Boost Baby’s Brainpower: अगर करना है बच्चे का दिमाग तेज तो करनी होंगी यें चीजें |Some important things and Best Tips to sharpen the mind of the child

Must Read

Dr. Nick Kumar Jaiswal
Dr. Nick Kumar Jaiswalhttp://goodswasthya.com
He is a professional blog writer for more than 2 years, he holds a degree in Doctorate in Pharmacy(Pharm D) with experience in medicine dispensing and medication ADRs. His interest in medicine makes him excellent in his research project. Now he prefers to write blogs about medications and diseases. His hobbies include football and watching Netflix. He loves reading novels and gain knowledge about more medication ADRs. He is very helpful in nature and you will often find him helping others in the treatment. डॉ जयसवाल 2 से अधिक वर्षों से एक पेशेवर ब्लॉग लेखक है, ये दवा वितरण और दवा एडीआर में अनुभव के साथ एक फार्म डी डिग्री होल्डर है। चिकित्सा में उनकी रुचि उन्हें अपनी शोध परियोजना में उत्कृष्ट बनाती है। अब वह दवाओं और बीमारियों के बारे में ब्लॉग लिखना पसंद करते हैं। उनके शौक में फुटबॉल और नेटफ्लिक्सिंग, उपन्यास पढ़ना और अधिक दवा एडीआर के बारे में ज्ञान प्राप्त करना शामिल है। वह प्रकृति में बहुत मददगार है और अक्सर आप इन्हे दूसरों की इलाज में मदद करते हुए देख पाएंगे ।
Boost Baby’s Brainpower in Hindi Table Of Content

Boost Baby’s Brainpower: अगर करना है बच्चे का दिमाग तेज तो करनी होंगी यें चीजें

बच्चे का दिमाग तेज करने के बारे में हमें बचपन से ही सोचना पड़ता हैं। यदि हम बचपन से ही बच्चे के दिमाग के विकास के बारे में नहीं सोचेंगे तो फिर उसके दिमाग का विकास रुक भी सकता हैं। इसीलिए बच्चे के दिमाग का विकास काफी आवश्यक है क्योंकि बचपन में ही बच्चे के दिमाग का विकास अच्छी तरह होता है

ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हम अपने बच्चे को अगर बचपन से ही खिलाते हैं, तो उन्हें खाने से बच्चे का दिमाग काफी जल्दी से विकसित होता है और उसका दिमाग पढ़ाई लिखाई में भी काफी तेज हो जाता हैं। हमें 3 साल तक की उम्र तक अपने बच्चों को भरपूर मात्रा में पौष्टिक आहार का सेवन करवाना पड़ता है तभी उनका दिमाग तेजी से विकसित होता हैं।

बच्चों का दिमाग विकसित होना काफी आवश्यक हैं, क्योंकि यदि उनका दिमाग अच्छे से विकसित नहीं होगा तो इसके कारण वह पढ़ाई लिखाई में कमजोर रहेंगे और खेलकूद के मामले में भी वह दूसरे बच्चों सें पीछे रहेंगे। इसलिए हमें अपने बच्चों को बचपन से ही इस प्रकार बनाना चाहिए क्यों उनका दिमाग तेजी से विकसित होता रहें।

इसलिए आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको Bacho Ka Dimag Kaise Tez Kare तथा Bacho Ka Dimag Badhane Ka Tarika और इसी के साथ-साथ हम आपको Ways to Boost Baby’s Brainpower In Hindi के बारे में भी विस्तार से बताएंगें।

Boost Baby's Brainpower

Healthy Food For Baby’s Brain In Hindi

अगर आप अपने बच्चे के दिमाग को दूसरे बच्चों की अपेक्षा काफी तेज बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको बचपन से ही अपने बच्चे के खाने पीने पर ध्यान रखना होगा यदि आप बच्चे की सिर्फ खाने पीने पर ही ध्यान दे लेते हैं तो आप आसानी से अपने बच्चे का दिमाग काफी तेज बना सकते हैं। अब हम आपको Ways to Boost Baby’s Brainpower In Hindi के बारे में बताते हैं।

