Twenty Sixth Week of Pregnancy: प्रेगनेंसी के 26वें सप्ताह के लक्षण,शारीरिक बदलाव, खुद की देखभाल एवं बच्चे का विकास | Twenty Sixth week of pregnancy – symptoms, physical changes, self-care best tips and baby’s development Hindi

Must Read

Dr. Arti Sharma
Dr. Arti Sharmahttp://goodswasthya.com
Dr. Arti Sharma is a certified BAMS doctor with at least 2 years of article writing experience on various medication and therapeutic lines. She is known for her best work in ayurvedic medication knowledge and there uses. Her hobbies including reading books and writing articles. With a good grip in sports, she uses to play for her university cricket team as a captain. Her work for ayurvedic is well known. डॉ आरती शर्मा एक प्रमाणित BAMS डॉक्टर है जिन्हे कम से कम 2 साल का विभिन्न दवाइयों और चिकित्सीय रेखाओं पर लेखन का अनुभव है। वह आयुर्वेदिक दवाओं के ज्ञान और उनके उपयोग में अपने बेहतरीन काम के लिए जानी जाती हैं। उनका शौक किताबें पढ़ना और लिखना है। खेलों में अच्छी पकड़ के साथ, वह एक कप्तान के रूप में अपनी विश्वविद्यालय क्रिकेट टीम के लिए खेल चुकी हैं। आयुर्वेद के क्षेत्र में उनका काम अच्छी तरह से जाना जाता है।
Twenty Sixth Week of Pregnancy in Hindi Table Of Content

Twenty Sixth Week of Pregnancy Symptoms and Care in Hindi

गर्भावस्था का 26 वां सप्ताह गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए एक विकास का सप्ताह होता हैं, जिसमें अब बच्चे का विकास तेजी से हो रहा होता है। गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में आपके गर्भ में पल रहे बच्चे के कानों की तंत्रिका ए विकसित होना शुरू हो जाती हैं और इसी के साथ साथ में है अब आकार में भी बड़ा हो चुका होता है और उसका वजन भी बढ़ जाता है।

गर्भावस्था के 26 सप्ताह में अब महिलाओं का पेट भी काफी ज्यादा बड़ा होने लगता है जिसके चलते अब उन्हें बहुत सी सावधानियां बरतनी पड़ती हैं, क्योंकि गर्भावस्था के 26 सप्ताह में अगर आप कुछ भी अनदेखा करते हैं, तो उसके कारण आपके बच्चे और आप को काफी नुकसान पहुंच सकता है।

इसीलिए गर्भावस्था के 26 सप्ताह में महिलाओं को हर एक चीज का ख्याल रखना पड़ता है कि किस टाइम होने सोना है किस टाइम उठना है किस टाइम खाना है। अब आगे आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको Pregnancy 26th Week Symptoms In Hindi तथा Healthy Diet During Pregnancy 26th In Hindi के बारे में बताएंगें। इसी के साथ साथ-साथ हम आपको Self-Care Tips During Pregnancy In Hindi तथा Safety Tips During Pregnancy In Hindi के विषय में भी अच्छे से बताएंगे।

 26th Week of Pregnancy Symptoms and Care in Hindi

गर्भावस्था के 26 वें हफ्ते में बच्चे का विकास – Baby’s Development In Pregnancy Twenty Sixth Week In Hindi ?

