहिए और लाल दाने हो जाने के पश्चात किन बातों का ख्याल रखना चाहिए और ऐसी कौन सी चीज है जो आपके बच्चे को लाल दाने होने से बचा सकती हैं उन सब के बारे में हमने आपको बता दिया हैं। इसी के साथ-साथ आज हमने इस पोस्ट में जाना है कि Baby Acne Causes In Hindi तथा Baby Acne Symptoms In Hindi इसी के साथ-साथ हमने आपको Prevention Of Body Acne In Hindi तथा Baby Acne Treatment In Hindi के बारे में भी बता दिया हैं।

अब यदि आपको हमसे Home Remedies For Baby Acne In Hindi के बारे में कोई भी सवाल पूछना हों, तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This