1. ब्रोकली

दिमाग के लिए ब्रोकली बेहद ही फायदेमंद मानी जाती हैं। खासतौर पर जब बात बच्चों का तेज दिमाग करने की आती है तो उस समय डॉक्टर की जुबां पर भी ब्रोकली का नाम ही आता हैं, क्योंकि ब्रोकली को लेकर बहुत से शोध भी किए गए हैं जिन के पश्चात इस बात का दावा किया गया है कि यदि आप अपने बच्चे को बचपन से ही ब्रोकली का सेवन करवाते हैं तो आपके बच्चे का दिमाग काफी ज्यादा विकसित हो जाता है

जिससे कि वह पढ़ाई लिखाई में भी सबसे आगे रहता है इसीलिए आपको अपने बच्चों को हफ्ते में दो से तीन बार ब्रोकली जरूर खिलानी चाहिए। दिमाग तेज करने के साथ-साथ ब्रोकली का बच्चे के शरीर में और भी फायदा होता है, एक बेहतर विकास के लिए ब्रोकली बहुत ही फायदेमंद सिद्ध होती है।

2. ड्राई फ्रूट

आपको अपने बच्चों को बचपन से ही ड्राई फ्रूट खिलाने चाहिए क्योंकि ड्राई फ्रूट बच्चे का दिमाग काफी जल्दी विकसित करने के लिए बेहद फायदेमंद माने जाते हैं। इसीलिए आपको अपने बच्चों को रोजाना ड्राई फ्रूट खिलाना चाहिए अपने बच्चों को सुबह नाश्ते में बादाम का दूध भी पिला सकती हैं, क्योंकि बदाम तो वैसे भी बच्चों के अच्छे विकास के लिए जाने जाते हैं इसीलिए हर घर में बच्चों के बेहतर विकास के लिए बच्चों को बादाम दिए जाते हैं।

इसके अतिरिक्त अखरोट तथा पिस्ते का सेवन भी करवा सकते हैं। यदि आप रोज रात को अपने बच्चों को उसके साथ रूप देते हैं तो यह भी उनके अच्छे विकास में काफी सहायता करते हैं।

3. एवोकाडो

आप अपने बच्चे को एवोकाडो का सेवन भी करवा सकती हैं क्योंकि एवोकाडो भी दिमाग के अच्छे विकास के लिए बेहद ही फायदेमंद माना जाता हैं। अगर आप अपने बच्चे को रोजाना भुने हुए एवोकाडो का सेवन करवाती है या फिर आप और भी बहुत से रूप में अपने बच्चों को सेवन करवा सकती हैं हर एक रुप में आपके बच्चे का दिमाग विकसित करने में सहायक होता है। इसीलिए अपने बच्चे को एवोकाडो का सेवन जरूर करवाएं एवोकाडो आपको आसानी से बाजार में मिल सकता है जिसकी कीमत भी ज्यादा नहीं होती यदि आप हफ्ते में दो से तीन बार भी अपने बच्चों को अबोकाडो खिलाती हैं तो यह भी उसके दिमाग के लिए काफी है।

Boost Baby's Brainpower
image source:- http://www.canva.com

4. अंडा

बच्चों के दिमाग के अच्छे विकास के लिए अंडा भी काफी फायदेमंद माना जाता है। यदि आप अपने बच्चे को नाश्ते में रोजाना उबला हुआ अंडा खिलाती है, तो उबला हुआ अंडा रोजाना खाने से आपके बच्चे का दिमाग काफी ज्यादा आप विकसित होने लगता है और वह धीरे-धीरे पढ़ाई लिखाई में भी काफी तेज होने लगता है इसीलिए बच्चों को अंडे का सेवन करवाना बेहद फायदेमंद माना जाता है

क्योंकि दिमाग को विकसित करने के साथ-साथ अंडा बच्चों के शरीर में ऊर्जा का स्तर भी बनाए रखता है और उन्हें अंडे का सेवन करने के पश्चात दिनभर खेलने कूदने के लिए उर्जा भी प्राप्त होती हैं, क्योंकि अंडे में प्रोटीन भी काफी अधिक मात्रा में पाया जाता हैं। यदि कोई बच्चा अपनी उम्र के हिसाब से काफी पतला है तो उस बच्चे को भी रोजाना नाश्ते में अंडे का सेवन करवाना चाहिए, क्योंकि अंडे में फैट भी पाया जाता है जो कि बच्चों को मोटा होने में भी मदद करता हैं।