  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में  आपके  शिशु का आकार सिर से एड़ी तक  शिशु अब 35.6 सें.मी. (14 Inch) से ज्यादा हो गया है। अब आप के शिशु का वजन भी करीब 760 – 800 ग्राम तक पहुंच गया है। गर्भावस्था के 26 हफ्ते में आपके शिशु के बढ़ते शरीर को मजबूत होती रीढ़ का सहारा मिल रहा है, जिसमें अब तक 150 जोड़ (Joints), 33 छल्ले (रिंग) और 1000 अस्थिबंध (ligaments) हैं।
  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में आपके शिशु की आवाज के प्रति प्रतिक्रिया भी अधिक समान ढंग से बढ़ रही है, क्योंकि इस अवस्था में आपके शिशु का मस्तिष्क अब अधिक विकसित हो गया है। वह अब और भी अधिक स्पष्ट तौर पर सुन सकता है, और वह शायद  आप और आपके पति की अलग-अलग आवाज को पहचान भी अब आसानी से सकता है। यही शुरुआती पहचान आपके शिशु को जन्म के बाद आपसे और आपके पति से मजबूत बंधन बनाने में भी मदद करेगी।
  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में आपके शिशु के फेफड़े विकसित होना जारी रखेंगे, महत्वपूर्ण रक्त वाहिकाएं भी विकसित हो रही हैं और नए वायुमार्ग भी अब निकल रहे हैं। इन्हें श्वसन पेड़ ( Respiratory tree ) के तौर पर भी जाना जाता है।
  • इन वायुमार्गों के सिरों पर वायुकोष (air sac) (छोटे अंगूर के आकार की संरचना जिसे alveoli कहा जाता है) वह बनेंगे। आपका शिशु जन्म के पश्चात जब अपनी पहली सांस लेता है तो ये वायुकोष हवा से भर जाएंगे। उसकी बहुत ही छोटी रक्त वाहिकाओं ( Blood Vessels ) के जरिये उसके रक्तप्रवाह में ऑक्सीजन का समाहन भी कर लिया जाएगा।
  • यदि गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में आपके गर्भ में पुत्र पल रहा है, तो उसके वृषण श्रोणी क्षेत्र ( Pelvic Area ) से अंडकोष तक आने का अपना सफर जारी रखेंगे। आपके शिशु के जन्म के कुछ समय पहले वृषण अपने अंतिम स्थान तक पहुंच जाएंगे। वैसे तो, जन्म के पश्चात पहले 6 महीनों में भी ऐसा होना जारी रहना काफी आम बात है।
  • आपके शिशु की स्वाद कलिकाएं ( Taste Buds ) अब पूरी तरह से विकसित हो चुकी हैं, उसके नथुने भी अब खुलने लगे हैं और उसके मुंह तथा होंठ अब अधिक संवेदनशील हो चुके हैं। अब आपके शिशु के मसूढ़ों में ऊपर दांतों के अंकुर भी उभरने लगे हैं, जो कि अंतत वयस्क कृन्तक दांत ( Incisor Teeth ) और श्वदंत ( Respirator ) बनेंगे।

Twenty Fifth Week of Pregnancy: प्रेगनेंसी के 25वें सप्ताह के लक्षण,शारीरिक बदलाव, खुद की देखभाल एवं बच्चे का विकास 

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के लक्षण – Symptoms Of Twenty Sixth Week Pregnancy In Hindi ?

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को काफी अलग-अलग लक्षण दिख सकते हैं। इसीलिए महिलाओं को पहले ही Symptoms Of Pregnancy Twenty Sixth Week In Hindi के बारे में पता होना चाहिए। ताकि बाद में उन्हें उन लक्षणों को देखकर दिक्कत ना हो, क्योंकि बहुत सी महिलाएं गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के लक्षण दिखने पर तरह-तरह की दवाइयां खुद भी खा लेती है, जिसके कारण उनके बच्चे को नुकसान पहुंचता है।

1. नींद ना आना

जब महिलाएं गर्भावस्था के 26 हफ्ते में पहुंच जाती हैं तो उन्हें फिर नींद आने में काफी परेशानी होती है। क्योंकि जैसे-जैसे प्रसव का समय पास आने लगता है, तो उसी के साथ साथ महिलाओं को बेचैनी भी रहने लगती है और नींद अच्छे से नहीं आती खास तौर पर जो महिलाएं अपने घर पर बिल्कुल भी काम नहीं करती तो उन्हें तो यह समस्या काफी ज्यादा परेशान कर सकती है, इसलिए आपको घर का थोड़ा बहुत काम करना चाहिए।