5. मछली

जब भी बच्चों का दिमाग विकसित करने की बात आती है तो सबसे पहले मछली का नाम भी लिया जाता हैं, क्योंकि मछली का सेवन करने के पश्चात भी बच्चों का दिमाग काफी तेजी से विकसित होता है इसीलिए भारत के अतिरिक्त दूसरे देशों में बच्चों को मछली का सेवन भी करवाया जाता हैं, क्योंकि मछली में बहुत से ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कि बच्चों का दिमाग काफी तेजी से विकसित करते हैं

इसीलिए मछली का सेवन करने वाले बच्चे दूसरे बच्चों की अपेक्षा काफी कुर्तीले तथा इंटेलिजेंट भी होते हैं, क्योंकि मछली खाने से इनमें पूरे दिन ऊर्जा तो बनी ही रहती है इसी के साथ-साथ इनके शरीर में पोषक तत्वों की भी कमी पूरी हो जाती है। इसीलिए अगर आप अपने बच्चे को मांसाहारी भोजन खिला सकती है तो उन्हें मछली का सेवन जरूर करवाएं।

6. साबुत अनाज से बना आहार

आप अपने बच्चे को सबूत से बने आहार का सेवन भी करवा सकती हैं, क्योंकि साबुत अनाज से बना आहार भी बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता हैं। साबूत अनाज से बने आहार में बहुत से ऐसे गुण होते हैं जो कि आपके बच्चे का विकास काफी तेजी से विकसित करते हैं। इसीलिए अपने छोटे बच्चों को आप सुबह नाश्ते में दलिया तथा ओट्स का सेवन करवा सकते हैं

ताकि उन्हें भी दूसरे बच्चों की तरह Inteligent बनने में मदद मिले आज के समय में तो बाजार में मसाले वाला साबुत अनाज से बना हर भी मिलने लगा है जो कि बच्चों को खाने में भी काफी मजेदार लगता है इसलिए बच्चे उसे आसानी से खा भी लेते हैं।

Gas Problem in Babies: नवजात शिशुओं के पेट में गैस क्यों बनती है – जानिए शिशु के पेट में गैस बनने के कारण, लक्षण व उपाय ?

7. पालक का सेवन

पालक भी बच्चों का दिमाग विकसित करने के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। अगर आप अपने बच्चों को हफ्ते में दो से तीन बार पालक की सब्जी का सेवन करवाते हैं तो यह आपके बच्चे के मस्तिष्क के लिए बेहद फायदेमंद रहता हैं, क्योंकि पालक में भी बहुत से ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कि बच्चे का दिमाग काफी तेजी से विकसित करते हैं दिमाग के साथ-साथ पालक बच्चों के शारीरिक विकास में भी सहायक होता हैं।

इसीलिए आप अपने छोटे बच्चों को पालक जरूर खिलाएं आप अपने बच्चों को पालक सलाद के माध्यम से भी खिला सकते हैं या फिर सुबह नाश्ते में उन्हें पालक मिक्स करके सैंडविच भी बना कर दे सकती हैं या फिर पालक की सब्जी भी बनाकर खिला सकती हैं आपका बच्चा जिस प्रकार भी पालक खा सकता है आप उसे उसी प्रकार पालक खिलाने की कोशिश करें।

Boost Baby's Brainpower

8. हल्दी वाला दूध

वैसे तो अक्सर जब किसी व्यक्ति को चोट लग जाती है या फिर उसकी हड्डियों में दर्द रहता है तो इस प्रकार के व्यक्तियों को हल्दी वाला दूध पीने की सलाह दी जाती है लेकिन हम आपको बता दें कि हल्दी और दूध दोनों ही बच्चे के विकास के लिए सहायक होते हैं और यह पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, इसीलिए हल्दी और दूध दोनों ही बच्चे के शरीर के हर एक अंग के विकास के लिए सहायक हैं।

यदि आप रोज रात को अपने बच्चों को एक गिलास दूध में एक चम्मच हल्दी डालकर पिलाती हैं तो इस प्रकार आपके बच्चे के शरीर के हर एक अंग का विकास होता है और इसी के साथ साथ आपके बच्चे का दिमाग काफी ज्यादा तेज हो जाता है जिससे कि वह पढ़ाई लिखाई में अपनी कक्षा के किसी भी छात्र से पीछे नहीं रहता, इसलिए आपको रोजाना अपने बच्चों को हल्दी वाला दूध जरूर पिलाना चाहिए।

9. दही का सेवन

डॉक्टरों के द्वारा यह भी कहा जाता है की दही में ऐसे गुण भी मौजूद होते हैं जो कि बच्चे के विकास के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होते हैं दही को दूध से भी ज्यादा फायदेमंद माना जाता हैं, इसीलिए अगर आप अपने बच्चों को रोजाना दही का सेवन करवाते हैं या फिर आप अपने बच्चों को रोजाना खाने के साथ भी दही खिला सकती हैं। इसके अतिरिक्त दही को आप लस्सी के रूप में भी अपने बच्चों को खिला सकती हैं। दही दिमाग तेज करने के साथ-साथ बच्चों के शरीर के बाकी अंगों के लिए भी सहायक मानी जाती हैं। इसीलिए अपने बच्चों को दही जरूर खिलाएं।

10. ताजे फलों का सेवन

आप यदि चाहते हैं कि आपका बच्चा कभी भी अपनी कक्षा के किसी छात्र से पीछे ना रहे तो आपको उसे ताजे फलों का सेवन भी करवाना चाहिए, क्योंकि ताजे फलों में भी वह सब गुण मौजूद होते हैं जो कि बच्चे के मस्तिष्क के अच्छे विकास के लिए काफी सहायक होते हैं। इसीलिए आप अपने बच्चों को ताजे फलों का सेवन भी करवा सकती हैं ताजे फलों के रूप में आप अनार, अमरुद, संतरा, सेब, पपीता, कीवी, केला, मौसमी तथा तरबूज आदि का सेवन करवा सकती हैं। अगर आपका बच्चा फलों को खाना पसंद नहीं करता तो आप उसे फलों का जूस भी बनाकर पिला सकती हैं।

11. पानी का सेवन भरपूर मात्रा में करवाएं

  • बहुत से बच्चों में यह आदत भी होती है कि वह पानी बहुत ज्यादा कम पीते हैं जिसकी वजह से अक्सर उन्हें कब्ज की समस्या का सामना भी करना पड़ता है। अगर किसी बच्चे के शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो उसके कारण भी उसके दिमाग का विकास रुक सकता हैं,
  • क्योंकि आपको पता होना चाहिए कि हमारे दिमाग का लगभग आधे से भी ज्यादा हिस्सा पानी से बना होता है और आपने अक्सर इस बात को कभी ना कभी महसूस भी किया होगा कि जब आपको बहुत ज्यादा गुस्सा आ रहा होता है या फिर आप बहुत ज्यादा टेंशन में होते हैं तो उस समय अगर आप एक गिलास पानी पी ले तो आपको काफी अच्छा महसूस होता है।
  • ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारा दिमाग भी पानी से ही बना होता है यदि हम अधिक से अधिक मात्रा में पानी पीते हैं, तो इसके कारण हमारे मस्तिष्क को भी विकसित होने में सहायता मिलती है। इसलिए आपको बचपन से ही अपने बच्चों को ऐसी आदत डालनी चाहिए कि वह भरपूर मात्रा में पानी पिए यदि बच्चे बचपन से ही कम पानी पिएंगे तो उनके दिमाग को भी विकसित होने में अधिक समय लग सकता है।
Boost Baby's Brainpower

12. हरी सब्जियां खिलाइए

आपको अपने बच्चों को हर एक प्रकार की हरी सब्जी का सेवन करवाना चाहिए, क्योंकि हरी सब्जियां सभी प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं और बच्चे के दिमाग के विकास में भी काफी ज्यादा सहायक मानी जाती हैं। इसलिए आपको अपने बच्चों को बचपन से ही ऐसी आदत डालनी चाहिए कि वह हमेशा ही हरी सब्जी को खाना पसंद करें।

13. दालें हैं फायदेमंद

छोटे बच्चों के दिमाग के विकास के लिए दालें भी काफी ज्यादा फायदेमंद मानी जाती हैं, क्योंकि दालों में भी वह सभी पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो कि बच्चे के शरीर को चाहिए होते हैं, इसलिए आपको हफ्ते में दो से तीन बार अपने बच्चों को दालों का सेवन भी करवाना चाहिए। यदि आपका बच्चा दाल के साथ रोटी खाना पसंद नहीं करता तो आप अपने बच्चे को सूप की तरह भी दाल पिला सकते हैं। इस प्रकार भी दाल बच्चे के शरीर को भरपूर मात्रा में पोषक तत्व प्रदान करेगी।