2. सिर दर्द होना

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं का सिर दर्द भी काफी ज्यादा रह सकता है। क्योंकि गर्भावस्था के समय महिलाओं के शरीर में काफी परिवर्तन होते हैं जिनके चलते महिलाओं को सिर दर्द भी रह सकता है, इसीलिए सिर दर्द होने पर आपको अपने सिर की मालिश करवा लेनी चाहिए। यही आपके लिए बेहतर रहता है यदि आप सिर दर्द की दवाई खाते हैं तो है आपको नुकसान भी दे सकती हैं।

3. पैरों में सूजन आना

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को पैरों में भी काफी ज्यादा सूजन आ सकती है, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में जो भी हार्मोन बदलते हैं, उनके कारण पैरों में सूजन आना एक आम बात है। आपको सूजन के लक्षण दिखने पर gynecologist doctor की सलाह ले लेनी चाहिए वैसे तो सूजन के लक्षण सिर्फ कुछ ही दिनों के लिए होते हैं।

4. याददाश्त कमजोर होना

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान महिलाओं की याददाश्त भी प्रभावित हो सकती हैं, क्योंकि शरीर में जितने भी परिवर्तन होते हैं उनके कारण याददाश्त प्रभावित होना एक आम लक्षण हैं। बहुत-सी महिलाओं को गर्भावस्था के 26 वें दौरान में काफी सारी चीजें याद नहीं रहती यह सिर्फ गर्भावस्था के लक्षणों के कारण ही होता है, इसलिए आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है।

5. सांस लेने में दिक्कत होना

Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को सांस लेने में भी कठिनाई हो सकती है, क्योंकि अब उनके पेट में पल रहे बच्चे का विकास हो रहा होता है जिसके चलते वह अब आकार में भी बड़ा हो रहा होता है और बच्चा जब आकार में बड़ा होता है, तो उसके कारण आपके फेफड़ों पर थोड़ा सा दबाव पड़ सकता है और फेफड़ों पर जब दबाव पड़ता है, तो उसी के कारण महिलाओं को सांस लेने में थोड़ी सी कठिनाई होती है।

6. उच्च रक्तचाप की समस्या

 गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को उच्च रक्तचाप की समस्या भी काफी ज्यादा रहती है। क्योंकि गर्भावस्था के समय है महिलाओं के शरीर में काफी अधिक परिवर्तन होते हैं। जिनके चलते बहुत-सी महिलाओं को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी रह सकती है, इसलिए महिलाओं को हल्के-फुल्के चक्कर आने पर या सिर दर्द होने पर एक बार अपना ब्लड प्रेशर भी चेक करवा लेना चाहिए।

7. कमर में दर्द रहना

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को कमर में भी काफी दर्द रह सकता है, क्योंकि बच्चा जब गर्भ में बड़ा हो रहा होता है, तो वह गर्भ में अपना स्थान लेने के लिए रीड की हड्डी पर भी थोड़ा सा दबाव डालता है जिसके चलते कमर में दर्द होना स्वाभाविक है। इस प्रकार के लक्षण दिखने पर आपको किसी भी प्रकार की दर्द निवारक गोली खाने की कोई भी आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इस प्रकार के लक्षण स्वयं ही थोड़े दिनों में दिखने बंद हो जाते हैं।

Corona test:- सरकार ने कोरोना परीक्षण की रफ्तार को बढ़ाने के लिए लॉन्च किया मोबाइल लैब, कोरोना जांच में अब आएगी तेजी

Self-Care Tips During Twenty Sixth Week Pregnancy In Hindi?

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को काफी कुछ बातों का ख्याल भी रखना पड़ता है और घर पर ही बहुत से ऐसे काम होते हैं जिनसे महिलाओं को नुकसान पहुंच सकता है। इसीलिए वह काम करने में भी उन्हें काफी सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। इसीलिए महिलाओं को Self-care Tips During Pregnancy In Hindi के बारे में अच्छे से पता होना जरूरी है।