अगर आपको अपने बच्चे का दिमाग तेज करना हैं, तो आपको अच्छे खाने के साथ-साथ और भी बहुत सी चीजों का ख्याल रखना पड़ेगा जिससे कि आपके बच्चे का दिमाग तेज होता है जैसे कि :-

1. पजल गेम सॉल्व करवाएं

आपको अपने बच्चों को कुछ ऐसी Puzzle Game Solve करने के लिए देनी चाहिए जिन्हें Solve करने के लिए बहुत ज्यादा दिमाग खर्च करना पड़ता हो। यदि आपका बच्चा ज्यादा से ज्यादा दिमाग उस Game को Solve करने में लगाएगा, तो इस प्रकार भी आपके बच्चे का दिमाग काफी तेजी से विकसित होता हैं, क्योंकि यह एक प्रकार की दिमाग की एक्सरसाइज होती है और यदि आपका बच्चा रोजाना इस एक्सरसाइज को करता हैं, तो इस प्रकार उसका दिमाग तेज होता चला जाता है।

Boost Baby's Brainpower

2.  गणित पर ज्यादा ध्यान देना

आपको अपने बच्चों को बचपन से ही गणित पर ज्यादा ध्यान देना सिखाना चाहिए, क्योंकि गणित पर ज्यादा ध्यान देने से बच्चे बचपन से ही काफी ज्यादा इंटेलिजेंट बन जाते हैं। इसीलिए आपको अपने बच्चों को बचपन से ही गणित में एक्सपोर्ट कर देना चाहिए, ताकि जब तक वह बड़े हो तब तक उनका दिमाग पूरी तरह से विकसित हो जाए और वह अपने साथ पढ़ रहे किसी भी छात्र से पीछे ना रहे।

3. रोजाना एक्सरसाइज करवाएं

 आपको अपने छोटे बच्चों को रोजाना एक्सरसाइज करवानी चाहिए। एक्सरसाइज मतलब कि आपको उन्हें थोड़ी रनिंग करवानी चाहिए और सामान्य एक्सरसाइज करवानी चाहिए, ताकि बचपन से ही उन्हें एक्सरसाइज करने की आदत पड़ जाए आपको पता होना चाहिए कि यदि बच्चे बचपन से ही एक्सरसाइज पर ध्यान देते हैं, तो उसके कारण भी उनका दिमाग काफी जल्दी विकसित होता है।

4. खेलकूद है जरूरी

अगर आप अपने बच्चों के दिमाग का सही विकास करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको बचपन से ही अपने बच्चों को खेलने कूदने से नहीं रुकना चाहिए यदि उन्हें कोई खेल खेलने में रुचि है तो आपको उन्हें उस खेल को लेकर प्रोत्साहित करना चाहिए। यदि बच्चे बचपन से ही खेलते कुत्ते हैं, तो इस प्रकार भी उनके मस्तिष्क का विकास काफी अच्छे तरीके से होता हैं। आपको अपने बच्चों को हमेशा खेलकूद की तरफ से ध्यान देने के लिए कहना चाहिए।

5. बच्चों के सवालों का सही जवाब देना

जब बच्चों का दिमाग विकसित हो रहा होता हैं, तो उस समय वह अपने मां-बाप से बहुत से ऐसे सवाल भी पूछते हैं जो कि थोड़ा हटकर होते हैं। अगर कुछ सवाल का जवाब देने लायक है तो आपको अपने बच्चों को उन सवालों के जवाब जरूर देनी चाहिए, क्योंकि अगर आपका बच्चा अलग-अलग तरह के सवाल पूछता है और आप उसको उसके बारे में बताते हैं तो इस प्रकार की बच्चे का दिमाग काफी तेजी से विकसित होता हैं।

6. सिर में तेल की मालिश करना

जब आपके बच्चे छोटे होते हैं तो आपको अपने बच्चों के तेल की मालिश भी करनी चाहिए। आप अपने बच्चे के सिर की मालिश करने के लिए जैतून के तेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं, क्योंकि जैतून का तेल प्राचीन काल से औषधि के रूप में भी इस्तेमाल होता आया है, यह बच्चे के दिमाग की सारी नसों को भी खोल देता हैं। जब आप अपने बच्चे के सिर पर मालिश करते हैं, तो उसके मस्तिष्क को काफी ज्यादा आराम मिलता है और मस्तिष्क के बेहतर विकास के लिए मस्तिष्क को आराम देना काफी आवश्यक होता हैं।

7. बचपन से ही दुनियादारी के बारे में समझाइए

आपकी बच्चे को दुनियादारी की समझ में ना बेहद ही आवश्यक हैं। यदि आप बचपन से ही उन्हें इस प्रकार तैयार करते हैं कि उन्हें दुनियादारी की पूरी समझ हो जाती है तो इस प्रकार भी आपके बच्चे का दिमाग दूसरे बच्चों के अपेक्षा काफी ज्यादा विकसित हो जाता है, इसीलिए आपके बच्चों को दुनियादारी की समझ होना बेहद ही आवश्यक हैं।

8. बच्चों को बाजार की चीजें कम खिलाएं

आपको अपने बच्चों को बाजार की चीजें कम से कम खिलानी चाहिए, ज्यादातर बच्चे बाजार की चीजों पर काफ़ी ज्यादा ध्यान देते हैं जिसकी वजह से उनके दिमाग को विकसित होने के लिए सही पोषण नहीं मिल पाता। इसीलिए आपको अपने बच्चों को बाजार की चीजे ज्यादा नहीं खिलानी चाहिए।

Boost Baby's Brainpower

9. मोबाइल फोन की आदत ना पड़ने दे

आज के समय में छोटे-छोटे बच्चों को भी काफी अच्छी तरह मोबाइल चलाना आता हैं, क्योंकि उनके मां-बाप उनके लिए समय नहीं निकाल पाते और वह अपने बच्चों को मोबाइल फोन दे देते हैं जिसकी वजह से वह मोबाइल फोन को ही अपना दोस्त बना लेते हैं और मोबाइल फोन में गेम खेलने के लिए अधिक से अधिक समय बिताते हैं। यदि उन्हें बचपन से ही इस प्रकार मोबाइल फोन की आदत पड़ जाती है तो एक समय ऐसा आता है कि उनके दिमाग का विकास रुक जाता हैं उनका दिमाग सिर्फ मोबाइल फोन के बारे में ही सोचने लगता है।

10. बोतल की आदत ना पढ़ने दे

आपको बचपन में ज्यादा से ज्यादा समय तक अपने छोटे बच्चों को बोतल से दूध नहीं पिलाना चाहिए। अक्सर ऐसा होता है कि बच्चे तीन-चार चार साल की उम्र के हो जाते हैं लेकिन फिर भी वह बोतल की सहायता से ही दूध पीना जानते हैं। हम आपको बता दें की बोतल की सहायता से दूध पीने के कारण भी आपके बच्चे का विकास रुक सकता है। इसलिए अपने बच्चे को जल्दी ही कप या गिलास से दूध पीने की आदत डाल दें।

Conclusion –

बच्चे का दिमाग किस प्रकार बचपन में विकसित हो सकता है इसके बारे में हमने आपको पूरी जानकारी दे दी है। आप यदि बच्चे के खाने पीने खेलने कूदने जा थोड़ी सी आदतों में कुछ परिवर्तन कर देते हैं तो उनसे ही आप अपने बच्चे के दिमाग को काफी ज्यादा विकसित कर सकती हैं। इसके अतिरिक्त आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने Ways to Boost Baby’s Brainpower In Hindi तथा Bacho Ka Dimag Kaise Tez Kare इसके बारे में बताया हैं।

इसी के साथ-साथ हमने आपको  Bacho Ka Dimag Badhane Ka Tarika भी बताया है अभी-अभी आपको हमसे Bacho Ka Dimag Tez Karne Ka Upay से संबंधित कोई भी सवाल पूछना हैं, तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करें। धन्यवाद

लेटेस्ट लेख

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

Low Ejection Fraction: लो इजेक्शन फ्रैक्शन क्या है? जानिए लो इजेक्शन फ्रैक्शन के लक्षण एवं बचाव

More Articles Like This