  • जब महिलाएं गर्भावस्था के 26 सप्ताह में पहुंचती है, तो उन्हें घर पर कपड़े धोते वक्त या सीढ़ियां आदि चढ़ते वक्त भी काफी ज्यादा ध्यान देना चाहिए। क्योंकि थोड़ी सी गलती के कारण उनका पैर फिसल सकता है। इसीलिए उन्हें हमेशा नीचे देख कर सीढ़ियां चढ़ने और उत्तर नहीं चाहिए और कपड़े धोते समय भी अच्छे से ध्यान देना चाहिए।
  • Twenty Sixth week of pregnancy में महिलाओं को कोई भी छोटी मोटी बीमारी के लक्षण दिखने पर बिल्कुल भी दवाई अपनी मर्जी से नहीं खानी चाहिए , क्योंकि अपनी मर्जी से खाई गई दवाइयां गर्भावस्था के समय बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं। इसीलिए सिर्फ gynecologist doctor की सलाह के पश्चात ही दवाई का सेवन करें।
  • Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को घर से बाहर जाते समय या फिर अपने घर पर ऐसी चप्पलों का इस्तेमाल करना चाहिए, जो बिल्कुल भी नहीं चलती हूं बहुत सी चपले थोड़े से ही पानी में तुरंत ही फिसल जाती हैं। यदि इस प्रकार की चप्पलों का आप इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उसके कारण आप को नुकसान पहुंच सकता है, इसीलिए चलने वाली चप्पलों का इस्तेमाल ना करें।
Self-Care Tips During 26th Week Pregnancy In Hindi?
image source:- http://www.canva.com
  • Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को अपने घर में किसी भी प्रकार का भारी वजन भी नहीं उठाना चाहिए, बहुत सी महिलाएं भारी वजन उठाती हैं जिसके चलते उनके बच्चे को काफी नुकसान पहुंच सकता हैं। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में किसी भी प्रकार का भारी वजन ना तो उठाएं और ना ही कोई भारी काम करें।
  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को किसी भी प्रकार की कोई लंबी यात्रा भी नहीं करनी चाहिए। लंबी यात्रा करने के दौरान भी 26 वें सप्ताह में महिलाओं को नुकसान पहुंच सकता है और उनके पेट में भी काफी ज्यादा दर्द हो सकता है इसलिए घर पर ही रहे।

गर्भावस्था के 26वें सप्ताह में जीवन शैली में बदलाव करें – Change Your Life Style In Twenty Sixth Week Pregnancy In Hindi ?

गर्भावस्था के 26 सप्ताह में महिलाओं को अपनी जीवनशैली में भी बहुत से बदलाव करने पड़ते हैं। क्योंकि खराब जीवनशैली की वजह से भी महिलाएं अपने बच्चे को गवा सकती हैं। इसीलिए Healthy Life Style During Pregnancy In Hindi के बारे में पता होना काफी आवश्यक है।

  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy में महिलाओं को एक स्वस्थ जीवन शैली को अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए। यदि वह धूम्रपान करती हैं या फिर किसी भी प्रकार का कोई Drugs लेती हैं, तो उसके कारण उन्हें काफी नुकसान पहुंच सकता हैं। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान बिल्कुल साधारण जीवन जिए।
  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान महिलाओं को खाना खाने का समय निर्धारित करना पड़ता हैं। यदि महिलाएं बेटाइम खाना खाती हैं, तो उसके कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान महिलाओं के खाने का समय निर्धारित होना चाहिए।
  • गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को रोजाना सुबह और शाम पार्क में घूमने के लिए जरूर जाना चाहिए। क्योंकि पार्क में घूमने से महिलाओं के शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह काफी अच्छे से होता है, जिसके चलते बच्चे का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। इसीलिए महिलाओं को सुबह और शाम पार्क में भी जरूर घूमना चाहिए।
  • Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को ज्यादा तला हुआ खाना नहीं खाना चाहिए या फिर ज्यादा मिर्च मसाले वाला भोजन भी उन्हें नहीं करना चाहिए। क्योंकि इस प्रकार का भोजन करने से उन्हें काफी नुकसान पहुंच सकता है और खासतौर पर रात के समय उनके सीने में जलन पेट में दर्द आदि भी हो सकता है।
  • गर्भावस्था के 26 सप्ताह में महिलाओं को समय पर सोना चाहिए और समय पर उठना चाहिए। मतलब कि उन्हें सूर्य उदय तक सो कर उठ जाना चाहिए और रात 10:00 बजे से पहले पहले सो जाना चाहिए इस प्रकार में है। Twenty Sixth week of pregnancy में भी स्वस्थ रहती हैं और आगे चलकर एक स्वस्थ बच्चे को भी जन्म दे पाती हैं।
  • गर्भावस्था के 26 सप्ताह में महिलाओं को शराब का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि शराब Twenty Sixth week of pregnancy में महिलाओं को काफी दवा नुकसान पहुंचा सकती है। इसीलिए गर्भावस्था के दौरान इन सब चीजों को बिल्कुल भी ना छुएं।

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में पोस्टिक आहार का सेवन करें – Eat Healthy Food During Twenty Sixth Week Of Pregnancy In Hindi ?

Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को अधिक से अधिक पौष्टिक आहार का सेवन भी करना चाहिए। क्योंकि पोस्टिक आहार महिलाओं के अच्छे स्वास्थ्य के लिए काफी दादा फायदेमंद होता है और इसी के साथ-साथ पोस्टिक आहार का सेवन करने से बच्चे को भी अधिक पोषण मिल पाता है। इसीलिए Healthy Diet During Pregnancy In Hindi के बारे में आपको अच्छे से पता होना जरूरी होता है।

  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को ताजे फलों का सेवन ज्यादा से ज्यादा मात्रा में करना चाहिए। क्योंकि ताजे फलों में सभी जरूरी तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जो कि बच्चे को भी अच्छा पोषण प्रदान करते हैं। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में फलों का सेवन करना काफी ज्यादा आवश्यक होता है।
गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में पोस्टिक आहार का सेवन करें - Eat Healthy Food During 26th Week Of Pregnancy In Hindi ?
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को हरी सब्जियों का सेवन भी अधिक से अधिक करना चाहिए। क्योंकि हरी सब्जियां गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान महिलाओं के लिए तो फायदेमंद होती है। इसी के साथ-साथ उनके बच्चे के अच्छे विकास में भी सहायक होती है। इसीलिए हरी सब्जियों का सेवन करना काफी जरूरी होता है।
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को दूध का सेवन भी ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। क्योंकि दूध का सेवन करने से गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में महिलाओं को तो सभी पोषक तत्व मिलते ही हैं। इसी के साथ-साथ उनके गर्भ में पल रहे शिशु को भी पोषण मिलता है, जिससे कि उसका दोनों काफी अच्छा विकास होता है।
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को साबुत अनाज से बने आहार का सेवन भी करना चाहिए। क्योंकि साबुत अनाज सेब अनार पोषक तत्वों का मुख्य साधन होता है, जो महिलाओं के साथ-साथ उनके बच्चे के विकास में भी सहायक होता है। इसीलिए दलिया तथा ओट्स का सेवन भी भरपूर मात्रा में करें।
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को दालों का सेवन भी ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए। क्योंकि डालें पोषक तत्व की मुख्य साधन भी होती हैं, यह शरीर में पोषक तत्वों की कमियों को पूरा करने के साथ-साथ बच्चे के विकास में भी काफी ज्यादा सहायक होती है। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान दालों का सेवन भी जरूर करें।
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy में महिलाओं को देसी घी का सेवन भी ज्यादा से ज्यादा मात्रा में करना चाहिए, क्योंकि देसी घी महिलाओं के अच्छे विकास तथा बच्चे के विकास में भी सहायक होता है और देसी घी का अधिक सेवन करने वाली महिलाओं को प्रसव में भी काफी आसानी रहती है। इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में देसी घी का सेवन भी अवश्य करें।
  • Twenty Sixth Week Of Pregnancy में महिलाओं को अंडा या मांस का सेवन भी करना चाहिए। क्योंकि यह भी पोषण प्रदान करने के लिए उत्तम माने जाते हैं। इसीलिए महिलाएं मासिया अंडे का सेवन भी हफ्ते में 2 से 3 बार कर सकती हैं।

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में ध्यान रखने योग्य कुछ बातें ?

Twenty Sixth Week Of Pregnancy में महिलाओं को बहुत सी चीजों का ख्याल रखना पड़ता है, जिसके कारण उन्हें और उनके बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है जैसे कि :-

  • Twenty Sixth week of pregnancy में महिलाओं को फ्रिज का ठंडा पानी अधिक नहीं पीना चाहिए, क्योंकि फ्रिज का ठंडा पानी महिलाओं का स्वास्थ्य खराब कर सकता है। यह उनका गला भी जाम कर सकता है और कैदियों को भी नुकसान पहुंचाता है। इसीलिए गर्भावस्था के 26 हफ्ते के दौरान महिलाओं को फ्रिज का ज्यादा ठंडा पानी या फिर ठंडा खाना नहीं खाना चाहिए।
  • Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को ज्यादा फोन का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि मोबाइल फोन का अधिक इस्तेमाल करने से महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी काफी बुरा असर पड़ता है, इसीलिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल सिर्फ जरूरत पड़ने पर ही करें।
Twenty Sixth week of Pregnancy
  • Twenty Sixth week of pregnancy में महिलाओं को Cold Drink का सेवन भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि ज्यादातर सभी कोल्ड ड्रिंक केमिकल युक्त होती हैं और यह महिलाओं और उनके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं।
  • Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं को बाहर का खाना बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए, क्योंकि बाहर का खाना खाने से भी उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। बाहर के खाने में केमिकल भी हो सकता है और बाहर का खाना ज्यादातर एक ही तेल में एक से अधिक दिनों तक बनाया जाता है, जिसके कारण उसमें बहुत ज्यादा बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं और वह महिला के शरीर में जाकर नुकसान पहुंचाते हैं, इसीलिए गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह के दौरान सिर्फ घर का सादा खाना ही खाएं।
  • गर्भावस्था के 26 हफ्ते के दौरान महिलाओं को ज्यादातर रात का बासी खाना भी नहीं खाना चाहिए, क्योंकि रात का बासी खाना महिलाओं के स्वास्थ्य को बिगाड़ सकता है।

गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में डॉक्टर की सलाह है जरूरी ?

Twenty Sixth Week Of Pregnancy के दौरान महिलाओं को डॉक्टर की सलाह काफी ज्यादा जरूरी होती है, क्योंकि इस सप्ताह में डॉक्टर महिलाओं को ultrasound कराने के लिए भी कह सकता है, क्योंकि बच्चे के विकास का पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड करवाना काफी आवश्यक होता है बहुत ही अच्छी कमियां हैं, जो Twenty Sixth week of pregnancy के दौरान महिलाओं में हो सकती हैं और उनके कारण महिलाओं के बच्चे का विकास रुक सकता है। इसीलिए महिलाओं को गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में gynecologist doctor की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

क्योंकि gynecologist doctor ही गर्भावस्था के 26 वें सप्ताह में गर्भवती महिला की अच्छे से जांच करके उसे स्वस्थ बच्चे को जन्म देने में मदद कर सकता है।

Conclusion –

  • Twenty Sixth week of pregnancy में महिलाओं को अपना किस प्रकार ध्यान रखना चाहिए और महिलाओं को कौन सी सावधानियां 26th Week Of Pregnancy में बरतनी चाहिए, उन सब के बारे में हमने आज की इस पोस्ट के माध्यम से आप लोगों को अच्छे से बताया हैं।
  • इसके अलावा हमने आप लोगों को इस पोस्ट में Pregnancy Twenty Sixth Week Symptoms In Hindi तथा Healthy Tips In Pregnancy 26th Week In Hindi के बारे में भी बताया है।
  • अब भी आपको अगर हमसे Safety Tips In Pregnancy Twenty Sixth Week In Hindi और Healthy Diet During Twenty Sixth Week Pregnancy In Hindi के बारे में किसी भी प्रकार का कोई सवाल पूछना है , तो आप लोग कमेंट सेक्शन में भी कमेंट कर सकते हैं। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This